यूएन में कश्मीर पर पाक-चीन की तिकड़म नाकाम, भारत के प्रतिनिधि अकबरुद्दीन ने पाक को लताड़ा

संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर के मुद्दे को उठाने पर यूएनएससी में भारत के प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने पाकिस्तान को जमकर लताड़ा। उन्होंने कड़े शब्दों में कहा कि अनुच्छेद 370 भारत का आंतरिक मामला है और इसमें बाहरी लोगों को दखल देने की कोई जरूरत नहीं है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) में कश्मीर के मुद्दे पर पाकिस्तान और चीन को तगड़ा झटका लगा है। सुरक्षा परिषद में कश्मीर पर चीन समर्थित पाकिस्तान की पहल को कोई समर्थन नहीं मिला। खबर है कि बैठक में सुरक्षा परिषद ने माना है कि कश्मीर का मसला दोनों देशों का द्विपक्षीय मसला है। सुरक्षा परिषद में शामिल कई देश बैठक से पहले से भारत के समर्थन में थे। रूस के प्रतिनिधि ने भी लगातार ट्वीट कर कश्मीर के मुद्दे को द्विपक्षीय बताते हुए पाक-चीन के पहल की हवा निकाल दी।

वहीं पाकिस्तान द्वारा कश्मीर के मुद्दे को संयुक्त राष्ट्र में उठाए जाने पर यूएनएससी में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने पाकिस्तान को जमकर लताड़ा। उन्होंने कड़े शब्दों में कहा कि अनुच्छेद 370 भारत का आंतरिक मामला है और इसमें बाहरी लोगों को दखल देने की कोई जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि भारत अपनी नीति पर हमेशा की तरह कायम है।


सैयद अकबरुद्दीन ने पाकिस्तान को आतंकवाद के मुद्दे पर लताड़ते हुए कहा कि वह जेहाद के नाम पर भारत में हिंसा फैला रहा है। पाक पत्रकारों के पूछने पर उन्होंने कहा कि हिंसा किसी भी मसले का हल नहीं है और कश्मीर को लेकर भारत-पाक के बीच के विवाद सिर्फ बातचीत से सुलझाए जाएंगे। साथ ही उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को आतंकवाद फैलाना बंद करना होगा। इस दौरान पाकिस्तानी पत्रकारों द्वारा बातचीत शुरू होने के समय पर पूछे गए सवाल पर उन्होंने पत्रकारो के पास आकर उनसे हाथ मिलाते हुए कहा, अभी आपसे हाथ मिलाकर इसकी शुरुआत करते हैं।”

सैयद अकबरुद्दीन ने कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने पर स्पष्ट करते हुए कहा कि भारत ने जम्मू-कश्मीर के सामाजिक और आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए यह फैसला लिया है और सरकार धीरे-धीरे वहां से पाबंदियां हटा रही है। उन्होंने जोर देकर कहा, “मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि भारत एक संपन्न और जीवंत लोकतंत्र है और हम इसी को जीते हैं।”

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 16 Aug 2019, 11:40 PM