चीन पर मंडराया रहस्यमयी बीमारी का साया, बड़े पैमाने पर शिकार हो रहे हैं बच्‍चे

लिओनिंग प्रांत में डालियान चिल्ड्रेन हॉस्पिटल भी बीमार बच्चों से भरा हुआ है। रिपोर्ट में कहा गया है कि पारंपरिक चीनी चिकित्सा अस्पतालों और केंद्रीय अस्पतालों में भी मरीजों की कतारें हैं।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

चीन में बड़े पैमाने पर बच्‍चे निमोनिया का शिकार हो रहे हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार, इससे देश के बाल चिकित्सा अस्पतालों में भारी भीड़ है। इस बीमारी का कारण अभी पता नहीं चल पाया है। बच्चों में मुख्य रूप से तेज बुखार सहित कई लक्षण दिखाई दे रहे हैं, कुछ बच्चों में फुफ्फुसीय नोड्यूल विकसित हो रहे हैं। अभी तक ऐसा कोई संकेत नहीं मिला है कि संक्रमण घातक है।

इंटरनेशनल सोसाइटी फॉर इंफेक्शियस डिजीज की ऑनलाइन रिपोर्टिंग प्रणाली प्रोमेड मेल पर एक पोस्ट में कहा गया, ''ये रिपोर्टें 2019 के अंत में वुहान में एक रहस्यमय निमोनिया के प्रकोप की शुरुआती रिपोर्टों के समान हैं, जिसने कोविड -19 की शुरुआत की, जिससे माता-पिता सवाल करने लगे कि क्या अधिकारी महामारी को कवर कर रहे हैं।''

इसमें कहा गया है कि चीन में निमोनिया के प्रकोप ने बीजिंग, लियाओनिंग और अन्य स्थानों के बाल चिकित्सा अस्पतालों को बीमार बच्चों से भर दिया है। स्कूल और कक्षाएं भी निलंबित होने की कगार पर हैं। पोस्ट में लिखा है, "न केवल छात्र, बल्कि शिक्षक भी निमोनिया से संक्रमित हैं।"


बीजिंग चिल्ड्रेन्स हॉस्पिटल में बीजिंग के एक नागरिक ने बताया, "बहुत से लोग अस्पताल में भर्ती हैं। उन्हें खांसी नहीं होती और उनमें कोई लक्षण नहीं होते। उन्हें बस बुखार होता है। कई लोगों की फेफड़ों में गांठें विकसित हो जाती हैं।"

लिओनिंग प्रांत में डालियान चिल्ड्रेन हॉस्पिटल भी बीमार बच्चों से भरा हुआ है। रिपोर्ट में कहा गया है कि पारंपरिक चीनी चिकित्सा अस्पतालों और केंद्रीय अस्पतालों में भी मरीजों की कतारें हैं।

डालियान सेंट्रल हॉस्पिटल के एक स्टाफ सदस्य के अनुसार, "मरीजों को 2 घंटे तक लाइन में इंतजार करना पड़ता है, और हम सभी आपातकालीन विभाग में हैं और कोई सामान्य आउट पेशेंट क्लिनिक नहीं है।"

कुछ पर्यवेक्षकों का अनुमान है कि इसका प्रकोप माइकोप्लाज्मा निमोनिया के कारण हो सकता है, जिसे आमतौर पर "वॉकिंग निमोनिया" के रूप में जाना जाता है। "यह संभव है कि चीन में श्वसन संक्रमण में वृद्धि देखी जा सकती है जैसा कि अन्य देशों ने लॉकडाउन के बाद अपनी पहली सर्दियों में देखा था।"

डब्ल्यूएचओ के स्वास्थ्य आपात स्थिति कार्यक्रम से जुड़ी संक्रामक रोग चिकित्सक कृतिका कुप्पल्ली ने एक्स पर लिखा, ''यह संभव है कि चीन में श्वसन संक्रमण में वृद्धि देखी जा सकती है जैसा कि अन्य देशों ने लॉकडाउन के बाद अपनी पहली सर्दियों में देखा था।''

कथित तौर पर "शून्य" कोविड नीति का पालन करना बंद करने के बाद, चीन वर्ष की शुरुआत से इन्फ्लूएंजा, माइकोप्लाज्मा और ब्रोन्कोपमोनिया जैसी महामारी का सामना कर रहा है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;