रूस जापोरिज्‍जया परमाणु संयंत्र यूक्रेन को वापस सौंपे, 40 से अधिक देशों ने उठाई मांग

मार्च से रूसी सैनिकों द्वारा कब्जाया गया पूरे यूरोप का सबसे बड़ा परमाणु ऊर्जा संयंत्र जापोरिज्‍जया संयंत्र कई हफ्तों से गोलाबारी का शिकार हो रहा है। हालांकि दोनों पक्ष ने रविवार की गोलाबारी के लिए एक दूसरे को जिम्मेदार ठहराया, जिसमें एक नागरिक मारा गया था।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

यूक्रेन के शहर एनरहोदर में रूस के कब्जे वाले जापोरिज्‍जया परमाणु ऊर्जा संयंत्र के पास फिर से तोप के गोले दागे जाने के बाद दर्जनों देशों ने क्षेत्र से रूसी सैनिकों की तत्काल वापसी के साथ ही रूस से जापोरिज्‍जया परमाणु संयंत्र यूक्रेन को वापस सौंपने की मांग की है। 42 देशों की ओर से एक बयान में कहा गया है, "परमाणु संयंत्र में रूसी सैन्यकर्मियों और हथियारों को तैनात करना अस्वीकार्य है।"

समाचार एजेंसी डीपीए के अनुसार यूरोपीय संघ के साथ अमेरिका, ब्रिटेन, नॉर्वे, ऑस्ट्रेलिया, जापान, न्यूजीलैंड और कई अन्य देशों की ओर से यह मांग की गई। इन देशों ने कहा कि हम रूसी संघ से अपने सैन्य बलों और अन्य सभी अनधिकृत कर्मियों को जापोरिज्‍जया परमाणु ऊर्जा संयंत्र, उसके आसपास और पूरे यूक्रेन से तुरंत वापस लेने का आग्रह करते हैं, ताकि ऑपरेटर और यूक्रेनी अधिकारी यूक्रेन की मान्यता प्राप्त सीमाओं के भीतर अपनी संप्रभु जिम्मेदारियों को फिर से शुरू कर सकें। बयान में कहा गया, "यह अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी को सुरक्षित और सुरक्षित परिस्थितियों में और समयबद्ध तरीके से यूक्रेन के सुरक्षा दायित्वों के अनुसार अपना सत्यापन करने में सक्षम करेगा।"


यूरोप का सबसे बड़ा परमाणु ऊर्जा संयंत्र, जिस पर मार्च से रूसी सैनिकों का कब्जा है, कई हफ्तों से गोलाबारी का शिकार हो रहा है। प्रत्येक पक्ष ने रविवार को गोलाबारी के लिए एक दूसरे को जिम्मेदार ठहराया और दोनों पक्षों ने बताया कि इस गोलीबारी में एक नागरिक मारा गया।
रूसी अधिकारियों ने कहा कि यूक्रेन के राष्ट्रवादियों ने इस क्षेत्र पर हमला किया था, जबकि शहर के यूक्रेनी मेयर दिमित्रो ओरलोव ने रूसी पक्ष द्वारा 'जानलेवा उकसावे' की बात कही थी।

घटना की कोई स्वतंत्र पुष्टि नहीं हुई है। आईएईए के विशेषज्ञ साइट का निरीक्षण करने वाले हैं। हालांकि, संयुक्त राष्ट्र, रूस और यूक्रेन यात्रा की योजना पर सहमत नहीं हो सकते। रूसी राजनयिक मिखाइल उल्यानोव ने संयुक्त राष्ट्र से संयंत्र की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए हस्तक्षेप करने का आह्वान किया है। उल्यानोव ने रविवार को प्रकाशित एक साक्षात्कार में रूसी समाचार एजेंसी टीएएसएस को बताया, "अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी के विशेषज्ञों द्वारा परमाणु ऊर्जा संयंत्र की यात्रा के लिए हरी बत्ती देना संयुक्त राष्ट्र सचिवालय का कार्य है।"


रिपोर्ट के अनुसार, संयुक्त राष्ट्र ने अब तक आईएईए प्रमुख राफेल ग्रॉसी को न केवल सुरक्षा कारणों से, बल्कि यात्रा कार्यक्रम पर विवाद के कारण भी यात्रा करने की अनुमति नहीं दी है।
ग्रॉसी क्रीमिया के काला सागर प्रायद्वीप के माध्यम से रूसी संरक्षण के तहत यात्रा कर सकता था, जिसे 2014 में मास्को द्वारा कब्जा कर लिया गया था, लेकिन इसे कीव द्वारा अपमान के रूप में माना जाएगा।

यूक्रेन ने रूसी सैनिकों पर एक किले के रूप में परमाणु ऊर्जा संयंत्र का उपयोग करने का आरोप लगाया है, जहां से निकोपोल और मारहानेज के छोटे शहरों पर गोलीबारी की जाती है, जो कि निप्रो जलाशय के दूसरे किनारे पर स्थित है। दूसरी ओर, रूस का दावा है कि यूक्रेन ड्रोन, भारी तोपखाने और रॉकेट लांचर के साथ संयंत्र पर गोलाबारी कर रहा है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


/* */