भारतीय नौसेना ने समुद्री डकैतों से 19 पाकिस्तानियों को बचाया, 24 घंटे में एक और सफल ऑपरेशन

अधिकारियों ने कहा कि इससे पहले भारतीय नौसेना के मिशन तैनात युद्धपोत द्वारा एक और त्वरित प्रतिक्रिया में अपहृत जहाज और चालक दल की सुरक्षित रिहाई सुनिश्चित की गई थी।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

आईएएनएस

भारतीय नौसेना के 11 सोमाली समुद्री लुटेरों से अपहृत मछली पकड़ने वाले जहाज 'अल नईमी' को बचाया है। अधिकारियों ने मंगलवार को बताया कि नौसेना के मरीन कमांडो ने ऑपरेशन चलाया और 19 पाकिस्तानी नागरिकों समेत चालक दल को भी बचा लिया।

अधिकारी ने कहा, ''नौसेना ने मिशन के तहत कोच्चि से करीब 850 एनएम पश्चिम में दक्षिणी अरब सागर में तैनात भारतीय नौसेना के युद्धपोत के त्वरित और निरंतर प्रयासों के माध्यम से जहाजों को बचाया।''

अधिकारियों ने कहा, "इससे व्यापारिक जहाजों पर समुद्री डकैती के आगे के कृत्यों के लिए मदर शिप के रूप में मछली पकड़ने वाले जहाजों के दुरुपयोग को भी रोका गया।"

अधिकारियों ने कहा कि युद्धपोत लॉस ने सोमालिया के पूर्वी तट पर एक और सफल समुद्री डकैती रोधी अभियान चलाया है। जिसमें मछली पकड़ने वाले जहाज अल नईमी और उसके चालक दल समेत 19 पाकिस्तानी नागरिकों को 11 सोमाली समुद्री डाकुओं से बचाया गया।


एमवी इमन को बचाने के बाद आईएनएस सुमित्रा को एक अन्य ईरानी ध्वज वाले एफवी का पता लगाने और उसे रोकने के लिए फिर से कार्रवाई में लगाया गया था। जिस पर समुद्री डाकू सवार थे और उसके चालक दल को बंधक बना लिया गया था।

अधिकारियों ने कहा, "सुमित्रा ने एफवी को रोक लिया और अपने अभिन्न हेलो एवं नौकाओं की जबरदस्त मुद्रा तथा प्रभावी तैनाती के माध्यम से चालक दल और जहाज की सुरक्षित रिहाई को मजबूर कर दिया।"

उन्होंने बताया कि पिछले 24 घंटों में भारतीय नौसेना का यह दूसरा सफल समुद्री डकैती रोधी अभियान था। भारतीय रक्षा अधिकारियों ने कहा कि भारतीय नौसेना के युद्धपोत क्षेत्र में सुरक्षा प्रदान करने के लिए हिंद महासागर क्षेत्र के चारों ओर तैनात हैं।

अधिकारियों ने कहा कि इससे पहले भारतीय नौसेना के मिशन तैनात युद्धपोत द्वारा एक और त्वरित प्रतिक्रिया में अपहृत जहाज और चालक दल की सुरक्षित रिहाई सुनिश्चित की गई थी।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;