Israel Hamas War: जंग में अब तक 20 हजार फिलिस्तीनियों की गई जान, इनमें 8 हजार बच्चे और 6 हजार से ज्यादा महिलाएं शामिल

जंग में मारे गए 20 हजार लोगों में 8,000 से अधिक बच्चे और 6,200 महिलाएं शामिल हैं, जबकि 52,000 से अधिक लोग घायल हुए हैं और 6,700 अन्य लापता हैं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

इजरयाल और हमास के बीच जंग जारी है। हमास द्वारा संचालित सरकारी मीडिया कार्यालय द्वारा जारी एक बयान के मुताबिक, 7 अक्टूबर से गाजा पट्टी में इजरायली हमलों में मरने वाले फिलिस्तीनियों की संख्या 20 हजार तक पहुंच गई है। समाचार एजेंसी श‍िन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, बुधवार को बयान में कहा गया कि मृतकों में 8,000 से अधिक बच्चे और 6,200 महिलाएं शामिल हैं, जबकि 52,000 से अधिक लोग घायल हुए हैं और 6,700 अन्य लापता हैं।

इसमें कहा गया है कि इजरायली हमलों में कुल 310 चिकित्सा कर्मी, 35 नागरिक सुरक्षा कर्मी और 97 पत्रकार मारे गए। इस बीच, फिलिस्तीनी स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार को कहा कि वेस्ट बैंक के हेब्रोन और बेथलहम शहरों में इजरायली सैनिकों के साथ झड़प में दो फिलिस्तीनी मारे गए। आधिकारिक फिलिस्तीनी समाचार एजेंसी डब्‍ल्‍यूएएफए के अनुसार, 7 अक्टूबर को इजरायली-फिलिस्तीनी संघर्ष का यह नया दौर शुरू होने के बाद से कब्जे वाले क्षेत्र में इजरायली गोलीबारी से मरने वाले फिलिस्तीनियों की संख्या बढ़कर 303 हो गई है।

वहीं, इजरायल के प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) के सूत्रों के अनुसार, काहिरा में वरिष्ठ हमास नेताओं की एक प्रतिनिध‍ित्‍व कर रहे हमास के राजनीतिक प्रमुख, इस्माइल हानियेह ने मिस्र के वार्ताकारों को सूचित किया है कि उनका संगठन गाजा पट्टी में केवल युद्ध के पूर्ण अंत के लिए ही सहमत होगा। इजरायल युद्ध को पूरी तरह से बंद करने पर असहमत है और इसके कारण हमास द्वारा बंधक बनाए गए लगभग 120 बंधकों का भविष्य अधर में है।

इस्माइल हानियेह ने वार्ताकारों से कहा है कि वह युद्ध रोकने के लिए काहिरा में हैं और अंशकालिक युद्धविराम और बंधकों की रिहाई संभव नहीं है। इजरायल ने हमास की हिरासत में 40 बंधकों की रिहाई के लिए लड़ाई में एक हफ्ते के संघर्ष विराम पर सहमति व्यक्त की थी, इसमें महिलाएं, बच्चे और बुजुर्ग शामिल थे, जो बीमार हैं और उन्हें दवा की जरूरत है।


इजरायल ने इजरायल की जेलों में बंद फिलिस्तीनी कैदियों को रिहा करने पर भी सहमति व्यक्त की है और यहां कहा था कि जो फिलिस्तीनी अधिक गंभीर अपराधों के लिए सलाखों के पीछे हैं, उन्हें बंधकों की अदला-बदली के लिए छोड़ा जा सकता है।

इजराइल व हमास के बीच 7 अक्टूबर को शुरू हुए युद्ध के दौरान 24 नवंबर से 1 दिसंबर तक एक हफ्ते के युद्धविराम में 105 बंधकों को रिहा किया गया, जिन्हें 7 अक्टूबर को दक्षिण इज़राइल में तबाही और नरसंहार के बाद हमास ने पकड़ लिया था।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;