ब्रिटेन में चरम पर पहुंची मंहगाई, खुदरा मुद्रास्फीति 2011 के बाद उच्चतम स्तर पर

ब्रिटिश उपभोक्ता दशकों में सबसे अधिक मूल्य वृद्धि का सामना कर रहे हैं। अप्रैल तक 12 महीनों में मुद्रास्फीति 9 प्रतिशत की वृद्धि के साथ बैंक ऑफ इंग्लैंड को उम्मीद है कि यह साल के आखिर में 10 प्रतिशत से थोड़ा अधिक औसत तक बढ़ेगा।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

ब्रिटेन की खुदरा मुद्रास्फीति में वृद्धि दर्ज की गई है। मई में मुद्रास्फीति की दर बढ़कर 2.8 फीसदी हो गई, जो अप्रैल में 2.7 फीसदी थी। यह दर जुलाई 2011 के बाद से सबसे ज्यादा है। समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने ब्रिटिश रिटेल कंसोर्टियम द्वारा जारी रिपोर्ट के हवाले से कहा कि ब्रिटेन में खाद्य मुद्रास्फीति मई में 4.3 प्रतिशत पर पहुंच गई, जो अप्रैल में 3.5 प्रतिशत थी और अप्रैल 2012 के बाद सबसे अधिक है।

डिकिंसन के अनुसार, ताजा खाद्य मुद्रास्फीति नवंबर 2012 के बाद से अपने उच्चतम दर 4.5 प्रतिशत पर पहुंच गई। जिसमें मुर्गी पालन और मक्खन के विकल्प के रूप में इस्तेमाल किए जाने वाले मार्जरीन जैसी वस्तुओं में वृद्धि देखी गई। इसके पीछे का कारण पशुओं के चारे की बढ़ती लागत और वैश्विक खाद्य कीमतों का बढ़ना माना जा रहा हैं।


अप्रैल में लगभग 22 मिलियन ग्राहकों के लिए ब्रिटेन की ऊर्जा मूल्य कैप 1,277 पाउंड (1,591 डॉलर) से बढ़कर 1,971 पाउंड प्रति वर्ष हो गई। ऊर्जा नियामक ने मई में चेतावनी दी थी कि अक्टूबर में यह सीमा बढ़कर लगभग 2,800 पाउंड प्रति वर्ष होने की उम्मीद है।

ब्रिटिश उपभोक्ता दशकों में सबसे अधिक मूल्य वृद्धि का सामना कर रहे हैं। अप्रैल तक 12 महीनों में मुद्रास्फीति 9 प्रतिशत की वृद्धि के साथ बैंक ऑफ इंग्लैंड को उम्मीद है कि यह साल के आखिर में 10 प्रतिशत से थोड़ा अधिक औसत तक बढ़ेगा।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia