अमेरिका में जिस चीनी 'जासूसी गुब्बारे' से फैली थी दहशत, उसे बाइडेन के आदेश पर मार गिराया गया, चीन ने जताई नाराजगी

न्यूज एजेंसी एपी के अनुसार, चीन के 'जासूसी गुब्बारे' को मार गिराने से पहले अमेरिका में 3 एयरपोर्ट को बंद कर दिया गया था। काफी देर तक एयरस्पेस को भी बंद रखा गया। इसके बाद अमेरिकी सेना के विमान ने अटलांटिक महासागर के ऊपर इस 'जासूसी गुब्बारे' को मार गिराया।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

अमेरिका ने चीन के उस 'जासूसी गुब्बारे' को मार गिराया है, जो उसके आसमान में कई दिनों से नजर आ रहा था। बताया जा रहा है कि अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के आदेश पर इस गुब्बारो को मार गिराया गाय है। चीन के इस 'जासूसी गुब्बारे' से पूरे अमेरिका में हड़कंप मचा हुआ था। अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडेन खुद इस गुब्बारे पर नजर रखे हुए थे।

न्यूज एजेंसी एपी के अनुसार, चीन के 'जासूसी गुब्बारे' को मार गिराने से पहले अमेरिका में तीन एयरपोर्ट को बंद कर दिया गया था। काफी देर तक एयरस्पेस को भी बंद रखा गया। इसके बाद अमेरिकी सेना के विमान ने अटलांटिक महासागर के ऊपर इस 'जासूसी गुब्बारे' को मार गिराया।

चीन के 'जासूसी गुब्बारे' पर बाइडेन ने क्या कहा?

जासूसी गुब्बारे को मार गिराने की जानकारी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने दी है। बाइडेन ने बताया कि उन्होंने इसी हफ्ते की शुरुआत में गुब्बारे को मार गिराने का आदेश दे दिया था। इस बात का इंतजार किया जा रहा था कि यह गुब्बारा समुद्र के ऊपर पहुंचे और फिर इसे मार गिराया जाए। जैसे ही यह चीन का यह 'जासूसी गुब्बारा' समुद्र के ऊपर पहुंचा इसे मार गिराया गया। चीन का यह 'जासूसी गुब्बार' अमेरिका के एयरस्पेस में कई दिनों से देखा जा रहा था। अमेरिकी सेना गुब्बारे पर जनर बनाए हुए थी।


गुब्बारे को मार गिराने पर चीन ने जताई नाराजगी

उधर, अमेरिका द्वारा संदिग्ध 'जासूसी गुब्बारे' को मार गिराए जाने पर चीन ने गहरा असंतोष व्यक्त किया है। इससे पहले चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता माओ निंग ने इस मुद्दे पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि हम फिलहाल तथ्यों को इकट्ठा करने और उसकी पुष्टि करने में जुटे हुए हैं। उन्होंने कहा था कि दूसरे देशों की संप्रभुता और उनके एयरस्पेस का उल्लंघन करने का हमारा कोई इरादा नहीं है। हम उम्मीद करते हैं कि दोनों पक्ष शांति और सावधानी से इस मुद्दे को संभाल लेंगे।

एक बयान में चीन के विदेश मंत्रालय ने कहा था कि यह गुब्बारा एक नागरिक एयरशिप है, जिससे किसी को कोई नुकसान नहीं होगा। गुब्बारे का काम मौसम संबंधी रिसर्च से जुड़ा हुआ है। तेज हवाओं की वजह से यह अपने निश्चित मार्ग से भटककर दूर चला गया। और अब मेरिका द्वारा इस गुब्बारे को मार गिराने पर चीन गहरी नाराजगी जताई है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;