न्यूजीलैंड के सुपरमार्केट में आतंकी हमला, आतंकवादी को पुलिस ने मारी गोली

न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जैसिंडा अर्डर्न ने शुक्रवार को पुष्टि की कि ऑकलैंड के न्यू लिन सुपरमार्केट में हुआ हिंसक हमला एक श्रीलंकाई नागरिक द्वारा किया गया 'आतंकवादी हमला' था।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जैसिंडा अर्डर्न ने शुक्रवार को पुष्टि की कि ऑकलैंड के न्यू लिन सुपरमार्केट में हुआ हिंसक हमला एक श्रीलंकाई नागरिक द्वारा किया गया 'आतंकवादी हमला' था। जिसे पुलिस ने गोली मार दी। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, एम्बुलेंस सेवा सेंट जॉन्स के एक प्रवक्ता ने कहा कि दोपहर करीब 2.40 बजे हुए हमले में कम से कम छह लोग घायल हो गए, जिनमें तीन की हालत गंभीर है।

अर्डर्न ने वेलिंगटन में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि एक हिंसक व्यक्ति ने ऑकलैंड में न्यू लिन काउंटडाउन में निर्दोष न्यूजीलैंडवासियों पर आतंकवादी हमला किया। उन्होंने कहा कि यह एक हिंसक हमला था। यह मूर्खतापूर्ण था और मुझे खेद है कि ऐसा हुआ। उन्होंने कहा कि पुलिस ने हमले के लगभग एक मिनट के भीतर अपराधी को गोली मार दी।


अर्डर्न के अनुसार, हमलावर एक श्रीलंकाई नागरिक था जो 2011 में न्यूजीलैंड आया था और 2016 से न्यूजीलैंड पुलिस द्वारा उसकी इस्लामिक स्टेट से प्रेरित विचारधारा के लिए कड़ी निगरानी की जा रही थी। हालांकि, यह अज्ञात है कि यह व्यक्ति न्यूजीलैंड का नागरिक है या नहीं।

न्यूजीलैंड के पुलिस आयुक्त एंड्रयू कोस्टर ने भी प्रेस कॉन्फ्रेंस में पुष्टि की कि हमले के पीछे व्यक्ति अपनी विचारधारा को कड़ी निगरानी में था। हमले से पहले उस व्यक्ति ने ग्लेन ईडन से पश्चिमी ऑकलैंड के लिनमॉल में काउंटडाउन तक यात्रा की थी। जिसपर निगरानी टीमों द्वारा बारीकी से नजर रखी जा रही थी।


उसने काउंटडाउन सुपरमार्केट में प्रवेश किया जहां उसे एक चाकू मिला। कोस्टर के अनुसार, निगरानी दल उसके काफी करीब थे, और जब हंगामा शुरू हुआ तो उन्होंने कार्रवाई की। कॉस्टर ने कहा कि जब वह व्यक्ति चाकू लेकर उनके पास पहुंचा, तो उसकी गोली मारकर हत्या कर दी गई।

सशस्त्र पुलिस ने सुरक्षा के तहत आस-पास की सड़कों को बंद कर दिया है। शुक्रवार का हमला न्यूजीलैंड के सबसे खराब आतंकी हमले के दो साल बाद हुआ, जब 2019 में क्राइस्टचर्च में दो मस्जिदों में एक श्वेत वर्चस्ववादी बंदूकधारी ने 51 मुस्लिम उपासकों की हत्या कर दी थी।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia