अमेरिका के इस शहर में चोर भारतीयों को बना रहे निशाना, पुलिस ने जारी की चेतावनी

कुछ महीने पहले ही इस क्षेत्र में आयी अनु ने चैनल को बताया, "जब हम यहां आए थे, मुझे ऐसा लगता था कि यह बहुत सुरक्षित जगह है, लेकिन अभी ऐसा नहीं लगता।"

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

अमेरिकी राज्य वाशिंगटन के बोथेल शहर में भारतीय-अमेरिकियों को निशाना बनाकर दिन के समय की जाने वाली चोरियों में हाल ही में हुई बढ़ोतरी के बाद पुलिस ने लोगों को चेतावनी जारी की है। स्थानीय मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि चोरियां स्नोहोमिश काउंटी में 35वें एवेन्यू साउथईस्ट के साथ 180वीं स्ट्रीट साउथईस्ट और 228वीं स्ट्रीट साउथईस्ट में हो रही हैं।

सिएटल स्थित कोमो टीवी चैनल की रिपोर्ट के अनुसार, स्नोहोमिश काउंटी शेरिफ कार्यालय (एससीएसओ) ने बुधवार को तीन संदिग्धों की तस्वीरें जारी कीं और उनकी पहचान करने में सार्वजनिक सहायता मांगी।

कुछ महीने पहले ही इस क्षेत्र में आयी अनु ने चैनल को बताया, "जब हम यहां आए थे, मुझे ऐसा लगता था कि यह बहुत सुरक्षित जगह है, लेकिन अभी ऐसा नहीं लगता।"


उनके पति राम ने कहा कि उन्होंने अपनी सुरक्षा के लिए पेपर स्प्रे और सिक्योरिटी कैमरे खरीदने पर हजारों डॉलर खर्च किए हैं। राम ने कोमो टीवी को बताया, "हमारे पास एक डॉग है, लेकिन मैं खुद को सुरक्षित महसूस करने के लिए एक गार्ड डॉग लेने के बारे में सोच रहा हूं।"

रॉबरी एंड बर्गलरी यूनिट (आरबीयू), एससीएसओ का मानना है कि संदिग्ध पूरे क्षेत्र में सक्रिय एक बड़े संगठित समूह का हिस्सा हैं, और उन्होंने क्षेत्र के निवासियों से संदिग्धों के किसी भी सर्विलांस वीडियो या पिक्चर शेयर करने के लिए कहा है।

हिंदू मंदिर और सांस्कृतिक केंद्र के अध्यक्ष रोहित पाटिल ने किंग 5 न्यूज को बताया, "मुझे हैरानी नहीं होगी अगर (चोरी के क्षेत्र में) 50 प्रतिशत से अधिक निवासी भारतीय मूल के हैं।"

पाटिल के अनुसार, चोर आभूषण और अन्य कीमती सामान चुरा कर ले जाते हैं। अधिकारियों ने निवासियों से आग्रह किया है कि वे अपने कीमती सामान का ध्यान रखें और सुनिश्चित करें कि सभी खिड़कियां, स्लाइडिंग दरवाजे और एक्सेस प्वाइंट बंद हो।

आरबीयू संदिग्धों से जुड़ी दो कारों, 2000 के दशक की शुरुआती ब्लैक मर्सिडीज सेडान और अज्ञात प्लेट वाली एक नई सिल्वर मर्सिडीज एसयूवी के बारे में अधिक जानकारी की भी तलाश कर रहा है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;