इमरान खान की ड्रीम यूनिवर्सिटी को मिलते हैं लाखों रुपये के डोनेशन, लेकिन पढ़ते हैं सिर्फ 37 छात्र

अल कादिर एक विश्वविद्यालय होने का दावा करता है, लेकिन अब तक पंजाब उच्च शिक्षा विभाग द्वारा इसे मान्यता नहीं है। इसे अब तक केवल एक विषय बीएस-एमएस (प्रबंधन विज्ञान) पढ़ाने की मंजूरी मिली है। जनवरी से दिसंबर 2021 तक ट्रस्ट को 180 मिलियन पीकेआर का डोनेशन मिला।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान की ड्रीम यूनिवर्सिटी 'अल कादिर विश्वविद्यालय' को लगातार लाखों रुपयों का डोनेशन मिल रहा है। लेकिन हैरान करने वाली बात यह है कि इस यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले सिर्फ 37 छात्र हैं। अल कादिर विश्वविद्यालय के लिए 2019 में एक रियल एस्टेट दिग्गज ने भूमि दान में दी थी।

द न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, इसके मूल ट्रस्टी पूर्व पीएम इमरान, उनकी पत्नी बुशरा बीबी, जुल्फिकार अब्बास बुखारी और जहीर उददीन बाबर अवान थे। लेकिन बाद में, बुखारी और बाबर अवान को ट्रस्ट से हटा दिया गया और उनकी जगह आरिफ नजीर बट और फरहत शहजादी को ले लिया गया। यहां बता दें कि फरहत शहजादी, जिन्हें फराह खान या फराह बीबी के नाम से भी जाना जाता है, वह बुशरा बीबी की करीबी दोस्त हैं।


'अल कादिर' एक विश्वविद्यालय होने का दावा करता है, लेकिन अभी तक पंजाब उच्च शिक्षा विभाग द्वारा मान्यता प्राप्त नहीं है। इसे अब तक केवल एक विषय बीएस-एमएस (प्रबंधन विज्ञान) पढ़ाने की अनुमति दी गई है। जनवरी से दिसंबर 2021 तक ट्रस्ट को 180 मिलियन पीकेआर का डोनेशन मिला।

जुलाई 2020 से जून 2021 तक ट्रस्ट की कुल आय 101 मिलियन पीकेआर थी। जबकि, कर्मचारियों और कर्मचारियों के वेतन समेत कुल खर्च लगभग 8.58 मिलियन पीकेआर था।
रियल एस्टेट टाइकून ने विश्वविद्यालय को 458 कनाल भूमि दान की, जिसका मूल्य स्टांप पेपर के अनुसार 244 मिलियन पीकेआर है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia