बंधकों की रिहाई के लिए एक हफ्ते के युद्ध विराम पर सहमत हुआ इजरायल, 40 नागरिकों की रिहाई की रखी मांग

गाजा में 7 अक्टूबर से जारी इजरायली सैन्य कार्रवाई में करीब 20,000 लोग मारे गए हैं और 52,000 से ज्यादा घायल हुए हैं। उत्तरी गाजा का अधिकांश भाग हवाई हमलों से नष्ट हो गया है। संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, एन्क्लेव की 80 प्रतिशत से अधिक आबादी विस्थापित हो गई है।

बंधकों की रिहाई के लिए एक हफ्ते के युद्ध विराम पर सहमत हुआ इजरायल, 40 नागरिकों की रिहाई की रखी मांग
बंधकों की रिहाई के लिए एक हफ्ते के युद्ध विराम पर सहमत हुआ इजरायल, 40 नागरिकों की रिहाई की रखी मांग
user

नवजीवन डेस्क

हमास द्वारा बंधक बनाए गए लोगों के परिजनों के बढ़ते दबाव के बीच इजरायल बंधकों की रिहाई सुनिश्चित करने के लिए गाजा में एक सप्ताह के युद्धविराम पर सहमत हो गया है। ताजा घटनाक्रम मोसाद प्रमुख डेविड बार्निया द्वारा सोमवार को वारसॉ में सीआईए निदेशक विलियम बर्न्स और कतर के प्रधानमंत्री शेख मोहम्मद बिन अब्दुलरहमान अल थानी से मुलाकात के दो दिन बाद आया है।

सूत्रों ने बताया कि इजरायल ने प्रमुख मध्यस्थ कतर को सूचित किया है कि वह एक सप्ताह के युद्धविराम के लिए सहमत है और बदले में उसने 40 बंधकों की रिहाई की मांग की है। इन बंधकों में महिलाएं, बच्चे और 60 साल से अधिक उम्र के बुजुर्ग शामिल हैं। अपने नागरिकों की रिहाई के बदले में इजरायल फिलिस्तीनी कैदियों को रिहा करने पर भी सहमत हो गया है, जिनमें वे लोग भी शामिल हैं जिन्होंने 24 नवंबर और 1 दिसंबर के बीच पिछले युद्ध विराम के दौरान मुक्त किए गए कैदियों की तुलना में अधिक गंभीर अपराध किए हैं।


सूत्रों ने यह भी बताया कि हमास ने इजरायल से युद्ध से पूरी तरह पीछे हटने की मांग की थी, जिसे इजरायल ने नहीं माना। उपलब्ध जानकारी के अनुसार, इजरायली पक्ष ने कहा कि वह युद्ध की स्थायी समाप्ति के लिए तभी सहमत होगा, जब हमास 7 अक्टूबर के नरसंहार के लिए जिम्मेदार सभी लोगों को उसे सौंप देगा।

लेकिन जैसे-जैसे कूटनीतिक प्रयास जारी हैं, गाजा में मानवीय संकट दिन-ब-दिन बिगड़ता जा रहा है। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, 7 अक्टूबर से गाजा में इजरायली सैन्य कार्रवाई में लगभग 20,000 लोग मारे गए हैं और 52,000 से अधिक घायल हुए हैं। इस बीच, उत्तरी गाजा का अधिकांश भाग हवाई हमलों से नष्ट हो गया है। संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, एन्क्लेव की 80 प्रतिशत से अधिक आबादी विस्थापित हो गई है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;