पाकिस्तान: अविश्वास प्रस्ताव से पहले इमरान ने विरोधियों पर बोला जोरदार हमला, कहा- मैं किसी भी कीमत पर पद नहीं छोड़ूंगा

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने देश के प्रधानमंत्री पद से हटने के लिए उन पर बन रहे दबाव के आगे नहीं झुकने की कसम खाई है। उन्होंने विपक्षी दलों को 'भ्रष्ट', 'चोर' और 'धोखेबाज' बताते हुए कहा कि वह उन्हें अपना शस्त्रागार कभी नहीं देंगे।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

आईएएनएस

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने देश के प्रधानमंत्री पद से हटने के लिए उन पर बन रहे दबाव के आगे नहीं झुकने की कसम खाई है। उन्होंने विपक्षी दलों को 'भ्रष्ट', 'चोर' और 'धोखेबाज' बताते हुए कहा कि वह उन्हें अपना शस्त्रागार कभी नहीं देंगे। खान ने कहा कि विपक्ष कमजोर स्थिति में है, क्योंकि उनके सभी पत्ते बेनकाब हो गए हैं, जबकि उनके पास अभी भी तुरुप का पत्ता है, जो वह अविश्वास प्रस्ताव से एक दिन पहले दिखाएंगे।

खान ने कहा, "यह किसी का भ्रम होगा कि मैं इस्तीफा दे दूंगा और घर चला जाऊंगा। क्या मुझे चोरों की मांग पर इस्तीफा देना चाहिए।" उन्होंने कहा, "मैं भविष्यवाणी कर रहा हूं कि हम अविश्वास प्रस्ताव का मैच जीतेंगे। लोग (सहयोगी और दलबदल पार्टी के सदस्य) अक्सर सत्ताधारी दलों से नाखुश हो जाते हैं।"


पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) ने विपक्षी दलों के सहयोगियों और नेशनल असेंबली के सदस्यों का समर्थन हासिल करने के दावों की आलोचना करते हुए कहा, "विपक्ष को यह भी नहीं पता कि अविश्वास प्रस्ताव के दिन कितने लोग सदन से निकल जाएंगे।"

उन्होंने कहा, "पीपीपी (पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी) और पीएमएल-एन (पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज) की राजनीति अपनी चोरी को छिपाने के इर्द-गिर्द घूमती है। पीपीपी के आसिफ अली जरदारी की विचारधारा पैसा है। मैं शहबाज शरीफ जैसे बड़े अपराधियों के साथ क्यों बैठूं।"


खान ने यह भी कहा कि मौजूदा राजनीतिक उथल-पुथल के बीच बाहरी तत्व पाकिस्तानी सेना को बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा, "एक मजबूत देश के लिए एक मजबूत सेना पहली जरूरत है। पाकिस्तान तीन टुकड़ों में बंट जाता, अगर वह सेना पर भरोसा नहीं करता। राजनीति के लिए सेना को बदनाम नहीं किया जाना चाहिए।"

नेशनल असेंबली के 25 मार्च के सत्र से पहले खान का आत्मविश्वास, जहां उनके खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश किया जाना है, यह संकेत देता है कि उनकी पार्टी ने मतदान की तारीखें बढ़ाने और उस समय का उपयोग करने के लिए पहले से ही एक रणनीति तैयार की है।



केंद्रीय गृहमंत्री शेख रशीद ने कहा, "नेशनल असेंबली के सत्र के पहले दिन एक सांसद के निधन के कारण कार्यवाही स्थगित हो जाएगी। अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान 30 मार्च से 1 अप्रैल के बीच हो सकता है।

इस समय इमरान खान का प्रधानमंत्रित्व सहयोगी दलों के साथ-साथ उनकी पार्टी के दलबदल कर चुके सदस्यों को मनाने के लिए संघर्ष कर रहा है। हालांकि, कुछ विपक्षी दलों ने सरकार के सामने अपनी आपत्तियां और मांगें रखीं। इस बात की बहुत अधिक संभावना है कि इमरान खान के नेतृत्व वाली सरकार उनकी मांगों को पूरा करने और उन्हें प्रधानमंत्री के खिलाफ विपक्षी समर्थन से दूर करने के लिए जो कर सकती है, करेगी।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia