Israel Hamas War: इजरायली बमबारी से गाजा में कोहराम! 24 घंटे में 166 फिलिस्तीनी मारे गए, बच्चों की हालत सबसे दयनीय

जंग में पिछले 24 घंटे में इजरायली बमबारी में 166 फिलिस्तीनी मारे गए हैं। इस दौरान 384 लोग घायल हो गए। युद्ध में अब तक 20,424 फिलिस्तीनी मारे जा चुके हैं। इनमें ज्यादातर बच्चे और महिलाएं शामिल हैं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

इजरायल और हमास में भीषण जंग जारी है। इजरायल की बमबारी से गाजा में कोहराम मचा हुआ है। हर दिन दर्जनों फिलिस्तीनी मारे जा रहे हैं। पिछले 24 घंटे में इजरायली बमबारी में 166 फिलिस्तीनी मारे गए हैं। इस दौरान 384 लोग घायल हो गए। युद्ध में अब तक 20,424 फिलिस्तीनी मारे जा चुके हैं। इनमें ज्यादातर बच्चे और महिलाएं शामिल हैं। जंग में जो बच्चे बच गए हैं। मानसिक हालत बेहद खराब स्थिति में है। जंग में 54,036 लोग घायल हुए हैं।

7 अक्टूबर को हमास ने दक्षिण इजरायल में घुसकर 1,200 लोगों की हत्या की। इसके बाद इजरायल सेना ने हवाई हमले शुरू कर दिए, जबकि आईडीएफ ने 27 अक्टूबर को गाजा पर हमला किया और फिलिस्तीनियों को मार डाला।

आईडीएफ ने गाजा के अंदर हत्याएं और बदले की कार्रवाई की, जिसमें नवजात शिशुओं सहित अधिकांश बच्चे हताहत हुए। लगातार आईडीएफ हवाई बमबारी से गाजा के लगभग सभी अस्पताल या तो क्षतिग्रस्त हो गए हैं या निष्क्रिय हो गए हैं। इससे एक भयावह स्थिति पैदा हो गई है जिससे हजारों फिलिस्तीनी बिना किसी चिकित्सा देखभाल के रह गए हैं।

फिलिस्तीनियों द्वारा सामना किए जाने वाले मनोवैज्ञानिक आघात और मानसिक स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों का अंदाजा नहीं लगाया जा सकता है, और गाजा में इस दर्दनाक अनुभव का सामना करने वाले बच्चों का इलाज करने वाले डॉक्टरों ने कहा कि कई बच्चों की मानसिक स्वास्थ्य स्थिति बदतर बनी हुई है।


मध्य गाजा में क्लिनिक चलाने वाले डॉ. माजिद अल कासमी ने आईएएनएस को फोन पर बताया कि बच्चों की स्थिति दयनीय है और वे (बच्चे) अपने जीवनकाल में इस आघात से उबर नहीं पाएंगे। उन्होंने कहा कि 8-12 आयु वर्ग के कई बच्चों को ऐसी परिस्थितियों का सामना करना पड़ा है, जिसमें वे बाल-बाल बच गए। इनमें से कई बच्चे ऐसे भी हैं जिन्होंने अपने प्रियजनों को अपनी आंखों के सामने मरते हुए देखा है, जिससे मानसिक तनाव हो गया है जिसे वे अपनी यादों से मिटाने में असमर्थ हो सकते हैं।

डॉ. माजिद अल कासमी ने कहा, ''आयशा फातिमा (12) मध्य गाजा में एक खुशहाल जीवन जी रही थी, जब इज़रायली सेना ने उन्हें दक्षिण की ओर जाने के लिए कहा। जिस दिन वह दक्षिण में अपने चाचा के घर में शिफ्ट हुई, आईडीएफ ने दक्षिण में हमला कर उसके चाचा के घर को मलबे में बदल दिया और पूरे परिवार को मार डाला।''

उन्होंने कहा कि आयशा फातिमा के रिश्तेदारों की मौत ने उन्हें अवसाद में डाल दिया है। फिलिस्तीन शरणार्थियों के लिए संयुक्त राष्ट्र राहत और कार्य एजेंसी (यूएनआरडब्ल्यूए) के अनुसार, फिलिस्तीन में युद्ध के कारण हजारों बच्चों को मनोवैज्ञानिक आघात का सामना करना पड़ रहा है।

फिलिस्तीनियों के उत्तर से मध्य और फिर दक्षिणी गाजा में विस्थापन के कारण फ़िलिस्तीनी बच्चों को दर्दनाक अनुभव हुआ है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने आईएएनएस को बताया कि गाजा में स्थिति बेहद खराब है और सबसे ज्यादा मौतें बच्चों की हो रही हैं।

युद्ध समाप्त करने के लिए कोई गंभीर प्रयास नहीं होने से गाजा में स्थिति और भी खराब हो गई है। फिलिस्तीनियों के बीच एक आम भावना है कि बच्चों के आघात को समाप्त करने के लिए तत्काल अंतर्राष्ट्रीय हस्तक्षेप की जरूरत है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;