पाकिस्तान में राजनीतिक भूचाल, आर्मी चीफ जनरल बाजवा और पीएम इमरान खान आमने-सामने!

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान और देश के सेना प्रमुख जनरल कमर बाजवा के बीच शुक्रवार को अनिर्धारित मुलाकात के बाद बढ़ते राजनीतिक संकट के बीच पाकिस्तान अटकलों से घिर गया है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

आईएएनएस

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान और देश के सेना प्रमुख जनरल कमर बाजवा के बीच शुक्रवार को अनिर्धारित मुलाकात के बाद बढ़ते राजनीतिक संकट के बीच पाकिस्तान अटकलों से घिर गया है। इमरान खान, जनरल बाजवा और आईएसआई प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल नदीम अंजुम के बीच एक घंटे तक चली बैठक 'अप्रत्याशित' थी।

हालांकि पाकिस्तानी सेना ने मीडिया को बताया कि उन्होंने 'आपसी राष्ट्रीय, क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय हित के मामलों' पर चर्चा की। सूत्रों का कहना है कि बैठक अविश्वास मत के बारे में थी, जिसे इमरान खान 'अवैध' साधनों का उपयोग करके विफल करने की कोशिश कर रहे हैं।

सूत्र ने कहा, "खान ने जहां बाजवा से उनकी 'तटस्थता' की शिकायत की, वहीं सेना प्रमुख ने उन्हें संविधान का पालन करने और जिम्मेदारी के साथ काम करने की सलाह दी।"

राजनीतिक तटस्थता का दावा करने के लिए इमरान खान के सेना प्रमुख जनरल बाजवा पर पलटवार करने के बाद दोनों के बीच यह पहली मुलाकात थी। खान ने खींझकर कहा, "सिर्फ जानवर तटस्थ रहते हैं।"

खान ने सार्वजनिक रूप से यह भी कहा था कि बाजवा ने उनसे विपक्षी नेता फजल उर रहमान को 'डीजल' नहीं कहने के लिए कहा था, लेकिन खान ने अपने समर्थकों से कहा कि उन्होंने बाजवा से कहा, पूरा देश रहमान को 'डीजल' कहता है।


पाकिस्तानी मीडिया में अटकलें थीं कि हार का सामना करने के बाद इमरान खान देश में आपातकाल लगाने की कोशिश कर सकते हैं। वह जनरल बाजवा की जगह लेने की कोशिश भी कर सकते हैं। डेली जंग के इरशाद भट्टी कहते हैं, "यह खान के लिए आत्मघाती होगा। अगर वह असेम्ब्ली में बहुमत का समर्थन खो देते हैं, तो वह आपातकाल घोषित करने की अपनी शक्ति भी खो देंगे। अगर वह बाजवा पर हमला करते हैं, तो उन्हें तुरंत हटा दिया जाएगा। अपनी खातिर खान को लोकतांत्रिक और जिम्मेदारी से काम करना चाहिए।"

उन्होंने कहा कि हो सकता है, सरकार अल्पमत में आ जाने पर बाजवा इमरान खान को स्वेच्छा से पद छोड़ने के लिए कहें। लेकिन इमरान खान सत्ता में बने रहने पर अड़े हैं। उनके कुछ सहयोगियों और असंतुष्ट सदस्यों ने एक बार फिर प्रस्ताव दिया कि पीएम इमरान खान को सरकार को बचाने के लिए किसी और को प्रधानमंत्री बनने का मौका देना चाहिए। लेकिन नाराज इमरान खान ने इस 'माइनस-फॉर्मूला' प्रस्ताव को खारिज कर दिया। डेली जंग के मुताबिक, खान ने उन पर विपक्ष द्वारा खरीदे जाने का आरोप लगाया।

उर्दू दैनिक डेली जंग ने खान के हवाले से कहा, "अगर आप जाना चाहते हैं, तो आगे बढ़ें, लेकिन याद रखें, मैं आपके खिलाफ ऐसे कदम उठाऊंगा कि कोई पीठ में छुरा घोंपने की हिम्मत नहीं करेगा।"

इमरान खान की सत्तारूढ़ पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) पार्टी के असंतुष्ट नेताओं ने उन पर विद्रोहियों को मतदान से रोकने के लिए राज्य पुलिस और कानून लागू करने वाली एजेंसियों का इस्तेमाल करने का आरोप लगाया है। खान ने नेशनल असेम्बली के स्पीकर से विद्रोही सदस्यों को अयोग्य घोषित करने और उनके वोटों को अस्वीकार करने के लिए भी कहा है, लेकिन पाकिस्तानी विशेषज्ञों के अनुसार, स्पीकर वोट देने के बाद ही विद्रोहियों के खिलाफ कार्रवाई कर सकता है, उससे पहले नहीं।


लेकिन खान 'समझदारी' वाली सलाह सुनने के मूड में नहीं हैं। उन्होंने अपने समर्थकों को इस्लामाबाद के डी-चौक पर इकट्ठा होकर मतदान के दिन संसद को घेरने और सांसदों को डराने के लिए बुलाया है, जिसने सैन्य प्रतिष्ठान को ओआईसी की बैठक से पहले इस्लामाबाद को 'सुरक्षित' करने के लिए मजबूर किया है।

जनरल बाजवा ने अपने जनरलों को ओआईसी विदेश मंत्रियों की परिषद की बैठक और पाकिस्तान दिवस परेड के शांतिपूर्ण संचालन को सुनिश्चित करने के लिए व्यापक सुरक्षा उपाय करने का निर्देश दिया है। ओआईसी विदेश मंत्रियों की परिषद की बैठक 22-23 मार्च को इस्लामाबाद में होने वाली है, जबकि पाकिस्तान दिवस परेड 23 मार्च को होने वाली है।

(यह सामग्री इंडियानैरेटिव डॉट कॉम के साथ एक व्यवस्था के तहत प्रस्तुत है)

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 19 Mar 2022, 10:25 PM