पाकिस्तानी रुपये में लगातार सातवें दिन भी गिरावट जारी, एक डॉलर के मुकाबले 210.19 रुपये पर पहुंचा

विशेषज्ञों के अनुसार बढ़ते व्यापार घाटे, राजनीतिक अस्थिरता और प्रत्यक्ष विदेशी निवेश में गिरावट से पाकिस्तान रुपया नरम हो रहा है। उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान का दूसरी रैली का आह्वान रुपये पर और दबाव बना सकता है।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

राजनीतिक के साथ आर्थिक संकट से जूझ रहे पाकिस्तान में रुपये की गिरावट लगातार सातवें दिन भी जारी है। सोमवार को अंतरबैंकिंग मुद्रा बाजार में लगातार सातवें दिन की गिरावट के बाद पाकिस्तानी रुपया पहली बार एक डॉलर के मुकाबले नीचे लुढ़क कर 210 रुपये पर पहुंच गया।

जियो न्यूज के मुताबिक अभी पाकिस्तान रुपया 210.19 रुपये प्रति डॉलर के स्तर पर है। इन सात दिनों में डॉलर के मुकाबले रुपया छह पाकिस्तानी रुपया या तीन फीसदी अंक टूटा है। पाकिस्तान का केंद्रीय बैंक भी इस गिरावट को थामने में नाकाम साबित हो चुका है।


एए कमोडिटीज के निदेशक अदनान अगार ने कहा कि जब तक अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) से स्टाफ स्तर का समझौता नहीं होता, तब तक रुपये पर यह गिरावट हावी रहेगी। उन्होंने कहा कि निवेश धारणा बिल्कुल कमजोर हो चुकी है। उन्होंने कहा कि विदेशी मुद्रा भंडार के घटने से निवेशकों की डॉलर लिवाली बढ़ गई है, जिससे रुपये पर और दबाव बढ़ गया है।

एक्सचेंज कंपनीज एसोसिएशन ऑफ पाकिस्तान के अध्यक्ष मलिक बोस्तान ने कहा कि बढ़ते व्यापार घाटे, राजनीतिक अस्थिरता और प्रत्यक्ष विदेशी निवेश में गिरावट से पाकिस्तान रुपया नरम हो रहा है। उन्होंने कहा कि राजनीतिक स्थिरता आर्थिक विकास की मुख्य शर्त है। उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान का दूसरी रैली का आह्वान रुपये पर और दबाव बना सकता है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia