अर्थ जगत: निवेश फर्म फिडेलिटी ने पाइन लैब्स, मीशो के मूल्यांकन घटाए और मुनाफावसूली से शेयर बाजार में गिरावट

घरेलू शेयरों में मुनाफावसूली का सिलसिला गुरुवार को भी जारी रहा और एक बार फिर गिरावट आई और अंत में नुकसान की आधी भरपाई हो पाई। वैश्विक निवेश फर्म फिडेलिटी ने फिनटेक यूनिकॉर्न पाइन लैब्स और ई-कॉमर्स कंपनी मीशो का मूल्यांकन कम कर दिया है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

ज़ोमैटो को 'ऑनलाइन भुगतान एग्रीगेटर' के रूप में काम करने के लिए आरबीआई की मंजूरी मिली

अर्थ जगत: निवेश फर्म फिडेलिटी ने पाइन लैब्स, मीशो के मूल्यांकन घटाए और मुनाफावसूली से शेयर बाजार में गिरावट

ऑनलाइन फूड डिलीवरी प्लेटफॉर्म जोमैटो ने गुरुवार को घोषणा की कि उसकी पूर्ण स्वामित्व वाली इकाई जोमैटो पेमेंट्स प्राइवेट लिमिटेड (जेडपीपीएल) को भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) से 'ऑनलाइन भुगतान एग्रीगेटर' के रूप में काम करने के लिए प्राधिकार प्रमाणपत्र मिल गया है।

प्राधिकार 24 जनवरी से प्रभावी हुआ। ज़ोमैटो ने एक एक्सचेंज फाइलिंग में कहा, "हम सूचित करना चाहते हैं कि आरबीआई द्वारा जारी दिशानिर्देशों के अनुसार, जेडपीपीएल को 24 जनवरी 2024 से देश में 'ऑनलाइन भुगतान एग्रीगेटर' के रूप में काम करने के लिए आरबीआई से प्राधिकार प्रमाणपत्र प्रदान किया गया है।"

इसके साथ, ज़ोमैटो पेमेंट्स ने खाद्य वितरण और रेस्तरां खोज से परे डिजिटल भुगतान के दायरे में अपनी भूमिका का विस्तार किया है।

मुनाफावसूली से शेयर बाजार में गिरावट

मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के खुदरा अनुसंधान प्रमुख सिद्धार्थ खेमका ने कहा कि घरेलू शेयरों में मुनाफावसूली का सिलसिला गुरुवार को भी जारी रहा और मासिक एफएंडओ समाप्ति के दिन एक बार फिर गिरावट आई और अंत में नुकसान की आधी भरपाई हो पाई।

दिन में कारोबार के दौरान निफ्टी 200 अंक से अधिक गिर गया लेकिन दिन के अंत में 101 अंक (- 0.5 प्रतिशत) की गिरावट के साथ 21,352 पर बंद हुआ। हालांकि व्यापक बाजार में मिला जुला रुख देखा गया। मिडकैप 100 में 0.5 प्रतिशत जबकि स्मॉलकैप 100 में 0.5 प्रतिशत की वृद्धि हुई।

आईटी, फार्मा और एफएमसीजी में बिकवाली का दबाव रहा, जबकि तेल एवं गैस, रियल्टी और पीएसयू में खरीददारी देखी गई। टेक महिंद्रा, एक्सिस बैंक और एचडीएफसी बैंक के कमजोर नतीजों का असर आईटी और निजी बैंकों पर पड़ा।


अमेरिका स्थित निवेश फर्म फिडेलिटी ने पाइन लैब्स, मीशो के मूल्यांकन घटाये

अर्थ जगत: निवेश फर्म फिडेलिटी ने पाइन लैब्स, मीशो के मूल्यांकन घटाए और मुनाफावसूली से शेयर बाजार में गिरावट

 वैश्विक निवेश फर्म फिडेलिटी ने फिनटेक यूनिकॉर्न पाइन लैब्स और ई-कॉमर्स कंपनी मीशो का मूल्यांकन कम कर दिया है। यूएस सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज कमीशन (एसईसी) के साथ नियामक फाइलिंग के अनुसार, फिडेलिटी ने पाइन लैब्स का मूल्यांकन 4.7 अरब डॉलर से घटाकर तीन बिलियन डॉलर और मीशो का मूल्यांकन पाँच अरब डॉलर से घटाकर 4.1 अरब डॉलर कर दिया।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, अमेरिका स्थित फिडेलिटी ने पहले जुलाई 2023 में दोनों कंपनियों का मूल्यांकन किया था। अमेरिका स्थित निवेश कंपनी इनवेस्को ने हाल ही में पाइन लैब्स के मूल्यांकन को 4.1 अरब डॉलर से संशोधित कर 3.9 अरब डॉलर कर दिया था।

फिडेलिटी ने अक्टूबर 2021 में मीशो के सीरीज एफ राउंड में लगभग 4.2 करोड़ डॉलर का निवेश किया था। पाइन लैब्स में फिडेलिटी का नवीनतम राउंड जुलाई 2021 में था जब सिंगापुर-पंजीकृत कंपनी ने 60 करोड़ डॉलर जुटाए थे।

जेएसडब्ल्यू स्टील का तीसरी तिमाही का शुद्ध लाभ पांच गुना बढ़कर 2,415 करोड़ रुपये

अरबपति सज्जन जिंदल की अगुवाई वाली जेएसडब्ल्यू स्टील ने गुरुवार को मजबूत घरेलू मांग के कारण चालू वित्त वर्ष की अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में अपने शुद्ध लाभ में करीब पांच गुना वृद्धि दर्ज की। कंपनी का समेकित शुद्ध लाभ तीसरी तिमाही में बढ़कर 2,415 करोड़ रुपये हो गया, जो पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 490 करोड़ रुपये था।

इस्पात निर्माता का परिचालन से राजस्व 7.2 प्रतिशत बढ़कर 41,940 करोड़ रुपये हो गया। कंपनी का इैबीआईडीटीए (ब्याज, मूल्यह्रास, कर और परिशोधन से पहले की कमाई) 57.9 प्रतिशत बढ़कर 7,180 करोड़ रुपये हो गया।

बुधवार को, टाटा स्टील ने बताया था कि मजबूत घरेलू प्रदर्शन के कारण वह फिर से लाभ में आ गई है, इससे यूरोप में कंपनी के व्यापार संचालन के घाटे की भरपाई हो गई है।


एचपीसीएल को अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में 529 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ

अर्थ जगत: निवेश फर्म फिडेलिटी ने पाइन लैब्स, मीशो के मूल्यांकन घटाए और मुनाफावसूली से शेयर बाजार में गिरावट

सार्वजनिक क्षेत्र की तेल विपणन कंपनी हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (एचपीसीएल) ने अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में 529 करोड़ रुपये का मुनाफा दर्ज किया, जो पिछले वर्ष की समान तिमाही के 172 करोड़ रुपये के आंकड़े से तीन गुना अधिक है।

हालांकि, तीसरी तिमाही का शुद्ध लाभ चालू वित्त वर्ष की पिछली जुलाई-सितंबर तिमाही के लिए तेल कंपनी द्वारा बताए गए 5,118 करोड़ रुपये के संबंधित आंकड़े से लगभग 90 प्रतिशत कम है।

एचपीसीएल की स्टैंडअलोन कुल आय तीसरी तिमाही में सालाना आधार पर 2 फीसदी बढ़कर 1.18 लाख करोड़ रुपये हो गई, जो पिछले साल की समान तिमाही में 1.16 लाख करोड़ रुपये थी। 2023-24 की तीसरी तिमाही में घरेलू बिक्री साल-दर-साल 3 प्रतिशत बढ़कर 11.3 मिलियन मीट्रिक टन (एमएमटी) हो गई।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;