लीबिया के राष्ट्रपति पद का चुनाव लड़ेंगे मुअम्मर गद्दाफी के बेटे, 2017 में जेल से किया गया था रिहा

सैफ अल-इस्लाम गद्दाफी को 2011 में उनके पिता मुअम्मर गद्दाफी के शासन के पतन के बाद पश्चिमी शहर जिंटान में हिरासत में ले लिया गया था। उन्हें मौत की सजा भी दी गई थी, जिसे बाद में पलट दिया गया। इसके बाद उन्हें 2017 में जेल से रिहा कर दिया गया था।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

लीबिया के पूर्व शासक मुअम्मर गद्दाफी के बेटे सैफ अल-इस्लाम गद्दाफी ने देश के राष्ट्रपति पद का चुनाव लड़ने का ऐलान किया है। लीबिया उच्च राष्ट्रीय चुनाव आयोग ने घोषणा की है कि 24 दिसंबर को होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में लड़ने के लिए सैफ अल-इस्लाम ने आधिकारिक तौर पर अपने उम्मीदवारी दस्तावेज जमा कर दिए हैं।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने एक बयान में आयोग के हवाले से कहा कि रविवार, 14 नवंबर, 2021 को उम्मीदवार सैफ अल-इस्लाम मुअम्मर गद्दाफी ने लीबियाई राज्य के राष्ट्रपति पद के लिए अपनी उम्मीदवारी पेश की। बयान में कहा गया है, "उम्मीदवार सैफ अल-इस्लाम गद्दाफी ने भी चुनावी केंद्र (सेभा शहर में) से अपना चुनावी कार्ड प्राप्त किया।

सैफ अल-इस्लाम गद्दाफी को 2011 में उनके पिता मुअम्मर गद्दाफी के शासन के पतन के बाद पश्चिमी शहर जिंटान में हिरासत में ले लिया गया था। उन्हें मौत की सजा भी दी गई थी, जिसे बाद में पलट दिया गया था। इसके बाद उन्हें 2017 में जेल से रिहा कर दिया गया था। अब उन्होंने राष्ट्रपति का चुनाव लड़ने का ऐलान कर देश की राजनीति में भूमिका निभाने के संकेत दे दिए हैं।


बीबीसी के अनुसार सैफ अल-इस्लाम गद्दाफी कभी अपने पिता के उत्तराधिकारी थे, लेकिन 10 साल पहले प्रदर्शनकारियों पर क्रूर कार्रवाई के उनके समर्थन ने उनकी छवि को धूमिल कर दिया था। गद्दाफी के पतन के बाद सैफ अल इस्लाम को भी जेल की सजा काटनी पड़ी। हालांकि, अब वह फिर से राजनीति में वापसी कर रहे हैं।

संयुक्त राष्ट्र प्रायोजित लीबिया राजनीतिक वार्ता मंच (एलपीडीएफ) द्वारा अपनाए गए रोडमैप के हिस्से के रूप में लीबिया इस साल 24 दिसंबर को आम चुनाव कराने की उम्मीद कर रहा है।
चुनाव में अन्य उम्मीदवार सरदार खलीफा हफ्तार हैं, जिन्होंने पहले त्रिपोली में संयुक्त राष्ट्र समर्थित सरकार, प्रधानमंत्री अब्दुलहमीद अल-दबीबा और संसद अध्यक्ष अगुइला सालेह के खिलाफ अपने पूर्वी आधार से विद्रोह का नेतृत्व किया था।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia