दुनिया की खबरें: पाक को कश्मीर पर प्रोग्राम की होटल ने नहीं दी अनुमति और जनरल बाजवा ने भारत को दी चेतावनी

अफगानिस्तान में पाकिस्तान दूतावास को उस वक्त मुंह की खानी पड़ी जब उसे एक होटल ने कश्मीर मुद्दे पर भारत विरोधी आयोजन के लिए अनुमति देने से मना कर दिया। वहीं पाकिस्तान के सैन्य प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने भारत को चेतावनी दी है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

अफगानिस्तान में पाकिस्तान दूतावास को उस वक्त मुंह की खानी पड़ी जब उसे एक होटल ने कश्मीर मुद्दे पर भारत विरोधी आयोजन के लिए अनुमति देने से मना कर दिया। हालांकि, इसके लिए पाकिस्तानी दूतावास के अधिकारियों ने 'अफगान सरकार के दबाव' को वजह बताया है लेकिन, अफगानिस्तान सरकार की तरफ से ऐसी कोई बात सामने नहीं आई है। पाकिस्तानी मीडिया में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान सरकार द्वारा देश और दुनिया में बुधवार को 'कश्मीर एकजुटता दिवस' मनाया गया। इसके तहत देश के साथ-साथ विदेश में भी आयोजन किए गए। इसी सिलसिले में अफगानिस्तान की राजधानी काबुल के एक होटल में आयोजन होने वाला था लेकिन होटल ने आयोजन से कुछ घंटे पहले इसकी अनुमति देने से इनकार कर दिया।

रिपोर्ट में पाकिस्तानी दूतावास के एक अधिकारी के हवाले से कहा गया है, "होटल को आयोजन स्थल के रूप में एक हफ्ता पहले चुना गया था। होटल प्रबंधन ने पहले सुरक्षा कारणों से कार्यक्रम के आयोजन की अनुमति देने से मना किया। प्रबंधन ने मंगलवार शाम साढ़े चार बजे दूतावास को इस बारे में बताया। जब हमने होटल प्रबंधन से पूछा कि अब सभी इंतजाम हो चुके हैं, दावतनामे भेजे जा चुके हैं, तब अनुमति क्यों नहीं दी जा रही है। इस पर होटल प्रबंधन ने कहा कि उन्हें 'अफगान सरकार के उच्चपदस्थ लोगों की तरफ से' होटल के हाल की बुकिंग को रद्द करने और आयोजन नहीं होने देने के लिए कहा गया है।"

अधिकारी ने कहा, "अफगान सरकार के दबाव के कारण होटल प्रबंधन ने कश्मीर पर आयोजन को रद्द कर दिया। हमने इस्लामी सहयोग संगठन के देशों के राजदूतों, अफगान राजनेताओं, सांसदों और मीडिया को कार्यक्रम के लिए न्योता दिया था। बाद में इस कार्यक्रम को दूतावास में शिफ्ट कर दिया गया।" मीडिया रिपोर्ट में इस बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई है कि इस पर अफगानिस्तान सरकार की तरफ से कोई टिप्पणी की गई है या नहीं।

गौरतलब है कि भारत की ही तरह अफगानिस्तान भी पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद से प्रभावित रहा है और इस वजह से उसके संबंध पाकिस्तान के साथ तल्ख बने हुए हैं।

कश्मीरियों को नुकसान से बचाने के लिए बरत रहे हैं संयम : जनरल बाजवा

पाकिस्तान में बुधवार को मनाए गए 'कश्मीर एकजुटता दिवस' के मौके पर अपने संदेश में पाकिस्तान के सैन्य प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने कहा कि 'अमन की इच्छा और भारत के हाथों कश्मीरियों को नुकसान से बचाने' की वजह से पाकिस्तान संयम बरत रहा है। पाकिस्तानी मीडिया में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार, जनरल बाजवा ने अपने बयान में भारत के खिलाफ आरोपों की झड़ी लगाते हुए कहा कि 'एक नीति के तहत कश्मीरियों के अधिकारों को छीना जा रहा है और इन्हें ताकत के अंधाधुन इस्तेमाल से दबाया जा रहा है। लाखों कश्मीरियों को कैद कर दिया गया है। जुल्म का मुकाबला करने वाले कश्मीरियों के प्रति हम अपना सम्मान प्रदर्शित कर रहे हैं।'

पाकिस्तानी सेना प्रमुख ने कहा, "पाकिस्तानी फौज अपने कर्तव्यों को मुस्तैदी से निभा रही है। हमारे फौजी जवानों और नागरिकों के बलिदान ने कश्मीर के संघर्ष को जिंदा रखा हुआ है। नियंत्रण रेखा पर उकसाने वाली कार्रवाई हो रही है लेकिन हम शांति की इच्छा और भारत के हाथों कश्मीरियों को नुकसान से बचाने के लिए संयम बरत रहे हैं।"

'कश्मीर एकजुटता दिवस' के अवसर पर पाकिस्तानी सेना की मीडिया शाखा आईएसपीआर ने एक विशेष गीत जारी किया। इसमें कश्मीर को पाकिस्तान की गले की नस जैसा बताया गया है।

एर्दोगन, पुतिन ने इदलिब में सीरियाई बलों के हमले पर चर्चा की

तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैईप एर्दोगन ने अपने रूसी समकक्ष व्लादिमीर पुतिन से इदलिब में तुर्की सैनिकों पर सीरियाई हमले के एक दिन बाद फोन पर बात की। तुर्की के सरकारी चैनल टीआरटी के मुताबिक, मंगलवार को एर्दोगन ने पुतिन को बताया कि सीरिया के सरकारी बलों द्वारा किए गए हमले ने सीरिया में शांति के लिए संयुक्त प्रयासों को नुकसान पहुंचाया।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने बताया कि तुर्की के नेता ने यह भी उल्लेख किया है कि तुर्की इस तरह के हमलों के खिलाफ आत्मरक्षा के अपने अधिकार का इस्तेमाल करना जारी रखेगा।

सोमवार को सीरियाई हमले में तुर्की के आठ सैनिकों के मारे जाने के बाद जवाबी कार्रवाई में तुर्की ने 54 ठिकानों पर हमला किया और इदलिब क्षेत्र में 76 सीरियाई सैनिकों की मौत हो गई जो सीरिया में विद्रोहियों का अंतिम गढ़ है।

फिलीस्तीनी राष्ट्रपति, ईरानी विदेश मंत्री ने अमेरिका के मध्यपूर्व शांति योजना पर चर्चा की

फिलिस्तीनी राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने फोन पर ईरानी विदेश मंत्री मोहम्मद जवाद जरीफ के साथ नए अनावरण किए गए अमेरिकी शांति योजना की प्रगति के बारे में चर्चा की। आधिकारिक फिलिस्तीनी समाचार एजेंसी (वफा) ने यह जानकारी दी। एजेंसी ने मंगलवार को कहा कि अब्बास ने अमेरिकी योजना को विफल करने के लिए रैली समर्थन के उद्देश्य से अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर फिलिस्तीन के कदम के बारे में जरीफ को जानकारी दी।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, जरीफ ने फिलिस्तीन के लोगों के आत्मनिर्णय के अधिकार और उनके लिए स्वतंत्र देश की स्थापना के लिए ईरान के समर्थन पर प्रकाश डाला।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

लोकप्रिय