अफगानिस्तान के लोगों को नहीं हो रहा तालिबान पर भरोसा, काबुल एयरपोर्ट पर भीड़ काबू करने के लिए फिर हुई फायरिंग

यह स्पष्ट नहीं हो सका है कि गोलियां दागने वाले सैनिक अमेरिकी थे या नहीं। एयरपोर्ट पर अफगानिस्तान, ब्रिटिश और अन्य पश्चिमी देशों के सैनिक भी तैनात हैं। वहीं, अमेरिकी सेना की ओर से भी फिलहाल इस पर कोई टिप्पणी नहीं की गई है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में देश छोड़ने के लिए एयरपोर्ट तक पहुंचने की कोशिश कर रहे अफगानों की भीड़ को नियंत्रित करने के लिए सैन्य कर्मियों ने शुक्रवार को आंसू गैस के गोले दागे। द वॉल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट में कहा गया है कि एक वरिष्ठ पश्चिमी अधिकारी के अनुसार, भीड़ को तितर-बितर करने के लिए सैनिकों ने हवा में गोलियां भी चलाईं।

हालांकि, यह स्पष्ट नहीं हो सका है कि गोलियां दागने वाले सैनिक अमेरिकी थे या नहीं। हवाई अड्डे पर अफगानिस्तान, ब्रिटिश और अन्य पश्चिमी देशों के सैनिक भी तैनात हैं। वहीं, फिलहाल अमेरिकी सेना की ओर से भी इस पर कोई टिप्पणी नहीं की गई है। यह घटनाक्रम ऐसे समय पर सामने आया है जब एक दिन पहले ही पेंटागन ने कहा था कि एयरपोर्ट पर व्यवस्था बहाल की जा रही है और अफगानिस्तान से निकासी उड़ानों में तेजी आएगी।


यात्रियों द्वारा लिए गए कुछ वीडियो क्लिप में देखा जा सकता है कि भीड़ को तितर-बितर करने और अंदर जाने के लिए संघर्ष कर रहे परिवारों के लिए रास्ता साफ करने के लिए सैनिक भी हवाई अड्डे से बाहर निकल रहे हैं और उस परिधि में बाहर जा रहे हैं, जो तालिबान से घिरा हुआ है।

गौरतलब है कि रविवार को देश पर तालिबान के कब्जे के बाद काफी लोग ऐसे हैं, जो देश से निकल जाना चाहते हैं। हजारों अफगानी अभी भी हवाई अड्डा परिसर में प्रवेश करने के लिए प्रयासरत हैं। इस बीच अमेरिकी अधिकारियों की घोषणाओं के अनुसार नाटो के सहयोगियों और भागीदारों ने पिछले सप्ताहांत से काबुल हवाई अड्डे से लगभग 20,000 लोगों को निकाला है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia