रूस ने 40 जर्मन राजनयिकों को निकाला, बर्लिन के कदम के जवाब में कार्रवाई

रूस के कदम पर जर्मन विदेश मंत्री ने कहा कि यह 'अपेक्षित' था, लेकिन 'किसी भी तरह से उचित नहीं था'। उन्होंने कहा कि जर्मनी द्वारा निष्कासित रूसी राजनयिक कोई कूटनीतिक सेवा नहीं कर रहे थे जबकि रूस द्वारा निष्कासित जर्मनी के लोगों ने 'कुछ भी गलत नहीं किया'।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

रूस ने 40 जर्मन राजनयिकों को अपने देश से बाहर निकालने की घोषणा की है। जर्मनी में काम करने वाले 40 रूसी राजनयिकों को अप्रैल में 'प्रवेश वर्जित' घोषित कर दिया गया था। इसी के विरोध में रूस ने सोमवार को जर्मन राजदूत गेजा एंड्रियास वॉन गेयर को तलब किया और अपना फैसला सुनाया।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, रूस ने जर्मनी के फैसले को 'अस्वीकार्य' करार दिया और जर्मन राजदूत को सूचित किया कि 40 जर्मन राजनयिकों को देश से बाहर निकाला जाएगा। क्रेमलिन ने विशुद्ध रूप से रूसी राजनयिकों को जर्मनी से निकाले जाने के जवाब में यह कदम उठाया है।


रूस के इस कदम पर प्रतिक्रिया देते हुए, जर्मन विदेश मंत्री एनालेना बेरबॉक ने कहा कि यह 'अपेक्षित' था, लेकिन 'किसी भी तरह से उचित नहीं था'। उन्होंने कहा कि जर्मनी द्वारा निष्कासित रूसी राजनयिक कोई कूटनीतिक सेवा नहीं कर रहे थे जबकि रूस द्वारा निष्कासित जर्मनी के लोगों ने 'कुछ भी गलत नहीं किया'।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia