रूसी सेना ने कीव में प्रशासनिक इमारतों पर हमले की दी चेतावनी, आस-पास के नागरिकों को घर छोड़ने को कहा

रूसी सेना ने मंगलवार को कहा कि वह यूक्रेन की राजधानी कीव में प्रशासनिक इमारतों पर हमले करेगी। इसलिए सेना ने आस-पास के इलाकों में रहने वाले नागरिकों को इलाका खाली करने की चेतावनी दी है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

रूसी सेना ने मंगलवार को कहा कि वह यूक्रेन की राजधानी कीव में प्रशासनिक इमारतों पर हमले करेगी। इसलिए सेना ने आस-पास के इलाकों में रहने वाले नागरिकों को इलाका खाली करने की चेतावनी दी है। सीएनएन ने अपनी एक हालिया रिपोर्ट में यह जानकारी दी।

रूसी रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि रूस एसबीयू (यूक्रेन की सुरक्षा सेवा) की इमारतों और उनके ठिकानों पर हमला करने वाला है। इसने बताया कि रूसी सेना एसबीयू और कीव में 72वें मुख्य सूचना एवं मनोवैज्ञानिक संचालन केंद्र (पीएसओ) को निशाना बनाएगी।


मंत्रालय ने आगाह किया है कि कीव में इंटेल साइटों पर उच्च-सटीक हथियारों से हमला किया जाएगा। बयान में कहा गया है, हम कीव के लोगों को बताना चाहते हैं कि, जो लोग प्रशासनिक इमारतों के पास रहते हैं, वह जल्द से जल्द अपने घर छोड़कर चले जाएं।

रूस के खिलाफ उकसावे को देखते हुए बयान में कहा गया है कि वह यूक्रेन के राष्ट्रवादियों द्वारा आकर्षित यूक्रेन के नागरिकों और रिले नोड्स के पास रहने वाले कीव के निवासियों को अपने घर छोड़ने के लिए कर रहे हैं।

सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार, मैक्सार टेक्नोलॉजीज के उपग्रह चित्रों (सैटेलाइट इमेज) के अनुसार, 40 मील लंबा एक विशाल रूसी सैन्य काफिला - बख्तरबंद वाहनों, टैंकों, तोपखाने और अन्य लॉजिस्टिक वाहनों से लैस - कीव के बाहरी इलाके में पहुंच गया है।


रूस ने बार-बार दावा किया है कि वह यूक्रेन में नागरिक बुनियादी ढांचे को प्रभावित नहीं कर रहा है। लेकिन सोशल मीडिया वीडियो, फोटो और सैटेलाइट इमेज का सीएनएन द्वारा विश्लेषण और जियोलोकेशन इस बात की पुष्टि करता है कि कई मौकों पर घनी आबादी वाले इलाके रूसी सेना की चपेट में आए हैं।

पिछले दो दिनों में, दूसरे सबसे बड़े शहर खार्किव पर त्वरित हमले, जिसने नागरिकों को मारा है, यह सुझाव देता है कि रूस अपने पहले के हमलों के विपरीत, एक बहुत कम संयमित बमबारी अभियान की ओर बढ़ रहा है, जो सैन्य लक्ष्यों पर अधिक केंद्रित रहे हैं।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia