दुनिया की 5 बड़ी खबरें: फेस मास्क लगाने की अनिवार्यता खत्म करेगा ये देश और वेस्ट बैंक संघर्ष में 159 फिलिस्तीनी घायल

स्पेन की सरकार अगले सप्ताह से आउटडोर फेस मास्क लगाने की अनिवार्यता खत्म कर देगी और उत्तरी वेस्ट बैंक में इजरायली सैनिकों के साथ संघर्ष के दौरान कम से कम 159 फिलिस्तीनी प्रदर्शनकारी घायल हो गए है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

स्पेन फेस मास्क लगाने की अनिवार्यता खत्म करेगी

स्पेन की सरकार अगले सप्ताह से आउटडोर फेस मास्क लगाने की अनिवार्यता खत्म कर देगी। ये जानकारी स्वास्थ्य मंत्री कैरोलिना डारियास ने दी। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, मंत्री ने स्थानीय रेडियो स्टेशन कैडेना सेर को बताया, 8 फरवरी को कैबिनेट की बैठक में इसके प्रस्ताव को मंजूरी दी जाएगी। यह उपाय अगले दिन आधिकारिक राज्य राजपत्र में प्रकाशित किया जाएगा और 10 फरवरी से प्रभावी होगा। स्पैनिश सरकार ने पहले जून 2021 में आउटडोर फेसमास्क लगाने की अनिवार्यता खत्म कर दी थी, लेकिन 23 दिसंबर को इसे फिर से शुरू कर दिया गया क्योंकि कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन के कारण देश में कोरोना के मामले बढ़ गए थे। स्पेन में 19.96 कोरोना संक्रमित मरीज प्रतिशत गहन देखभाल इकाईयों में भर्ती है, जो एक महीने में पहली बार 20 प्रतिशत से कम है। दरियास ने कहा कि सभी महामारी विज्ञान संकेतक संक्रमणों की संख्या में गिरावट की ओर इशारा करते हैं और देश के कुछ समुदाय आउटडोर मास्क लगाने की बाध्यता को हटाने का आह्वान कर रहे हैं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

उत्तरी वेस्ट बैंक में इजरायली सैनिकों के साथ संघर्ष में 159 फिलिस्तीनी प्रदर्शनकारी घायल

उत्तरी वेस्ट बैंक में इजरायली सैनिकों के साथ संघर्ष के दौरान कम से कम 159 फिलिस्तीनी प्रदर्शनकारी घायल हो गए है। ये जानकारी फिलिस्तीन रेड क्रिसेंट सोसाइटी (पीआरसीएस) ने साझा की। पीआरसीएस ने समाचार एजेंसी सिन्हुआ को भेजे एक बयान में कहा कि चिकित्सा टीमों ने नब्लस शहर के दक्षिण और पूर्व में स्थित बेता और बेत दाजान गांवों के पास घायल 79 फिलिस्तीनियों का इलाज किया। इसमें कहा गया कि 79 घायल फिलीस्तीनी लोगों में दो युवक थे जिन्हें जिंदा गोलियों से भून दिया गया था उन्हें एंबुलेंस से नब्लस के मुख्य अस्पताल ले जाया गया था। इसके अलावा, इजरायली सैनिकों द्वारा चलाई गई रबर-लेपित धातु की गोलियों से 9 अन्य मामूली रूप से घायल हो गए, जिसमें एक महिला पत्रकार भी शामिल थी, उसके चेहरे पर गोली मार दी गई थी, जबकि 68 को सैनिकों द्वारा दागे गए आंसू गैस में सांस लेने के बाद दम घुट गया था। मई 2021 के बाद से, गांव के निवासियों के स्वामित्व वाली भूमि पर एक समझौता चौकी स्थापित करने के विरोध में, बेता गांव ने इजरायली सैनिकों के साथ लगभग रोजाना संघर्ष देखा है।

वेस्ट बैंक में भूमि और बस्तियों के विस्तार के इजरायली जब्ती के खिलाफ बेत दाजान गांव ने फिलिस्तीनी कार्यकर्ताओं द्वारा आयोजित साप्ताहिक विरोध प्रदर्शन देखा है। पीआरसीएस के अनुसार, शहर के पूर्व में एक गांव में विरोध प्रदर्शन के दौरान कल्किल्या शहर के पास इजरायली सैनिकों द्वारा कम से कम तीन फिलिस्तीनियों को गोली मारकर घायल कर दिया गया था। फिलिस्तीनी विदेश मंत्रालय ने एक बयान में इजरायली सेना और बसने वालों को फिलिस्तीनियों और वेस्ट बैंक में उनकी संपत्तियों पर हमलों के लिए निंदा की, यह देखते हुए कि 'ये हमले शांति प्रक्रिया को फिर से शुरू करने के किसी भी अवसर को अवरुद्ध कर देंगे।' इन घटनाओं पर इजरायल ने कोई आधिकारिक टिप्पणी नहीं की है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

आठ देशों ने यूएनएससी से मिसाइल परीक्षण की निंदा करने का आग्रह किया

अमेरिका और आठ अन्य देशों ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) से उत्तर कोरिया के हालिया मिसाइल परीक्षणों की निंदा करने का आग्रह किया है। योनहाप समाचार एजेंसी ने शनिवार को बताया कि शुक्रवार की बैठक ने उत्तर कोरिया को मिसाइल प्रक्षेपण की हालिया श्रृंखला के लिए जिम्मेदार ठहराने के लिए लगभग दो सप्ताह में अमेरिका और अन्य समान विचारधारा वाले देशों द्वारा दूसरे प्रयास को चिह्न्ति किया। उत्तर कोरिया ने 30 जनवरी को वर्ष के अपने सातवें और आखिरी मिसाइल प्रक्षेपण का मंचन किया। यूएस. संयुक्त राष्ट्र में राजदूत लिंडा थॉमस-ग्रीनफील्ड ने एक संयुक्त बयान में कहा, "डीपीआरके द्वारा 30 जनवरी को एक मध्यवर्ती दूरी की बैलिस्टिक मिसाइल (आईआरबीएम) का प्रक्षेपण डीपीआरके के हाल के कई सुरक्षा परिषद प्रस्तावों के उल्लंघन में एक महत्वपूर्ण वृद्धि है जो इस क्षेत्र को और अस्थिर कराने का प्रयास करता है। हम इस गैरकानूनी कार्रवाई की कड़े शब्दों में निंदा करते हैं।"

डीपीआरके उत्तर कोरिया के आधिकारिक नाम, डेमोक्रेटिक पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ कोरिया का संक्षिप्त नाम है। बयान पर यूएनएससी के आठ अन्य सदस्य देशों, अल्बानिया, ब्राजील, ब्रिटेन, फ्रांस, आयरलैंड, जापान, नॉर्वे और संयुक्त अरब अमीरात के संयुक्त राष्ट्र के प्रतिनिधियों ने हस्ताक्षर किए। उन्होंने नोट किया कि आईआरबीएम 2017 के अंत के बाद से उत्तर कोरिया द्वारा किए गए सबसे लंबी दूरी के परीक्षण के रूप में चिह्न्ति है, साथ ही प्योंगयांग ने इस साल मिसाइल परीक्षणों के सात दौर में अब तक नौ बैलिस्टिक मिसाइलें दागी हैं। उन्होंने अपने संयुक्त बयान में कहा, "जनवरी में लॉन्च की गई नौ बैलिस्टिक मिसाइलें डीपीआरके द्वारा अपने डब्ल्यूएमडी और बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रमों के इतिहास में एक महीने में किए गए प्रक्षेपणों की सबसे बड़ी संख्या है।" उन्होंने कहा, "हम सभी परिषद सदस्यों से इन खतरनाक और गैरकानूनी कृत्यों की निंदा करने के लिए एक स्वर में बोलने का आह्वान करते हैं।"

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

US में जनवरी महीने में बेरोजगारी दर 4 प्रतिशत तक बढ़ी

अमेरिका ने जनवरी में कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन में वृद्धि के बीच 467,000 नई नौकरियों को जोड़ा है। हालांकि बेरोजगारी की दर थोड़ी बढ़कर 4.0 प्रतिशत हो गई। ये जानकारी अमेरिकी श्रम विभाग ने शुक्रवार को साझा की। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, व्हाइट हाउस काउंसिल ऑफ इकोनॉमिक एडवाइजर्स के पूर्व अध्यक्ष जेसन फुरमैन ने ट्विटर पर कहा कि ओमिक्रॉन उछाल के प्रभाव को रोजगार के आंकड़ों में दिखने में कुछ समय लग सकता है। पीटरसन इंस्टीट्यूट फॉर इंटरनेशनल इकोनॉमिक्स और हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर फुरमैन ने कहा, "समय, परिभाषा और मौसमी समायोजन के आसपास के पहलुओं की व्याख्या करना मुश्किल होगा।" रिपोर्ट के अनुसार, जनवरी में पेशेवर और व्यावसायिक सेवाओं में खुदरा व्यापार में और परिवहन और भंडारण में रोजगार वृद्धि जारी रही।

नए आंकड़ों से यह भी पता चला है कि दिसंबर में 0.3 प्रतिशत की गिरावट के बाद जनवरी में बेरोजगारी दर 0.1 प्रतिशत अंक बढ़कर 4 प्रतिशत हो गई। यह उपाय अप्रैल 2020 में अपने हाल के उच्च स्तर से काफी नीचे था, लेकिन महामारी से पहले के 3.5 प्रतिशत के स्तर से ऊपर रहा है। रिपोर्ट में दिखाया गया कि बेरोजगार व्यक्तियों की संख्या बढ़कर 65 लाख हो गई। यह संख्या 57 लाख के पूर्व-महामारीस्तर से ऊपर रही। बेरोजगारों में स्थायी नौकरी गंवाने वालों की संख्या जनवरी में घटकर 16 लाख रह गई और एक साल पहले की तुलना में इसमें 19 लाख की कमी आई है। रिपोर्ट के अनुसार, अस्थायी छंटनी पर व्यक्तियों की संख्या 147,000 बढ़कर 959,000 हो गई।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

कोरोना के वैश्विक मामलों में वृद्धि, कुल 39.05 करोड़ से ज्यादा हुए केस

दुनियाभर में कोरोनावायरस के मामले बढ़कर 39.05 करोड़ हो गए हैं। इस महामारी से अब तक कुल 57.2 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हुई है जबकि 10.02 अरब से ज्यादा का वैक्सीनेशन हुआ है। ये आंकड़े जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी ने साझा किए हैं। यूनिवर्सिटी के सेंटर फॉर सिस्टम साइंस एंड इंजीनियरिंग (सीएसएसई) ने शनिवार की सुबह नए अपडेट में बताया कि वर्तमान वैश्विक मामले, मरने वालों और टीकाकरण की कुल संख्या बढ़कर क्रमश: 390,541,923, 5,724,286 और 10,026,600,679 हो गई है। सीएसएसई के अनुसार, दुनिया के सबसे ज्यादा मामलों और मौतों 76,344,963 और 901,288 के साथ अमेरिका सबसे ज्यादा प्रभावित देश बना हुआ है।

कोरोना मामलों में भारत दूसरा सबसे प्रभावित देश है, जहां कोरोना के 41,952,712 मामले हैं जबकि 500,055 लोगों की मौत हुई है, इसके बाद ब्राजील में कोरोना के 26,326,454 मामले हैं जबकि 631,265 लोगों की मौत हुई हैं। सीएसएसई के आंकड़ों के अनुसार, 50 लाख से ज्यादा मामलों वाले अन्य सबसे प्रभावित देश फ्रांस (20,517,059), यूके (17,809,813), रूस (12,257,664), तुर्की (12,051,852), इटली (11,449,601), जर्मनी (10,779,641), स्पेन (10,199,716), अर्जेटीना (8,555,379), ईरान (6,520,707), कोलंबिया (5,943,783), मैक्सिको (5,106,048) और पोलैंड (5,083,332) है। जिन देशों ने 100,000 से ज्यादा मौतों का आंकड़ा पार कर लिया है, उनमें रूस (327,310), मैक्सिको (308,829), पेरू (206,406), यूके (158,521), इटली (148,167), इंडोनेशिया (144,320), कोलंबिया (135,282), फ्रांस (133,202) , ईरान (132,681), अर्जेटीना (122,439), जर्मनी (118,548), यूक्रेन (107,712) और पोलैंड (106,306) शामिल हैं।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia