प्रधानमंत्री इमरान खान की सलाह पर पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी ने भंग की नेशनल असेंबली

राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में इमरान खान ने कहा कि अरबों रुपये' जो सांसदों के वोटों को 'खरीदने' के लिए खर्च किए गए थे, बर्बाद हो जाएंगे और उन लोगों को सलाह दी जिन्होंने इसे अनाथालयों और गरीबों को दान करने के लिए लिया था।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी ने प्रधानमंत्री इमरान खान की सलाह पर नेशनल असेंबली भंग कर दी है। इससे पहले इमरान खाने ऐसा करने की राष्ट्रपति को सलाह दी थी। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने रविवार को कहा कि उन्होंने राष्ट्रपति आरिफ अल्वी को विधानसभा भंग करने की सलाह के साथ पत्र लिखा है। ये जानकारी डॉन न्यूज की रिपोर्ट से सामने आई है। नेशनल असेंबली (एनए) के डिप्टी स्पीकर कासिम सूरी ने प्रधानमंत्री के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव को संविधान के अनुच्छेद 5 का विरोधाभास बताते हुए खारिज कर दिया।

राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में इमरान खान ने कहा कि अरबों रुपये' जो सांसदों के वोटों को 'खरीदने' के लिए खर्च किए गए थे, बर्बाद हो जाएंगे और उन लोगों को सलाह दी जिन्होंने इसे अनाथालयों और गरीबों को दान करने के लिए लिया था।

उन्होंने कहा, "चुनाव की तैयारी करें। कोई भी भ्रष्ट ताकत तय नहीं करेगी कि देश का भविष्य क्या होगा। जब विधानसभाएं भंग हो जाएंगी, तो अगले चुनाव और कार्यवाहक सरकार की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। कल से मुझे बहुत सारे संदेश मिले हैं, लोग चिंतित थे। पूरे देश के सामने देशद्रोह किया जा रहा था।“

उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि मैं उनसे कहना चाहता हूं, 'घबराना नहीं' (चिंता न करें)। खान के संबोधन के तुरंत बाद, सूचना मंत्री फवाद चौधरी ने पुष्टि की है कि एनए को भंग करने की प्रधानमंत्री की सलाह संविधान के अनुच्छेद 58 के तहत राष्ट्रपति अल्वी को भेजी गई थी।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia