तालिबान की नई अफगान सरकार का नेतृत्व करेगा बरादर, अहम भूमिका में होगा मुल्ला उमर का बेटा

तालिबान के एक अधिकारी ने बताया कि सभी शीर्ष नेता काबुल पहुंच गए हैं, जहां नई सरकार की घोषणा की तैयारी अंतिम चरण में है। एक अन्य सूत्र ने कहा कि तालिबान का सर्वोच्च नेता हैबतुल्लाह अखुंदजादा इस्लामी ढांचे के भीतर धार्मिक मामलों और शासन की निगरानी करेगा।

फोटोः GettyImages
फोटोः GettyImages
user

नवजीवन डेस्क

अफगानिस्तान में तालिबान की सरकार का स्वरुप साफ हो गया है। खबर है कि तालिबान का सह-संस्थापक मुल्ला अब्दुल गनी बरादर नई अफगान सरकार का नेतृत्व करेगा। साथ ही दिवंगत सह-संस्थापक मुल्ला उमर का बेटा मुल्ला मोहम्मद याकूब और शेर मोहम्मद अब्बास स्टेनकजई सरकार में अहम भूमिका में होंगे। तालिबान के सूत्रों ने शुक्रवार को यह जानकारी देते हुए बताया कि समूह द्वारा जल्द ही इसकी आधिकारिक घोषणा की जा सकती है।

टोलो न्यूज ने सूत्रों का हवाला देते हुए कहा कि मुल्ला अब्दुल गनी बरादर, जो दोहा में तालिबान के राजनीतिक कार्यालय का प्रमुख है, उसके साथ तालिबान के दिवंगत सह-संस्थापक मुल्ला उमर का बेटा मुल्ला मोहम्मद याकूब और शेर मोहम्मद अब्बास स्टेनकजई तालिबान की सरकार में वरिष्ठ पदों पर शामिल होंगे।

तालिबान के एक अधिकारी ने एक वैश्विक न्यूज वायर को बताया कि सभी शीर्ष नेता काबुल पहुंच गए हैं, जहां नई सरकार की घोषणा करने की तैयारी अंतिम चरण में है। तालिबान के एक अन्य सूत्र ने कहा कि तालिबान का सर्वोच्च धार्मिक नेता हैबतुल्लाह अखुंदजादा इस्लाम के ढांचे के भीतर धार्मिक मामलों और शासन पर ध्यान केंद्रित करेगा।


तालिबान ने 15 अगस्त को काबुल पर कब्जा कर लिया था और वह देश के अधिकांश हिस्सों में व्यापक रूप से अपना नियंत्रण स्थापित कर चुका है। हालांकि उसे भारी लड़ाई और नुकसान के साथ, राजधानी के उत्तर में पंजशीर घाटी में प्रतिरोध का सामना करना पड़ रहा है और अभी तक भी वह पंजीशीर घाटी पर अपना नियंत्रण स्थापित नहीं कर पाया है।

पंजशीर के मुजाहिदीन के पूर्व कमांडर अहमद शाह मसूद के बेटे अहमद मसूद के नेतृत्व में क्षेत्रीय मिलिशिया के कई हजार लड़ाके और अपदस्थ सरकार के सशस्त्र बलों के कुछ सैनिक बीहड़ घाटी में जमा हैं। ऐसा प्रतीत होता है कि किसी समझौते पर बातचीत करने के प्रयास विफल हो गए हैं और प्रत्येक पक्ष विफलता के लिए एक-दूसरे को दोषी ठहरा रहा है।

टोलो न्यूज ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय दाताओं और निवेशकों की नजर में सरकार की वैधता लड़खड़ाई अर्थव्यवस्था और एक संघर्ष की तबाही को देखते हुए महत्वपूर्ण होगी, जिसमें अनुमानित 240,000 अफगान मारे गए हैं। मानवीय समूहों ने एक बुरी तबाही वाली स्थिति की चेतावनी दी है कि कई लाख डॉलर की विदेशी सहायता पर वर्षों से निर्भर अर्थव्यवस्था ढहने के करीब है। एजेंसियों ने कहा है कि कई अफगान तालिबान के सत्ता में आने से पहले भीषण सूखे के बीच अपने परिवारों को खाना खिलाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं और लाखों लोग अब भुखमरी का सामना कर सकते हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia