कोरोना के कारण नोबेल पुरस्कार समारोह फिर से रद्द, विजेताओं को उनके गृह देशों में दिए जाएंगे पुरस्कार

नोबेल फाउंडेशन ने घोषणा की है कि मौजूदा कोविड -19 महामारी की अनिश्चितता के कारण, इस वर्ष के नोबेल पुरस्कार विजेताओं को उनके गृह देशों में दूसरे वर्ष के लिए उनके पुरस्कार प्राप्त होंगे।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

नोबेल फाउंडेशन ने घोषणा की है कि मौजूदा कोविड -19 महामारी की अनिश्चितता के कारण, इस वर्ष के नोबेल पुरस्कार विजेताओं को उनके गृह देशों में दूसरे वर्ष के लिए उनके पुरस्कार प्राप्त होंगे। समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने गुरुवार को एक बयान में फाउंडेशन के हवाले से कहा कि पारंपरिक भोज रद्द कर दिया जाएगा, लेकिन पुरस्कार समारोह 10 दिसंबर को स्टॉकहोम के सिटी हॉल में स्थानीय दर्शकों की उपस्थिति में आयोजित किया जाएगा।

इस कार्यक्रम का प्रसारण टीवी और नोबेल फाउंडेशन के सोशल मीडिया चैनलों पर किया जाएगा। नोबेल फाउंडेशन के कार्यकारी निदेशक विदर हेलगेसन ने बयान में कहा कि मुझे लगता है कि हर कोई चाहता है कि कोविड -19 महामारी खत्म हो जाए, लेकिन हम अभी उस हालत में नहीं हैं।

नोबेल पुरस्कार एक वैश्विक घटना है। हर साल, विभिन्न महाद्वीपों के पुरस्कार विजेताओं का चयन किया जाता है। महामारी और अंतर्राष्ट्रीय यात्रा संभावनाओं के बारे में अनिश्चितता के कारण 2021 के पुरस्कार विजेताओं को अपने घरेलू देशों में अपने पदक और डिप्लोमा के साथ प्राप्त होंगे।


हेल्गेसन ने कहा कि चूंकि हमारे पारंपरिक कार्यक्रम नए आकार लेते हैं, हम नए प्रारूपों और डिजिटल समाधानों का उपयोग करके दुनिया भर में और भी अधिक लोगों तक पहुंचने की उम्मीद कर रहे हैं। ज्ञान, प्रेरणा और आशा का प्रसार करना ही नोबेल पुरस्कार का अर्थ है।

स्वीडिश रसायनज्ञ और आविष्कारक अल्फ्रेड नोबेल की पुण्यतिथि के उपलक्ष्य में प्रत्येक वर्ष 10 दिसंबर को स्वीडिश राजधानी में एक समारोह आयोजित किया जाता है। उस दिन, वार्षिक नोबेल पुरस्कार प्रदान किए जाते हैं। परंपरागत रूप से, पुरस्कार विजेता व्यक्तिगत रूप से पुरस्कार समारोह और भोज में भाग लेते हैं, और नोबेल सप्ताह की गतिविधियों की एक श्रृंखला में भाग लेते हैं, जैसे व्याख्यान और संगीत कार्यक्रम।


महामारी के कारण, 2020 के नोबेल पुरस्कार विजेताओं ने अपने-अपने देशों में अपने पुरस्कार प्राप्त किए थे, और समारोह का ऑनलाइन प्रसारण किया गया था। पिछले साल का भोज भी रद्द कर दिया गया था।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia