तालिबान की मदद कर बुरे फंसे इमरान! पाक पर कार्रवाई की उठी मांग, अमेरिकी सांसद ने कहा- बंद हो मदद, लगे प्रतिबंध

पकिस्तान की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। अमेरिकी सांसद एडम किनजिंगर ने कहा है कि अगर तालिबान की मदद पाकिस्तान कर रहा है तो उसे दी जा रही मदद बंद करनी देनी चाहिए और प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

पाकिस्तान की मुश्किलें आने वाले दिनों में बढ़ सकती हैं। अफगानिस्तान में पंजशीर की लड़ाई में तालिबान का साथ देने के आरोपों से घिरे पाकिस्तान के खिलाफ अमेरिका में कार्रवाई की मांग उठी है। अमेरिकी सांसद एडम किनजिंगर ने कहा है कि अगर तालिबान की मदद पाकिस्तान कर रहा है तो उसे दी जा रही मदद बंद करनी देनी चाहिए और प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए। अमेरिका के फॉक्स न्यूज चैनल के अनुसार, पंजशीर में पाकिस्तान की स्पेशल फोर्सेज, उनके हेलिकॉप्टर और ड्रोन तालिबान की मदद कर रहे हैं।

एक तरफ तालिबान की मदद के आरोपों से पाकिस्तान घिरा है। वहीं दूसरी तरफ उसी पाकिस्तान के पत्रकारों को तहरीक-ए-तालिबान की धमकी का सामना करना पड़ रहा है। पाकिस्तानी पत्रकार खौफ में हैं। तहरीक-ए-तालिबान ने हाल ही में पाकिस्तान के पत्रकारों को धमकी दी थी कि वो तालिबान के खिलाफ बोलने से बचें। अब तालिबान की इस धमकी के बाद पत्रकारों में दहशत हैं। तहरीक-ए-तालिबान एक प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन है और पाकिस्तान में इस संगठन ने पनाह ले रखी है। टीटीपी के प्रवक्ता मोहम्मद खुरासानी ने एक बयान जारी कर कहा था कि पत्रकार उनके लिए आतंकवादी संगठन शब्द का इस्तेमाल ना करें। इस धमकी के बाद दहशत में आए पत्रकारों ने इमरान खान सरकार से सुरक्षा की गुहार लगाई है।


पाकिस्तान फेडरल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट के अध्यक्ष शहजादा जुल्फिकार और सेक्रेट्री जनरल नासिर जैदी ने धमकी को लेकर चिंता व्यक्त की है। जो पत्रकार ब्लूचिस्तान और खैबर पखतून्ख्वाह में काम कर रहे हैं खासकर उनकी सुरक्षा का जिक्र यूनियन के सदस्यों ने किया है। पत्रकार संघ ने दो प्रांतों ब्लूचिस्तान और खैबर पखतून्ख्वाह में पिछले कुछ दिनों 30 पत्रकारों की हत्या किये जाने को लेकर चिंता जाहिर भी की है।

पीएफयूजे ने यह भी कहा कि आतंकवादी संगठन देश में मीडिया से जुड़े लोगों को निशाना बना रहे हैं। संघ के सदस्यों ने कहा कि यह वह समय है जब पीएम इमरान को पत्रकारों की मांगों माननी चाहिए और उनकी सुरक्षा पर ध्यान देना चाहिए। पत्रकार संघ ने कहा कि हमने मीडिया समूहों के मालिकों को सलाह दी है कि उन्हें अपने कर्मचारियों को लाइफ इंश्योरेंस देना चाहिए।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 09 Sep 2021, 10:27 AM