अमेरिका में भारतीय मूल के पुलिस अधिकारी को मारी गोली, घरेलू विवाद सुलझाने के दौरान हुआ हमला

परमहंस देसाई 17 साल से कानून प्रवर्तन में थे। पिछले साल हेनरी काउंटी पुलिस बल में शामिल होने से पहले वह जॉर्जिया स्टेट डिपार्टमेंट ऑफ करेक्शन और डेकाल्ब काउंटी पुलिस में थे, जिसके तहत मैकडोनो आता है। पुलिस ने बताया कि उसके दो छोटे बच्चे हैं।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

अमेरिका के जॉर्जिया राज्य के मैकडोनो में एक भारतीय-अमेरिकी पुलिस अधिकारी परमहंस देसाई को एक व्यक्ति ने गोली मार दी, जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। यह घटना उस समय हुई जब देसाई एक घरेलू विवाद में दखल देते हुए आरोपी को गिरफ्तार करने की कोशिश कर रहे थे। देसाई पर हमला उस समय हुआ है जब पुलिस विरोधी आंदोलन के खिलाफ प्रतिक्रिया बढ़ रही है जो पिछले हफ्ते के चुनावों में डेमोक्रेटिक पार्टी के लिए झटके में प्रदर्शित हुई थी।

स्थानीय काउंटी शेरिफ रेजिनाल्ड स्कैंड्रेट ने बताया कि 38 वर्षीय परमहंस देसाई को चार नवंबर की शाम को जॉर्जिया राज्य के मैकडोनो में एक घर में उस समय गोली मार दी गई थी जब उन्होंने आरोपी को गिरफ्तार करने की कोशिश की थी। स्कैंडेट ने कहा कि हमलावर ने हथकड़ी खींच ली और देसाई को गोली मार कर गाड़ी में से फरार हो गया।

महान बास्केटबॉल खिलाड़ी शकील ओ'नील, जो उसी कस्बे में रहते हैं, उन्होंने अधिकारी को गोली मारने वाले व्यक्ति की गिरफ्तारी और दोषसिद्धि के लिए 5,000 डॉलर का इनाम देने की पेशकश की है। इसके अलावा, कानून प्रवर्तन एजेंसियों ने भी कुल 25,000 डॉलर के ईनाम की घोषणा की है।


पुलिस ने कथित हमलावर की पहचान जॉर्डन जैक्सन के रूप में की है। स्कैंड्रेट ने संवाददाता सम्मेलन में कहा, "जैक्सन, आप जिस भी छेद में हैं, मैं आपको विश्वास दिलाता हूं, हम आपको ढूंढ लेंगे, हम आपको हिरासत में रखेंगे और हम आपको न्यायालय के सामने खड़ा करेंगे।
पुलिस ने शनिवार को ही देसाई को गोली लगने वाले अधिकारी के रूप में पहचाना और कहा कि उनकी हालत गंभीर है।

अटलांटा में फॉक्स 5 टीवी ने कहा कि वह 17 साल से कानून प्रवर्तन में था, पिछले साल हेनरी काउंटी पुलिस बल में शामिल होने से पहले जॉर्जिया स्टेट डिपार्टमेंट ऑफ करेक्शन और डेकाल्ब काउंटी पुलिस के लिए काम कर रहा था, जिसका अधिकार क्षेत्र मैकडोनो पर है, जो अटलांटा से लगभग 50 किमी दूर है। पुलिस ने बताया कि उसके दो छोटे बच्चे हैं।

बता दें कि पिछले एक साल में अमेरिका भर में हिंसक अपराधों में वृद्धि हुई है, जिसमें हत्याएं 29 प्रतिशत की उछाल के साथ 27,570 तक पहुंच गई हैं, क्योंकि पुलिस संयम दिखाती है कि ऐसा न हो कि उन्हें निशाना बनाया जाए। देसाई को गोली मारने वाले संदिग्ध की पुलिस द्वारा प्रसारित तस्वीर में वह एक गैर-श्वेत अल्पसंख्यक व्यक्ति प्रतीत होता है। आरोप लग रहे हैं कि जब देसाई को गोली लगी तो पुलिस ने जवाबी फायरिंग नहीं की।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia