रूस के सैन्य नेतृत्व के खिलाफ अल्पकालिक विद्रोह करने वाला वैगनर समूह पर पुतिन बोले- इनका अस्तित्व ही नहीं

यह पूछे जाने पर कि क्या समूह को एक लड़ाकू इकाई के रूप में रखा जाएगा, राष्ट्रपति ने उत्तर दिया: "ठीक है, वैगनर पीएमसी अस्तित्व में नहीं है। हमारे पास निजी सैन्य संगठनों के लिए कोई कानून नहीं है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा कि पिछले माह देश के सैन्य नेतृत्व के खिलाफ अल्पकालिक विद्रोह करने वाला वैगनर भाड़े का समूह "अस्तित्व में ही नहीं है।"

सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार, राष्ट्रपति ने रूसी अखबार कोमर्सेंट में यह टिप्पणी करते हुए पहली बार क्रेमलिन बैठक में हुई चर्चा का वर्णन किया, जिसमें समूह के बॉस येवगेनी प्रिगोझिन सहित 35 वैगनर कमांडरों ने भाग लिया था।

यह बैठक  वैगनर सेनानियों द्वारा 24 जून को अल्पकालिक विद्रोह शुरू करने के पांच दिन बाद 29 जून को हुई।

"बैठक में एक ओर, मैंने युद्ध के मैदान (यूक्रेन में) पर उन्होंने क्या किया था, इसका आकलन किया और दूसरी ओर, 24 जून की घटनाओं के दौरान उन्होंने क्या किया, इसका आकलन किया।

पुतिन के हवाले से कहा गया, "तीसरा, मैंने उन्हें उनकी आगे की सेवा के लिए संभावित विकल्प दिखाए, जिसमें उनके युद्ध अनुभव का उपयोग भी शामिल था।"

यह पूछे जाने पर कि क्या समूह को एक लड़ाकू इकाई के रूप में रखा जाएगा, राष्ट्रपति ने उत्तर दिया: "ठीक है, वैगनर पीएमसी अस्तित्व में नहीं है। हमारे पास निजी सैन्य संगठनों के लिए कोई कानून नहीं है। इसका अस्तित्व ही नहीं है। ऐसी कोई कानूनी इकाई नहीं है।"

"समूह मौजूद है, लेकिन कानूनी तौर पर इसका अस्तित्व नहीं है। यह वास्तविक वैधीकरण से संबंधित एक अलग मुद्दा है। लेकिन यह एक ऐसा प्रश्न है जिस पर सरकार में राज्य ड्यूमा में चर्चा की जानी चाहिए। यह एक आसान सवाल नहीं है।"

पुतिन ने कहा कि उन्होंने 35 वैगनर कमांडरों को कई रोजगार विकल्पों की पेशकश की।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;