अभूतपूर्व दबाव में है पाक-तालिबान गठबंधन, दोनों एक दूसरे पर बोल रहे हमला

अफगानिस्तान में अगस्त 2021 में तालिबान के सत्ता में आने के बाद से सीमा संघर्षों के बीच इस्लामाबाद के साथ उसके संबंध खराब हो गए हैं।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

आईएएनएस

अफगानिस्तान में अगस्त 2021 में तालिबान के सत्ता में आने के बाद से सीमा संघर्षों के बीच इस्लामाबाद के साथ उसके संबंध खराब हो गए हैं। हाल ही में, तालिबान ने इस्लामाबाद पर अफगानिस्तान में लक्ष्यों पर हमला करने के लिए अमेरिकी ड्रोन द्वारा अपने हवाई क्षेत्र का उपयोग करने की अनुमति देने का आरोप लगाया है। बदले में, पाकिस्तान ने तालिबान पर आतंकवादियों को पनाह देने का आरोप लगाया है।

विशेषज्ञों का कहना है कि, 1990 के दशक के मध्य में दक्षिणी अफगानिस्तान में तालिबान के उदय के समय से चला आ रहा पुराना गठबंधन अभूतपूर्व दबाव में आ रहा है क्योंकि उनके हित अलग-अलग हैं। वाशिंगटन स्थित हडसन इंस्टीट्यूट के हुसैन हक्कानी, जिन्होंने पहले संयुक्त राज्य अमेरिका में पाकिस्तान के राजदूत के रूप में कार्य किया था उन्होंने कहा कि, तालिबान ने सालों से पाकिस्तानी समर्थन स्वीकार किया हो सकता है, लेकिन हमेशा के लिए पाकिस्तानी प्रॉक्सी नहीं बनना चाहता है।


पिछले महीने तालिबान ने पाकिस्तान पर अमेरिकी ड्रोन को अफगानिस्तान के अंदर हमले करने के लिए अपने हवाई क्षेत्र का उपयोग करने की अनुमति देने का आरोप लगाया था। 28 अगस्त का दावा जुलाई में काबुल में अमेरिकी ड्रोन हमले में अल-कायदा नेता अयमान अल-जवाहिरी के मारे जाने के बाद आया है। इस्लामाबाद ने जानकारी से इनकार किया।

आरएफई/आरएल की रिपोर्ट के अनुसार, 14 सितंबर को इस्लामाबाद ने तालिबान सरकार पर जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) चरमपंथी समूह के प्रमुख और संयुक्त राष्ट्र-ब्लैक लिस्टेड आतंकवादी मसूद अजहर को पनाह देने का आरोप लगाया। तालिबान ने पाकिस्तान के दावों को दृढ़ता से खारिज कर दिया।


23 सितंबर को संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने भाषण में, पाकिस्तानी प्रधान मंत्री शहबाज शरीफ ने कहा कि इस्लामाबाद, अफगानिस्तान से संचालित प्रमुख आतंकवादी समूहों द्वारा उत्पन्न खतरे के बारे में अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की प्रमुख चिंता को शेयर करता है। शरीफ ने इस्लामिक स्टेट-खोरासन (आईएस-के), तहरीक-ए तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी), अल-कायदा, ईस्ट तुर्किस्तान इस्लामिक मूवमेंट और इस्लामिक मूवमेंट ऑफ उजबेकिस्तान का अफगानिस्तान में स्थित समूहों के रूप में बताया, जिनसे व्यापक रूप से अंतरिम अफगान अधिकारियों के समर्थन और सहयोग से निपटने की जरूरत है।

तालिबान की ओर से 27 सितंबर को उप विदेश मंत्री शेर मोहम्मद अब्बास स्टानिकजई ने दावा किया कि इस्लामाबाद को अमेरिकी ड्रोन को अफगानिस्तान पर उड़ानें संचालित करने की अनुमति देने के लिए वाशिंगटन से लाखों डॉलर प्राप्त हो रहे थे। स्टैनिकजई ने काबुल में एक सभा से पूछा, हम इसे कब तक बर्दाश्त कर सकते हैं?, अगर हम पाकिस्तानी हस्तक्षेप के खिलाफ उठते हैं, तो हमें कोई नहीं रोक पाएगा।


विशेषज्ञों का कहना है कि तनाव का एक अन्य स्रोत टीटीपी पर कार्रवाई करने की तालिबान की अनिच्छा है, जो एक करीबी वैचारिक और संगठनात्मक सहयोगी है। अफगानिस्तान के अंदर अपने ठिकानों से, चरमपंथी समूह ने हाल के वर्षों में इस्लामाबाद के खिलाफ अपने विद्रोह को तेज कर दिया है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;