यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों के परिजन दूतावास के बाहर मौजूद, अधिकारियों से मांगी मदद

रूस और यूक्रेन के बीच छिड़ी जंग के बीच भारतीय छात्र वापस भारत लौटने का इंतजार कर रहे हैं। दिल्ली में यूक्रेन दूतावास के बाहर कई छात्रों के माता पिता पहुंचे और बच्चों को वापस बुलाने की गुहार लगाई।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

रूस और यूक्रेन के बीच छिड़ी जंग के बीच भारतीय छात्र वापस भारत लौटने का इंतजार कर रहे हैं। दिल्ली में यूक्रेन दूतावास के बाहर कई छात्रों के माता पिता पहुंचे और बच्चों को वापस बुलाने की गुहार लगाई। दूतावास के बाहर कई मां और बहनें रोती, बिलखती दरवाजे पर खड़ी रहीं और लगातार दूतावास के अधिकारियों से मदद मांगती नजर आईं। नेहा अपने भाई के लिए दूतावास पहुंची हुई हैं। उन्होंने बताया कि, पिछले साल ही मेरा भाई एमबीबीएस की पढ़ाई करने यूक्रेन गया था, लेकिन बीते दो दिनों से हमारी बात नहीं हुई तो हम सब घबरा गए हैं। दूतावास के लगातार चक्कर लगा रहे हैं, मेरे भाई ने कल रात ही बताया कि लाइट, पैसा, कुछ नहीं है। वह डरा हुआ है और चाहता है कि जल्द से जल्द भारत बुलाया जाए। मेरे भाई के अलावा कई अन्य उसके दोस्त भी फंसे हुए हैं।

दूतावास आये तो हमें बोल दिया गया है कि आप मंत्रालय जाइए। मेरी सरकार से गुजारिश है कि सभी बच्चों को यूक्रेन से निकाला जाए। दूतावास के बाहर छात्रों के परिजन अधिकारियों से मिलने की जिद पर अड़े रहे, साथ ही परिजनों ने चेतावनी भी दी कि हम यहां से नहीं उठेंगे, हालांकि कुछ वक्त बाद दूतावास के अधिकारियों ने परिजनों को अंदर बुलाकर उनसे बात की।


दूतावास के बाहर ही एक पिता ने यूक्रेन में फंसे अपने बच्चे से वीडियो कॉल पर बात की और बात करते करते आंखों से आंसू निकल आए, कुछ देर बाद बच्चे ने पिता से संयम बनाये रखने की बात कही और खुद को सुरक्षित जगह रहने का दावा किया। इसके अलावा भारतीय छात्रों के माता पिता रूसी दूतावास के बाहर भी जाने का इरादा बना रहे हैं, उनके मुताबिक, शाम को हम रूसी दूतावास से भी मदद मांगेंगे।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia