बेंजामिन नेतन्याहू ने बंधकों के परिवारों से की मुलाकात, कुछ बंधक परिवारों ने इजरायली पीएम पर लगाए ये आरोप

प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है, "प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू और उनकी पत्नी सारा ने आज शाम बंधकों के परिवारों के प्रतिनिधियों से मुलाकात की और उनकी कठिनाई और दर्द को ध्यान से सुना।"

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

गाजा में इजरायल का हमास के खिलाफ जंग जारी है। इस जंग के बीच इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने तेल अवीव में हमास द्वारा बनाए गए लोगों के परिवारों से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने कहा कि उन्हें बचाना एक मिशन है। बंधकों और लापता व्यक्तियों के समन्वयक गैल हिर्श के आदेश पर मंगलवार को शहर के हाक्रिया क्षेत्र में इजरायल रक्षा बलों (आईडीएफ) के मुख्यालय में बैठक आयोजित की गई थी।

प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है, "प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू और उनकी पत्नी सारा ने आज शाम बंधकों के परिवारों के प्रतिनिधियों से मुलाकात की और उनकी कठिनाई और दर्द को ध्यान से सुना। प्रधानमंत्री ने सभी बंधकों की स्वदेश वापसी के लिए अपनी प्रतिबद्धता दोहराई।"

परिवारों को आश्वासन देते हुए, प्रधानमंत्री ने कहा, "हम सभी बंधकों की रिहाई के लिए प्रतिबद्ध हैं, और मैं व्यक्तिगत रूप से प्रतिबद्ध हूं। उन्हें बचाना सर्वोच्च मिशन है।"

बयान में नेतन्याहू के हवाले से कहा गया है, "अभी मैंने बंधकों की रिहाई की प्रक्रिया को आगे बढ़ाने के लिए मोसाद के निदेशक को दो बार यूरोप भेजा है। मैं इस मामले में कोई कसर नहीं छोड़ूंगा।"


उपस्थित लोगों में से एक के इस सवाल के जवाब में कि क्या बंधकों को सफलतापूर्वक घर वापस लाया जाएगा, प्रधानमंत्री ने कहा: "क्या मैं सफल होऊंगा? मैं आपको एक बात की गारंटी दे सकता हूं, हम रुक नहीं रहे हैं।"

परिवारों को संबोधित करते हुए, प्रथम महिला सारा नेतन्याहू ने कहा: "कई हफ्ते पहले, मैंने पत्र भेजे थे। अपहरण मानवता के खिलाफ एक अपराध है और मैंने उनसे हमारी मदद करने के लिए कहा है। मुझे यकीन है कि हम आपके प्रियजनों को सुरक्षित घर वापस लाने के लिए सब कुछ करना जारी रखेंगे।"

हालांकि, कुछ बंधक परिवारों की ओर से विरोध किया गया क्योंकि प्रधानमंत्री केवल चुनिंदा लोगों से ही मिले थे।

इजरायल पीएमओ के सूत्रों ने आईएएनएस को बताया कि नेतन्याहू ने चल रहे युद्ध के बीच कुछ ऐसे परिवारों को दूर रखा जो एक सीमा से अधिक उनकी सरकार के आलोचक थे। बंधकों के परिवारों के साथ पिछली बैठक में, उनमें से कुछ ने प्रधान मंत्री के इस्तीफे की मांग की थी।

सूत्रों ने बताया कि इसने पीएमओ को सीमित संख्या में प्रतिभागी परिवारों को चुनने के लिए प्रेरित किया।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;