पाकिस्तान में बिजली संकट! अब रात 8.30 बजे के बाद अंधेरे में डूब जाएगा पूरा बाजार, जानें क्यों लेना पड़ा फैसला

एक बयान के अनुसार, मुख्यमंत्रियों ने ऊर्जा संकट से निपटने के लिए सरकार द्वारा उठाए जा रहे कदमों की सराहना की और चारों प्रांतों ने रात साढ़े आठ बजे बाजार बंद करने के प्रस्ताव पर सहमति जताई।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

पाकिस्तान की राष्ट्रीय आर्थिक परिषद (एनईसी) ने ऊर्जा बचाने के प्रयास में देशभर के बाजारों को रात 8.30 बजे बंद करने का आदेश देने का फैसला किया है। एनईसी ने बुधवार को प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ की अध्यक्षता में एक बैठक के दौरान यह निर्णय लिया, जिसमें सभी प्रांतों के मुख्यमंत्रियों ने भाग लिया।

एनईसी की बैठक राष्ट्रपति अरी अल्वी के अध्यक्ष के रूप में शहबाज शरीफ के साथ निकाय के पुनर्गठन को मंजूरी देने के एक दिन बाद हुई।

बैठक में बलूचिस्तान, खैबर पख्तूनख्वा और पंजाब के मुख्यमंत्रियों ने भाग लिया, जबकि खैबर पख्तूनख्वा का प्रतिनिधित्व इसके मुख्य सचिव शहजाद खान ने किया।

एक बयान के अनुसार, मुख्यमंत्रियों ने ऊर्जा संकट से निपटने के लिए सरकार द्वारा उठाए जा रहे कदमों की सराहना की और चारों प्रांतों ने रात साढ़े आठ बजे बाजार बंद करने के प्रस्ताव पर सहमति जताई।

जियो न्यूज ने बताया कि बयान में यह भी कहा गया है कि सिंध, पंजाब और बलूचिस्तान के मुख्यमंत्रियों ने निर्णय को लागू करने के लिए दो दिन का समय मांगा है, क्योंकि वे अपने-अपने प्रांतों में व्यापारियों के संघों से परामर्श करना चाहते हैं।

मुख्यमंत्रियों ने ऊर्जा संकट से निपटने के लिए राष्ट्रव्यापी उपायों पर संघीय मंत्रिमंडल के फैसलों का भी समर्थन किया और संकट से निपटने में अपने पूर्ण सहयोग का आश्वासन दिया।

बिजली मंत्री खुर्रम दस्तगीर ने प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि बाजारों को जल्द बंद करने और 'वर्क फ्रॉम होम' से बिजली की बचत हो सकती है।

मंत्री ने कहा, "देश में बिजली का उत्पादन 22,000 मेगावाट है और जरूरत 26,000 मेगावाट की है। उन्होंने कहा कि देश में 4,000 मेगावाट बिजली की कमी है।"

उन्होंने मीडिया को यह भी आश्वासन दिया कि देश में औद्योगिक क्षेत्र को निर्बाध बिजली आपूर्ति की जा रही है।

उन्होंने कहा कि के-2 परमाणु ऊर्जा संयंत्र में उत्पादन शुरू होने के बाद राष्ट्रीय ग्रिड में 1,100 मेगावाट बिजली जोड़ी जाएगी।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia