दुनिया की खबरें: सेना प्रमुख की नियुक्ति के मुद्दे पर पीछे हट गए हैं इमरान और 1 अरब से अधिक युवाओं को बहरापन का खतरा

इमरान खान ने बुधवार को कहा कि पार्टी ने सेना प्रमुख की नियुक्ति के मुद्दे पर कदम पीछे खींच लिया है। नए शोध से पता चला है कि 1 अरब से अधिक किशोर और युवा लोगों को हेडफोन और तेज संगीत वाले स्थानों पर उपस्थिति के कारण बहरापन का संभावित खतरा है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

सेना प्रमुख की नियुक्ति के मुद्दे पर पीछे हट गए हैं: इमरान खान

पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के अध्यक्ष इमरान खान ने बुधवार को कहा कि पार्टी ने सेना प्रमुख की नियुक्ति के मुद्दे पर कदम पीछे खींच लिया है। एक्सप्रेस ट्रिब्यून की खबर के मुताबिक, पूर्व प्रधानमंत्री ने लाहौर में अपने आवास पर वरिष्ठ पत्रकारों से बातचीत के दौरान यह टिप्पणी की। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) के सुप्रीमो नवाज शरीफ चाहते हैं कि उनकी पसंद का एक सेना प्रमुख नियुक्त किया जाए, जो 'उनके मामलों की देखभाल करेगा'।

एक्सप्रेस ट्रिब्यून की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने कहा कि कोई भी सेना प्रमुख कभी भी संस्थान, राज्य या लोगों के खिलाफ नहीं जाएगा। तोशखाना मामले में आरोपों के बारे में- दुबई के एक व्यवसायी ने एक निजी टीवी चैनल को दिए साक्षात्कार में दावा किया कि उसने फराह गोगी और शहजाद अकबर से देश के कुछ उपहार खरीदे हैं, इमरान ने कहा कि वह दुबई, लंदन और पाकिस्तान में संबंधित व्यक्तियों के खिलाफ मामला दर्ज करेंगे।

फॉर्च्यून की '40 अंडर 40' सूची में 2 भारतीय-अमेरिकी

फोटो: IANS
फोटो: IANS

दो भारतीय-अमेरिकियों ने फॉर्च्यून की वार्षिक '40 अंडर 40' सूची में जगह बनाई है, जिसमें 2022 में व्यवसाय को आकार देने वाले संस्थापकों, अधिकारियों, निवेशकों और कार्यकर्ताओं को शामिल किया गया है। जम्प क्रिप्टो के अध्यक्ष कणव करिया और बाइसिकल हेल्थ के संस्थापक और सीईओ अंकित गुप्ता सूची में शामिल हैं, जो अवसरों का सृजन कर रहे हैं और उनका लाभ उठा रहे हैं, और दूसरों को भी सशक्त बना रहे हैं।

गुप्ता ने ट्वीट में लिखा- इस साल फॉर्च्यून की '40 अंडर 40' सूची में शामिल होने पर सम्मानित महसूस कर रहा हूं। विशेष रूप से स्वास्थ्य सेवा उद्योग को आकार देने वाले सभी अद्भुत ट्रेलब्लेजर के बीच। साइकिलहेल्थ में हमारी अविश्वसनीय टीम और ओयूडी (ओपियोइड यूज डिसऑर्डर) के साथ रोगियों की देखभाल के लिए उनके समर्पण की एक अच्छी-खासी पहचान है।


बिलावल भुट्टो ने सेना प्रमुख की नियुक्ति को लेकर 'राष्ट्रीय जुनून' पैदा किए जाने की निंदा की

फोटो: IANS
फोटो: IANS

 पाकिस्तान के विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो-जरदारी ने सेना प्रमुख की होने वाली नियुक्ति को लेकर गपशप, बहस और अटकलों को 'दुर्भाग्यपूर्ण' बताते हुए चेतावनी दी है कि इस विशेष पद के प्रति राष्ट्रीय जुनून पैदा किए जाने का हमारे लोकतंत्र की स्थिरता में योगदान नहीं होगा और न ही यह राष्ट्र को बढ़ने में मदद करेगा। डॉन के मुताबिक, डॉव यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंसेज (डीयूएचएस) ओझा कैंपस में एक समारोह में भाग लेने के बाद पत्रकारों से बात करते हुए बिलावल ने सत्ताधारी गठबंधन के उन नेताओं की भी आलोचना की, जो सार्वजनिक रूप से सेना प्रमुख की नियुक्ति को लकर राष्ट्रीय मीडिया पर लगातार चर्चा कर रहे हैं।

पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के अध्यक्ष इमरान खान की पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ की हाल की टिप्पणी के बारे में पूछे गए एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, "यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि काफी लंबे समय से सीओएएस की नियुक्ति पर बेवजह चर्चा की जा रही है।"

1 अरब से अधिक युवाओं को संभावित रूप से बहरापन का खतरा : शोध

फोटो: IANS
फोटो: IANS

नए शोध से पता चला है कि 1 अरब से अधिक किशोर और युवा लोगों को हेडफोन और ईयरबड के उपयोग और तेज संगीत वाले स्थानों पर उपस्थिति के कारण बहरापन का संभावित खतरा है। शोधकर्ताओं ने कहा, "सुरक्षित सुनने की प्रथाओं को बढ़ावा देकर वैश्विक बहरापन रोकथाम को प्राथमिकता देने के लिए सरकारों, उद्योग और नागरिक समाज की तत्काल आवश्यकता है।"

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) का अनुमान है कि दुनिया भर में 43 करोड़ से अधिक लोग बहरापन की शिकायतों से पीड़ित हैं। जर्नल बीएमजे ग्लोबल हेल्थ में प्रकाशित शोध के अनुसार, खराब नियामक प्रवर्तन के बीच स्मार्टफोन, हेडफोन और ईयरबड्स जैसे व्यक्तिगत सुनने वाले उपकरणों (पीएलडी) के उपयोग के साथ-साथ तेज संगीत वाले स्थानों पर उनकी उपस्थिति के कारण युवा विशेष रूप से कमजोर हैं।


सिंगापुर के साथ मुक्त व्यापार समझौता लागू करेगा श्रीलंका

फोटो: IANS
फोटो: IANS

श्रीलंका के राष्ट्रपति रानिल विक्रमसिंघे ने बुधवार को सिंगापुर-श्रीलंका मुक्त व्यापार समझौते (एफटीए) को तुरंत लागू करने का निर्देश दिया। राष्ट्रपति विक्रमसिंघे ने विदेश नीति, व्यापार, कानूनी और अन्य क्षेत्रों से संबंधित अधिकारियों के साथ चर्चा के दौरान ये निर्देश दिए।

राष्ट्रपति के मीडिया विभाग ने एक बयान में कहा, इस संबंध में मौजूदा समस्याओं पर विस्तार से चर्चा की गई और राष्ट्रपति ने इसके त्वरित समाधान की जरूरत पर प्रकाश डाला। इससे पहले सितंबर में टोक्यो में जापान के पूर्व पीएम शिंजो आबे के लिए आयोजित अंतिम संस्कार कार्यक्रम में सिंगापुर के प्रधानमंत्री ली सीन लूंग से मिल कर विक्रमसिंघे ने आश्वासन दिया था कि यह समझौता लागू किया जाएगा।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;