बांग्लादेश में कंटेनर डिपो में लगी भीषण आग, अब तक 43 लोगों की मौत, 500 से ज्यादा घायल

जिले के संभागीय आयुक्त मोहम्मद अशरफउद्दीन ने बताया कि आग पिछले 13 घंटे से भड़क रही है और अभी तक नहीं बुझाई जा सकी है। चटगांव रेंज पुलिस के डीआईजी अनवर हुसैन ने कहा कि डिपो के अंदर अभी भी विस्फोट हो रहे हैं।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

बांग्लादेश के चटगांव जिले में एक निजी कंटेनर डिपो में भीषण आग लगने के बाद हुए विस्फोट में सात दमकलकर्मियों सहित कुल 43 लोगों की मौत हो गई और 500 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं, जिनमें 10 पुलिसकर्मी भी शामिल हैं। प्रधानमंत्री शेख हसीना, राष्ट्रपति अब्दुल हमीद और संसद अध्यक्ष ने मौतों पर शोक व्यक्त किया है।

अधिकारियों ने बताया कि शनिवार रात करीब साढ़े दस बजे सीताकुंडा में नीदरलैंड-बांग्लादेश संयुक्त उद्यम कंपनी बीएम कंटेनर डिपो लिमिटेड में आग लग गई। आग लगने के 40 मिनट के भीतर ही एक बड़ा धमाका हुआ और विस्फोटक रसायनों की मौजूदगी के कारण आग एक कंटेनर से दूसरे कंटेनर में फैल गई। अग्निशमन सेवा के महानिदेशक ने कहा कि चूंकि आग अभी भी भड़की हुई है, जिसे पूरी तरह से बुझने में 24 घंटे और लग सकते हैं, इसलिए डिपो के पास जाना संभव नहीं है। स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा कि अब तक मृतकों में से 15 की पहचान कर ली गई है।


चटगांव अग्निशमन सेवा और नागरिक सुरक्षा के सहायक निदेशक मोहम्मद फारुक हुसैन सिकदर ने बताया कि आग बुझाने के लिए लगभग 29 अग्निशमन इकाइयां काम कर रही हैं और 50 एम्बुलेंस मौके पर तैयार हैं। डिपो से करीब 21 किलोमीटर दूर चटगांव मेडिकल कॉलेज अस्पताल (सीएमसीएच) में आईसीयू बेड पहले से ही भरे हुए हैं, जबकि संकट की स्थिति में डॉक्टरों की छुट्टी रद्द कर दी गई है। घायलों को सीएमसीएच और संयुक्त सैन्य अस्पताल (सीएमएच) समेत विभिन्न अस्पतालों में भर्ती कराया गया है।

जिले के संभागीय आयुक्त मोहम्मद अशरफ उद्दीन ने बताया कि ढाका में तैनात 150-200 सैन्यकर्मी भी मौके पर पहुंच गए हैं। उन्होंने कहा कि आग अब 13 घंटे से भड़क रही है और अभी तक बुझाई नहीं गई है। चटगांव रेंज पुलिस के डीआईजी अनवर हुसैन ने कहा कि डिपो के अंदर अभी भी विस्फोट हो रहे हैं।


संभागीय आयुक्त ने कहा कि डिपो से नालों के माध्यम से दो नहरें जुड़ी हुई हैं जो बंगाल की खाड़ी से भी जुड़ी हैं। उन्होंने कहा कि सेना की टीम डिपो से बंगाल की खाड़ी में रासायनिक रिसाव की जांच करने पर काम करेगी। उन्होंने आगे कहा कि मृतकों के परिवारों को 50 हजार रुपये जबकि घायलों के परिजनों को 20 हजार रुपये दिए जा रहे हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia