Russia Ukraine War: रूसी ‘किलर’ युद्धपोत को यूक्रेन ने काला सागर में किया तबाह! ये बनेगा तीसरे विश्व युद्ध की वजह?

यूक्रेन के दावे पर रूस ने कहा कि किलर मिसाइलों से लैस युद्धपोत के गोला-बारूद में आग लग जाने की वजह से इसमें धमाका हुआ। रूस के मुताबिक, समय रहते उसने अपने सभी नौसैनिकों को युद्धपोत से निकाल लिया।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध जारी है। दोनों देशों के बीच युद्ध को 50 दिन बीत चुके हैं। यह जंग और भीषण रूप लेता जा रहा है। डर इस बात का है कि कहीं यह जंग चौथे विश्व युद्ध का रूप ना ले ले। युद्ध बीच बड़ी खबर सामने आई है। रूस का जंगी मोस्कवा युद्धपोत तबाह हो गया है। यूक्रेन का दावा है कि उसने नेप्‍चून मिसाइल का प्रयोग कर रूस के इस युद्धपोत तबाह कर दिया है। रूस का यह युद्धपोत काला सागर से यूक्रेन की जमीन पर ताबड़तोड़ मिसाइले दाग रहा था।

यूक्रेन के दावे पर रूस ने कहा कि किलर मिसाइलों से लैस युद्धपोत के गोला-बारूद में आग लग जाने की वजह से इसमें धमाका हुआ। रूस के मुताबिक, समय रहते उसने अपने सभी नौसैनिकों को युद्धपोत से निकाल लिया। रूस का यह मोस्कवा युद्धपोत समंदर से यूक्रेन को निशाना बना रहा था और युद्ध में रूस को बढ़त दिला रहा था।


फरवरी में युद्ध की शुरुआत हुई थी। तब स्नेक आइलैंड से मोस्कवा युद्धपोत से कई मिसाइलें दागी गई थीं। इसके बाद से ही यह युद्धपोत यूक्रेन के निशाने पर था। ऐसा दावा किया गया है कि यूक्रेन ने युद्धपोत को निशाना बनाने के मोस्कवा के रडार सिस्टम को धोखा दिया। इसके लिए तुर्की के बायरक्तार ड्रोन के सहारे ओडेसा में छिपी यूक्रेनी सेना ने दो नेप्‍चून मिसाइलों से रूस के इस युद्धपोत को तबाह कर दिया।

कितना खास है रूस का मोस्कवा युद्धपोत?

रूस का यह मोस्कवा युद्धपोत युद्ध के लिहाज से बेहद खास है। इस युद्धपोत की लंबाई 600 फुट है। इसका वजन 12500 टन है। इस युद्धपोत पर एस-300 मिसाइल सिस्टम तैनात रहते हैं। साथ ही इस पर 500 सैनिकों की तैनाती रहती है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 15 Apr 2022, 9:03 AM