पाकिस्तान में जारी राजनीतिक अनिश्चितता कारोबारियों के लिए बनी काल, दिग्गज दुबई शिफ्ट कर रहे अपना काम

डॉन की रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान में राजनीतिक और आर्थिक अनिश्चितताओं के साथ बिगड़ती कानून-व्यवस्था ने व्यापारिक समुदाय को भयभीत कर दिया है। शीर्ष कारोबारी परिवार स्थायी रूप से दुबई में रहने लगे हैं और विदेशों में व्यापार स्थापित कर रहे हैं।

पाकिस्तान में जारी राजनीतिक अनिश्चितता कारोबारियों के लिए बनी काल
पाकिस्तान में जारी राजनीतिक अनिश्चितता कारोबारियों के लिए बनी काल
user

नवजीवन डेस्क

पाकिस्तान में पिछले लंबे समय से जारी राजनीतिक अनिश्चितता कारोबारियों के लिए काल साबित हुई है। गंभीर आर्थिक संकट में डूब चुके देश के कई दिग्गज व्यवसायी और अमीर दुबई में अपना कारोबार शिफ्ट कर रहे हैं। वे न केवल दुबई की रियल एस्टेट में भारी निवेश कर रहे हैं, बल्कि वहां निर्यात-आयात केंद्र भी स्थापित कर रहे हैं।

दुबई में कारोबार करने वाले कराची स्थित निवेशक अनवर ख्वाजा ने कहा कि यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि पाकिस्तानी दुबई की अचल संपत्ति में निवेश कर रहे हैं। महत्वपूर्ण बात यह है कि पाकिस्तानियों द्वारा व्यापार और व्यापारिक केंद्रों की स्थापना की जा रही है। उन्होंने कहा, "पाकिस्तान में कई बड़े बिजनेस टाइकून ने अपना कारोबार आंशिक रूप से या पूरी तरह से दुबई में स्थानांतरित कर दिया है, इससे जहां देश की आय प्रभावित हो रही है, वहीं नौकरियां भी कम हो रही हैं।"


डॉन की रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान में राजनीतिक और आर्थिक अनिश्चितताओं के साथ-साथ बिगड़ती कानून-व्यवस्था की स्थिति ने व्यापारिक समुदाय को भयभीत कर दिया है। इनसे नियमित रूप से कराची में रंगादारी वसूली जाती है। रिपोर्ट के अनुसार, शीर्ष कारोबारी परिवार स्थायी रूप से दुबई में रह रहे हैं, उन्होंने घर खरीदे हैं और विदेशों में व्यापार स्थापित किया है।

वे पाकिस्तानी वस्तुओं के अन्य देशों को निर्यात और आयात के लिए एक आधार के रूप में भी काम करते हैं। निवेशक अनवर ख्वाजा ने बताया कि दुबई से व्यापार करना आसान है, क्योंकि यहां निर्यात या आयात करने के लिए खाते खोलने में कोई समस्या नहीं है। वे दुबई में कमाते हैं और निवेश करते हैं, खासकर रियल एस्टेट पैसा कमाने का स्वर्ग है।''


डॉन की रिपोर्ट के अनुसार, जहां कई विश्लेषकों ने इस्लामाबाद में तत्काल नई सरकार के गठन का सुझाव दिया है, जो अनिश्चितताओं से छुटकारा पाने का एकमात्र तरीका बताया गया है, वहीं अन्य ने कहा कि नई सरकार को आर्थिक संकेतकों में सुधार के लिए युद्ध स्तर पर काम करना होगा।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;