क्या एक अमेरिकी माफी पर्याप्त है? अफगान आतंकवादी हमले में मृतकों के रिश्तेदार

विशेषकर अमेरिका मानवाधिकारों की रक्षा करने का दावा करता है, लेकिन अमानवीय युद्ध मशीन में हेरफेर करने के लिए अपने स्वयं के हाई-टेक साधनों का उपयोग करता है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

स्थानीय समय के अनुसार 17 सितंबर को अमेरिका के सेंट्रल कमांड के कमांडर मैकेंजी ने 20 दिनों के बाद अंतत: बाहरी दुनिया में इसे स्वीकार किया कि 29 अगस्त को अफगानिस्तान में अमेरिका के चालक रहित सैन्य विमान द्वारा शुरू किए गए हवाई हमलों ने आतंकवादी लक्ष्यों को नहीं मारा, लेकिन दुर्भाग्य से 10 आम लोगों की मौत हो गई, जिनमें 7 बच्चे भी शामिल थे। मैकेंजी ने खेद व्यक्त किया और घटना के लिए माफी मांगी, और कहा कि वह पूरी जिम्मेदारी लेते हैं। काबुल में चाइना मीडिया ग्रुप के रिपोर्टर ने स्थानीय समय के अनुसार 18 सितंबर को सुबह एक बार फिर हमला किए गए निवास में एक साक्षात्कार किया। हालाँकि बीस दिन बीत चुके हैं, फिर भी घटनास्थल पर हुए विस्फोट के निशान अभी भी स्पष्ट रूप से दिखाई दे रहे हैं।

मृतक जमाली अहमदीक के छोटे भाई रोमल अहमदीक ने कहा कि हमारे घर पर बमबारी हुई और परिवार के दस लोग मारे गए। अब हमारे पास घर भी नहीं है। बमबारी में मेरे तीन बच्चे मारे गए, और मेरे बड़े भाई के तीनों बेटे भी मारे गए। हम सब बहुत दुखी हैं।


पीड़िता के भतीजे मसूद ने चाइना मीडिया ग्रुप के रिपोर्टर से गुस्से में कहा कि जो लोग ऐसी गलतियां करते हैं उन्हें कानूनी प्रतिबंधों से सिर्फ इसलिए नहीं बचना चाहिए क्योंकि वे माफी मांगते हैं।

विशेषकर अमेरिका मानवाधिकारों की रक्षा करने का दावा करता है, लेकिन अमानवीय युद्ध मशीन में हेरफेर करने के लिए अपने स्वयं के हाई-टेक साधनों का उपयोग करता है। इस तरह का व्यवहार अंतरराष्ट्रीय कानून में एक नग्न अपराध है। पूरी दुनिया को इस मामले को आगे बढ़ाना चाहिए और पूछना चाहिए कि अमेरिका ऐसा क्यों कर रहा है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia