पाक चुनाव: बहुमत से दूर नवाज-बिलावल की पार्टी, इमरान समर्थित निर्दलीयों को सबसे ज्यादा सीटें, राजनीतिक अनिश्चितता बरकरार

पाक मीडिया के मुताबिक, नेशनल असेंबली की 265 सीटों में से 244 सीटों के नतीजे घोषित किए जा चुके हैं। जिसमें इमरान खान की पार्टी पीटीआई समर्थित उम्मीदवारों ने 96 सीटें जीती हैं।

चुनाव परिणाम घोषित न होने से पाकिस्तान में राजनीतिक संकट
चुनाव परिणाम घोषित न होने से पाकिस्तान में राजनीतिक संकट
user

नवजीवन डेस्क

पाकिस्तान का राजनीतिक संकट फिलहाल टलता नजर नहीं आ रहा है। आम चुनाव में किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिलने और मतदान में धांधली के व्यापक आरोपों के बीच मतदान खत्म होने के दूसरे दिन भी सभी सीटों के परिणामों की घोषणा नहीं होने से आशंका और बढ़ गई है। पाकिस्तानी मीडिया के मुताबकि अब भी करीब 21 सीटों के नतीजों का इंतजार है।

पाकिस्तानी न्यूज चैनल जियो न्यूज के अनुसार, नेशनल असेंबली की 265 सीटों में से 244 सीटों के नतीजे घोषित किए जा चुके हैं। जिसमें इमरान खान की पार्टी पीटीआई समर्थित उम्मीदवारों ने 96 सीटें, नवाज शरीफ की पार्टी पीएमएल-एन ने 70 और पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी ने 53 सीटें जीती हैं। वहीं एमक्यूएम-पी को 15 सीटें मिली हैं।

उधर पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने सरकार बनाने की कोशिशें तेज कर दी हैं। शरीफ ने शुक्रवार को अपने ऑफिस के बाहर जमा लोगों को संबोधित किया। पूर्वी शहर लाहौर में अपने घर के बाहर एकत्र समर्थकों की भीड़ से कहा, "चुनाव के बाद पाकिस्तान मुस्लिम लीग आज देश की सबसे बड़ी पार्टी है और इस देश को भंवर से बाहर निकालना हमारा कर्तव्य है।" उन्होंने कहा, "जिसे भी जनादेश मिला है, चाहे वह निर्दलीय हो या पार्टियां, हम उन्हें मिले जनादेश का सम्मान करते हैं।" "हम उन्हें हमारे साथ बैठने और इस घायल राष्ट्र को अपने पैरों पर वापस खड़ा होने में मदद करने के लिए आमंत्रित करते हैं।"

वहीं द गार्जियन की रिपोर्ट में कहा गया है कि विश्लेषकों और उम्मीदवारों ने गुरुवार को हुए चुनावों की सत्यनिष्ठा पर व्यापक रूप से सवाल उठाए, और चिंता जताई कि तीन बार के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और उनकी पाकिस्तान मुस्लिम लीग (पीएमएल-एन) को सत्ता में वापस लाने के लिए वोटों में हेराफेरी करने का प्रयास किया गया था।

ऐसा देखा गया कि शरीफ को पाकिस्तान की शक्तिशाली सेना का समर्थन प्राप्त था, जो लंबे समय से देश की राजनीतिक किस्मत का फैसला करती रही है और इसका चुनावों में हस्तक्षेप करने का इतिहास रहा है।

हालांकि, ऐसा प्रतीत होता है कि देश भर के मतदाता पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) का समर्थन करने के लिए अभूतपूर्व संख्या में सामने आए हैं, जो वर्तमान में एक दशक से अधिक समय से जेल में सजा काट रहे हैं।


कई पीटीआई नेताओं ने दावा किया कि पार्टी ने जो सीटें जीती हैं उनकी वास्तविक संख्या कहीं अधिक है, और वोटों की गिनती में देरी के कारण बड़े पैमाने पर धांधली के आरोप लग रहे हैं।

द गार्जियन की रिपोर्ट के अनुसार, नतीजे के खिलाफ खैबर पख्तूनख्वा और बलूचिस्तान प्रांतों में विरोध-प्रदर्शन शुरू हो गए, जहां पुलिस पर हिंसा का जवाब देने का आरोप है, जबकि पीटीआई समर्थक भी लाहौर की सड़कों पर उतर आए।

जैसे-जैसे दिन चढ़ता गया, पीएमएल-एन और पीटीआई दोनों ने जीत की घोषणा की और देश भर में स्पष्ट परिणामों की कमी पर निराशा की भावना बढ़ रही थी, जो अपने इतिहास में सबसे खराब आर्थिक संकट से जूझ रहा है।

खान की पार्टी की बढ़त कई लोगों के लिए झटका थी। द गार्जियन की रिपोर्ट के अनुसार, वरिष्ठ जनरलों के साथ नाटकीय ढंग से मतभेद होने और 2022 में सत्ता से बेदखल होने के बाद सैन्य नेतृत्व में कई लोग उनसे नफरत करते हैं। सेना ने तब से खान और उनकी पीटीआई पर लगातार हमले किए हैं, जिससे यह स्पष्ट हो गया है कि वह सत्ता में उनकी वापसी को बर्दाश्त नहीं करेगी।

महीनों के दौरान, पीटीआई नेताओं और कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया, उनके उम्मीदवारों को चुनाव प्रचार करने से रोका गया और उनकी पार्टी के प्रतीक क्रिकेट बैट पर प्रतिबंध लगा दिया गया। रिपोर्ट में कहा गया है कि हालांकि, खान की लोकप्रियता हाल के महीनों में बढ़ी है, क्योंकि मतदाता राजनीति में सेना के खुले हस्तक्षेप से निराश हो गए हैं।

गुरुवार शाम को वोटों की गिनती शुरू होने के ठीक बाद, यह खान की पार्टी के लिए भारी बहुमत की तरह लग रहा था।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;