तालिबान बना रहा खतरनाक प्लान! तैयार की आत्मघाती हमलावरों की टुकड़ी

तालिबान के उग्रवाद की बदौलत सरकार बनने की कोशिशों के बीच प्रशिक्षित आत्मघाती हमलावरों की टुकड़ी उसकी सैन्य और राजनीतिक रणनीति के केंद्र में बनी हुई है। आरएफई/आरएल ने यह बात विशेषज्ञों के हवाले से कही।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

तालिबान के उग्रवाद की बदौलत सरकार बनने की कोशिशों के बीच प्रशिक्षित आत्मघाती हमलावरों की टुकड़ी उसकी सैन्य और राजनीतिक रणनीति के केंद्र में बनी हुई है। आरएफई/आरएल ने यह बात विशेषज्ञों के हवाले से कही। सत्ता वापस लेने के बाद एक विजय परेड में, तालिबान ने अपने आत्मघाती हमलावरों और विस्फोटकों से लदी आत्मघाती जैकेटों के शस्त्रागार का प्रदर्शन किया। परेड ने कई अफगानों में आक्रोश पैदा कर दिया। उन्होंने कहा कि तालिबान के आत्मघाती हमलों ने हाल के वर्षो में सैकड़ों नागरिकों को मार डाला था।

रिपोर्ट में कहा गया है कि आतंकवादियों ने आत्मघाती हमलावरों से बनी एक नई 'शहादत ब्रिगेड' के गठन की भी घोषणा की, विशेषज्ञों का कहना है कि यह आत्मघाती हमलावरों को नई सरकार की रक्षा के लिए तैयार कुलीन लड़ाकों के रूप में फिर से तैयार करने का प्रयास है।

रिपोर्ट के अनुसार, विलियम्स कॉलेज में नृविज्ञान के प्रोफेसर डेविड एडवर्डस कहते हैं, "मौजूदा तालिबान नेतृत्व अपने सभी रूपों में आत्मघाती बमबारी का स्वामित्व लेना चाहता है और इसे एक नया अर्थ देना चाहता है जो एक विकेंद्रीकृत विद्रोह को एकीकृत सरकार में बदलने में मदद करेगा।"

उनका कहना है कि नए आत्मघाती हमलावर ब्रिगेड का उद्देश्य तालिबान नेतृत्व को वैधता प्रदान करना है, क्योंकि यह खुद को एक ऐसी सरकार के रूप में बदलने का प्रयास करता है, जिसकी कमान में नियमित सैनिक हों, न कि केवल हिंसा के गुप्त एजेंट।


रिपोर्ट में कहा गया है, एडवर्डस ने यह भी नोट किया कि तालिबान के आत्मघाती हमलावर कुलीन कैडर के सदस्य थे जो रेजिमेंटल क्रम में रंगीन वर्दी पहने हुए थे जो विभिन्न प्रकार के आत्मघाती हमलावरों और उनके कार्यो को प्रदर्शित करते हैं।

अक्टूबर में तालिबान ने घोषणा की कि वह ताजिकिस्तान के साथ सीमा पर अपनी 'शहीद ब्रिगेड' तैनात कर रहा है। तालिबान के नेतृत्व वाली सरकार और दुशांबे के बीच तनाव के बीच यह कदम उठाया गया, जिसने समूह पर सत्ता पर एकाधिकार करने का आरोप लगाया।

तालिबान के कार्यवाहक आंतरिक मंत्री सिराजुद्दीन हक्कानी ने पिछले महीने काबुल के एक लग्जरी होटल में आत्मघाती हमलावरों के परिवारों के लिए एक सभा की थी। रिपोर्ट में कहा गया है कि सभा के दौरान, उन्होंने आत्मघाती हमलावरों की उनके 'बलिदान' के लिए सराहना की और उनके परिवारों को जमीन और पैसे देने का वादा किया।

हक्कानी कुख्यात हक्कानी नेटवर्क का मुखिया है, जो तालिबान की घातक शाखा है। नेटवर्क अमेरिका द्वारा नामित आतंकवादी संगठन है और हक्कानी एफबीआई के मोस्टवांटेड भगोड़ों में से एक है।

रिपोर्ट में कहा गया है, 1990 के दशक में तालिबान के उदय के बाद से तालिबान पर रिपोर्ट करने वाले एक अनुभवी पत्रकार सामी यूसुफजई का कहना है कि आत्मघाती हमलावरों की प्रशंसा करके तालिबान उन अफगानों को अलग-थलग कर रहा है, जिन्हें वह शासन करने की उम्मीद करता है और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को आर्थिक और मानवीय संकट से निपटने की जरूरत है।

वे कहते हैं, "युद्ध जीतने का दावा करने के बाद अफगानों को शांति की कहानी के साथ एकजुट करने की कोशिश करने के बजाय, वे अपनी महिमा के रूप में देखते हैं और कई अफगान नागरिकों को मारने और अपंग करने वाले आत्मघाती बम विस्फोट जैसी रणनीति का जश्न मनाना चाहते हैं।"

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 07 Nov 2021, 6:35 PM