ईरान ने हिंद महासागर में टैंकर पर हमला करने के आरोप को किया खारिज, अमेरिका के दावों पर कही ये बात

कनानी ने कहा कि ईरान हमेशा अंतरराष्ट्रीय जल के माध्यम से समुद्री परिवहन और व्यापार की सुरक्षा सुनिश्चित करने के प्रयासों का हिस्सा रहा है और उस उद्देश्य के लिए जिम्मेदारी से काम किया है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

ईरानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता नासिर कनानी ने सोमवार को अमेरिका के इस आरोप को खारिज कर दिया कि एक ईरानी ड्रोन ने हिंद महासागर में रासायनिक टैंकर पर हमला किया था। समाचार एजेंसी शिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने अमेरिकी रक्षा विभाग के शनिवार के बयान पर प्रतिक्रिया करते हुए तेहरान में एक संवाददाता सम्मेलन में यह टिप्पणी की। इसके पहले अमेरिका ने दावा किया था कि मोटर जहाज सीएचईएम प्लूटो पर ईरान से दागे गए ड्रोन से हमला किया गया था।

कनानी ने कहा, "अमेरिकी आरोप अंतहीन हैं," उन्होंने उन्हें "बेकार" कहकर खारिज कर दिया और कहा कि उनका उद्देश्य "वैश्विक जनमत को भटकाना और गाजा में इजरायली हमलों के लिए अमेरिकी सरकार के पूर्ण समर्थन को छिपाना है।"

कनानी ने कहा कि ईरान हमेशा अंतरराष्ट्रीय जल के माध्यम से समुद्री परिवहन और व्यापार की सुरक्षा सुनिश्चित करने के प्रयासों का हिस्सा रहा है और उस उद्देश्य के लिए जिम्मेदारी से काम किया है।


अमेरिकी रक्षा विभाग के बयान के अनुसार, रासायनिक टैंकर पर शनिवार को स्थानीय समयानुसार सुबह लगभग 10 बजे भारत के तट से 200 समुद्री मील दूर हिंद महासागर में हमला किया गया। बयान में कहा गया, " हमले में कोई हताहत नहीं हुआ और टैंकर में लगी आग बुझा दी गई है।"

पिछले हफ्तों में, कथित तौर पर यमन स्थित हौथी समूह द्वारा लाल सागर में कई वाणिज्यिक जहाजों को निशाना बनाया गया था, जिसने कहा कि उसके मिसाइल और ड्रोन हमले फिलिस्तीनी लोगों के साथ एकजुटता के संकेत के रूप में शुरू किए गए हैं।

अमेरिकी और ब्रिटिश अधिकारियों ने ईरान पर "हमलों के पीछे होने" का आरोप लगाया है, जिसे ईरान ने "निराधार" कहकर दृढ़ता से खारिज कर दिया है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;