रूस-यूक्रेन युद्ध वैश्विक मंदी का बन सकता है कारण, विश्व बैंक प्रमुख ने खाद्य और उर्जा कीमतों पर जताई चिंता

विश्व बैंक के प्रमुख ने कहा कि ऊर्जा की कीमतों को दोगुना करने का विचार अपने आप में मंदी को ट्रिगर करने के लिए पर्याप्त है। मलपास ने यह भी कहा कि कई यूरोपीय देश अभी भी तेल और गैस के लिए रूस पर निर्भर हैं।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

विश्व बैंक के प्रमुख डेविड मलपास ने चेतावनी दी है कि रूस-यूक्रेन युद्ध वैश्विक मंदी का कारण बन सकता है। बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने बुधवार को एक अमेरिकी व्यावसायिक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए यह टिप्पणी की और कहा कि इससे खाद्य, ऊर्जा और उर्वरक की कीमतों में उछाल आया है।

विश्व बैंक के प्रमुख ने कहा, "जैसा कि हम वैश्विक जीडीपी को देख रहे हैं, अभी यह देखना कठिन है कि हम मंदी से कैसे बचते हैं। ऊर्जा की कीमतों को दोगुना करने का विचार अपने आप में मंदी को ट्रिगर करने के लिए पर्याप्त है।" मलपास ने यह भी कहा कि कई यूरोपीय देश अभी भी तेल और गैस के लिए रूस पर निर्भर हैं।


हालांकि पश्चिमी देश रूसी ऊर्जा पर अपनी निर्भरता कम करने की योजनाओं को आगे बढ़ा रहे हैं। उन्होंने यूएस चैंबर ऑफ कॉमर्स द्वारा आयोजित एक वर्चुअल कार्यक्रम में कहा कि रूस द्वारा गैस की आपूर्ति में कटौती 'पर्याप्त मंदी' का कारण बन सकता है।

बीबीसी के अनुसार विश्व बैंक प्रमुख ने कहा कि उच्च ऊर्जा की कीमतें पहले से ही जर्मनी पर भार डाल रही थीं, जो यूरोप की सबसे बड़ी और दुनिया में चौथी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है। उर्वरक, भोजन और ऊर्जा की कमी से विकासशील देश भी प्रभावित हो रहे हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia