दुनिया: वैगनर विद्रोह को लेकर पुतिन ने PM मोदी से फोन पर की बात और फ्रांस में हिंसक विरोध प्रदर्शन जारी

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने यूक्रेन और प्राइवेट सेना वैगनर आर्मी के विद्रोह को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से फोन पर बात की है और फ्रांस में ट्रैफिक स्टॉप पर पुलिस द्वारा लड़के की गोली मारकर हत्या करने के मामले में देश भर में हिंसक विरोध प्रदर्शन जारी है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने वैगनर विद्रोह को लेकर पीएम मोदी से फोन पर की बात

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने यूक्रेन और प्राइवेट सेना वैगनर आर्मी के विद्रोह को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से फोन पर बात की है। यह जानकारी क्रेमलिन ने एक बयान जारी कर दी है। रूसी राष्ट्रपति पुतिन के पीएम मोदी से उसके अपने मसलों पर चर्चा की रिपोर्ट न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के हवाले से आई है। इधर पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक दोनों नेताओं ने फोन पर बातचीत के दौरान शंघाई सहयोग संगठन और जी20 को लेकर भी आपस में बात की है।

क्रेमलिन की ओर से कहा गया है कि रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने यूक्रेन के आसपास के हालातों पर प्रधानमंत्री मोदी से बात की है; और साथ ही साथ रूस ने प्राइवेट वैगनर आर्मी के विद्रोह से कैसे निपटा है, इसकी भी चर्चा की है।

फ्रांस में हिंसक विरोध प्रदर्शन जारी, 400 से अधिक गिरफ्तार

फ्रांस में ट्रैफिक स्टॉप पर पुलिस द्वारा 17 साल के एक लड़के की गोली मारकर हत्या करने के मामले में देश भर में हिंसक विरोध प्रदर्शन जारी है। अभी तक 400 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया गया है। अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। सीएनएन ने गृह मंत्री गेराल्ड डर्मैनिन के हवाले से बताया कि गुरुवार रात से शुक्रवार सुबह तक विरोध प्रदर्शन में कम से कम 421 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। बीएफएमटीवी ने पेरिस पुलिस का हवाला देते हुए बताया कि उनमें से आधे से अधिक गिरफ्तारियां पेरिस क्षेत्र में हुईं।

सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार, विरोध प्रदर्शन गुरुवार को लगातार तीसरे दिन भी जारी रहा। हिंसा रोकने में मदद के लिए विशेष पुलिस बल को बोर्डो, ल्योन, रूबैक्स, मार्सेल और लिली शहरों में तैनात किया गया। पेरिस के एक उपनगर नानटेयर में नाहेल एम. को मंगलवार को एक पुलिस अधिकारी ने गोली मार दी थी। नाहेल ने ट्रैफिक पुलिस पर रुकने से इनकार कर दिया था और गाड़ी चला कर भागने लगा, जब पुलिस ने गोली मारी। उपनगर से प्राप्त फुटेज के अनुसार, जलते हुए मलबे के बीच, नैनटेयर में एक दीवार पर "नाहेल के लिए बदला" पेंट किया हुआ दिखाई दिया। उपनगर में एक बैंक में भी आग लगा दी गई और लड़के की याद में आयोजित मार्च के हिंसक हो जाने के बाद पुलिस ने 15 लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया।


आठ माह की देरी के बाद पाक व आईएमएफ के बीच तीन अरब डॉलर के लिए समझौता

आठ महीने की देरी के बाद, पाकिस्तान सरकार और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) आखिरकार तीन अरब डॉलर समझौते पर पहुंच गए हैं। मीडिया रिपोर्टों के मुताबि‍क नकदी की कमी से जूझ रहा देश दिवालिया होने की कगार पर खड़ा़ है। डॉन न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, हालांकि यह सौदा जुलाई में आईएमएफ के कार्यकारी बोर्ड की मंजूरी के अधीन है। नौ महीनों की वार्ता के बाद तीन अरब डॉलर की फंडिंग, पाकिस्तान के लिए उम्मीद से अधिक है। देश 2019 में स्‍वीकृत 6.5 बिलियन डालर के बेलआउट पैकेज से शेष 2.5 बिलियन डॉलर का इंतजार कर रहा था, जो शुक्रवार को समाप्त हो गया।

सौदे को सुरक्षित करने में मदद के लिए, स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान ने सोमवार को अपनी मुख्य ब्याज दर को 22 प्रतिशत की रिकॉर्ड ऊंचाई तक बढ़ा दिया था। बीबीसी ने पाकिस्तान के लिए आईएमएफ के मिशन प्रमुख नाथन पोर्टर के हवाले से जारी बयान में कहा, "अर्थव्यवस्था को कई बाहरी झटकों का सामना करना पड़ा है, जैसे कि 2022 में विनाशकारी बाढ़, जिसने लाखों पाकिस्तानियों के जीवन को प्रभावित किया और यूक्रेन में रूस के युद्ध के मद्देनजर अंतरराष्ट्रीय कमोडिटी की कीमतों में बढ़ोतरी हुई।" उन्होंने कहा, "इन झटकों के साथ-साथ कुछ नीतिगत गलत कदमों के परिणामस्वरूप आर्थिक विकास रुक गया है।

सुरक्षा परिषद में सुधारों को 25वीं बार अगले सत्र के लिए बढ़ाया गया, भारत ने दी चेतावनी

संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 25वीं बार सुरक्षा परिषद सुधारों के लिए बातचीत को अगले सत्र के लिए बढ़ाया है और भारत ने बातचीत प्रक्रिया में सुधार किए बिना इसे 75 साल तक जारी रखने की चेतावनी दी है। वार्ता की विफलता को फिर से बढ़ने के लिए एक "बर्बाद अवसर" बताते हुए, भारत की स्थायी प्रतिनिधि रुचिरा कंबोज ने गुरुवार को कहा कि यह प्रक्रिया "वास्तविक सुधार की दिशा में किसी भी तरह की प्रगति के बिना अगले 75 वर्षों तक चल सकती है। उन्होंने कहा कि अंतर सरकारी वार्ता (आईजीएन) में तब तक प्रगति नहीं हो सकती जब तक कि प्रक्रिया के महासभा के नियमों और एकल वार्ता पाठ को इसके लिए नहीं अपनाया जाता।

जैसा कि 2009 में आईजीएन शुरू होने के बाद से इसने हर सत्र में किया है, महासभा ने वार्ता को सितंबर में शुरू होने वाले अपने अगले सत्र में स्थानांतरित करने के लिए सर्वसम्मति से मतदान किया। प्रगति में मुख्य बाधा इटली के नेतृत्व वाले देशों के एक छोटे समूह का विरोध है, जिसमें पाकिस्तान भी शामिल है, इस पर सुधार के लिए चर्चा को आधार बनाने के लिए एक वार्ता पाठ को अपनाया जा सकता है। कम्बोज ने कहा, "यह स्थिति स्पष्ट रूप से उन लोगों के हित में है, जो यथास्थिति चाहते हैं, ताकि इस प्रक्रिया को दोहराव वाले चक्रों में स्थिर रखा जा सके।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;