डोनाल्ड ट्रंप की मौजूदगी में इजरायल ने यूएई और बहरीन के साथ ऐतिहासिक समझौते पर किए हस्ताक्षर

समझौते पर हस्ताक्षर होने के साथ ही यूएई और बहरीन क्रमशः तीसरे और चौथे देश बन गए जिनका इजरायल के साथ राजनयिक संबंध है। इससे पहले 1979 में मिस्र और 1994 में जॉर्डन ने इजरायल के साथ शांति समझौते पर हस्ताक्षर किए थे।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

इजरायल ने राजनयिक संबंध सामान्य करने के लिए संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) और बहरीन के साथ व्हाइट हाउस में समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप, इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू, यूएई के विदेश मंत्री शेख अब्दुल्लाह बिन जैयद अल-नहयान और बहरीन के विदेशी मंत्री अब्दुलातीफ बिन रशीद अल जयानी समझौते के दौरान मौजूद थे।

इस समझौते पर हस्ताक्षर होने के साथ ही यूएई और बहरीन क्रमशः तीसरे और चौथे देश बन गए जिनका इजरायल के साथ राजनयिक संबंध है। इससे पहले 1979 में मिस्र और 1994 में जॉर्डन ने इजरायल के साथ शांति समझौते पर हस्ताक्षर किए थे।

कहा जा रहा है कि इस समझौते को पूरा करने में अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप का बहुत बड़ा योगदान है और ट्रंप प्रशासन इसे उनकी विदेश नीति की बड़ी उपलब्धि मान रहा है। उन्हें आने वाले राष्ट्रपति चुनाव में इजरायल समर्थक ईसाईयों के समर्थन मिलने की उम्मीद है।

यूएई और बहरीन का इजरायल के साथ कभी युद्ध नहीं हुआ है और दोनों अरब देशों के इजरायल के साथ गैर आधिकारिक रुप से रिश्ते वर्षों से विकसित होते आ रहे हैं। श्री नेतन्याहू ने कहा कि इजरायल, यूएई और बहरीन साझेदारी, समृद्धि और शांति के साथ भविष्य में निवेश करने के लिए उत्सुक हैं।

पिछले हफ्ते ही ट्रंप ने ऐलान किया था कि यूएई के अलावा बहरीन भी इजराइल के साथ अपने संबंधों को सामान्य करने और एक समझौते तक पहुंच गया है। राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा था कि यह हस्ताक्षर समारोह क्षेत्र में शांति की दिशा में एक नये युग की शुरुआत करेगा।

लोकप्रिय
next