दुनिया की 5 बड़ी खबरें: चीन मदद के बहाने भारत के पड़ोसी देशों सेबढ़ा रहा नजदीकियां, ट्विटर ने हटाया ट्रम्प का वीडियो

भारत और चीन के बीच सीमा पर जारी तनाव के बीच चीन की तरफ से कोरोना मदद के बहाने भारत के तीन पड़ोसी देशों के साथ नजदीकी बढ़ाने की कोशिश हो रही है। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प का माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर के साथ विवाद बढ़ता ही जा रहा है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कोरोना पर मदद के बहाने भारत के तीन पड़ोसी देशों से चीन बढ़ा रहा नजदीकियां

भारत और चीन के बीच सीमा पर जारी तनाव के बीच चीन की तरफ से कोरोना मदद के बहाने भारत के तीन पड़ोसी देशों के साथ नजदीकी बढ़ाने की कोशिश हो रही है। बता दें कि चीन आज दुनिया में एक बड़ी ताकत बन चुका है और अब वह कूटनीतिक स्तर पर भी पूरे विश्व में अपना प्रभाव बढ़ाने में जुटा है। खासकर दक्षिण एशिया के देशों में चीन का प्रभाव खासा बढ़ा है।

चीन ने इस क्षेत्र में काफी निवेश किया है और भारत के पड़ोसी देशों श्रीलंका, पाकिस्तान, बांग्लादेश, म्यांमार, मालदीव आदि में काफी ढांचागत निवेश किया है।

माइकल जॉर्डन ने नस्लभेद के खिलाफ जंग में दिए 755 करोड़

छह बार के एनबीए (नेशनल बॉस्केटबॉल एसोसिएशन) चैंपियन माइकल जॉर्डन ने नस्लीय समानता और सामाजिक न्याय के लिए लड़ने वाले समूहों को 100 मिलियन डॉलर दान देने का ऐलान किया है। एनबीए लीजंड की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि वह और उनका जॉर्डन ब्रांड नस्लवाद के खिलाफ लड़ रहे संगठनों को अगले 10 वर्षों तक इतना धन मुहैया कराएगा। जॉर्डन ने यह घोषणा ऐसे समय की है, जब अमेरिका में अफ्रीकी मूल के अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद नस्लवाद का मुद्दा गर्माया हुआ है।

माइकल जॉर्डन और जॉर्डन ब्रांड दोनों 50-50 मिलियन डॉलर दान देंगे। नस्लवाद के खिलाफ लड़ाई में अन्य कई भी सेलिब्रिटीज और कॉरपोरेशन ने बड़ी-बड़ी धनराशि दी है, लेकिन कोई भी जॉर्डन और उनके ब्रांड नाइक के करीब भी नहीं है।

ट्विटर ने हटाया डोनाल्ड ट्रम्प का वीडियो, अमेरिकी राष्ट्रपति के आरोप के बाद जैक डोर्सी ने दी सफाई

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प का माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर के साथ विवाद बढ़ता ही जा रहा है। ट्रम्प की कैंपेन टीम ने पुलिस कस्टडी में मारे गए अश्वेत अफ्रीकन-अमेरिकन नागरिक जॉर्ज फ्लॉय को श्रद्धांजलि देते हुए 3 जून को 3:40 मिनट का एक वीडियो ट्वीट किया था। ट्विटर ने वीडियो को कॉपीराइट पॉलिसी का उल्लंघन बताते हुए डिसेबल कर दिया। ट्रम्प ने ट्विटर पर आरोप लगाते हुए कहा कि लेफ्ट डेमोक्रेट को फायदा पहुंचाने के लिए ऐसा किया गया है। ट्रम्प ने इस बारे में एक खबर को री-ट्वीट करते हुए लिखा, 'प्रदर्शनकारियों से सहानुभूति दिखाते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति का एक कैंपेन वीडियो ट्विटर ने डिसेबल कर दिया। वह लोग कड़ी मेहनत से कट्टरपंथी वाम डेमोक्रेट की ओर से लड़ाई लड़ रहे हैं। एकतरफा लड़ाई। ये अवैध है। सेक्शन 230।' इसके जवाब में ट्विटर के सीईओ जैक डोर्सी ने ट्वीट किया, 'ये सही नहीं है और न ही अवैध है। ये वीडियो इसलिए हटाया गया क्योंकि हमें इसको लेकर कॉपीराइट संबंधी शिकायत मिली थी।'

डोनाल्ड ट्रंप ने बताया जॉर्ज फ्लॉयड के लिए 'महान दिन', अमेरिका में फिर खड़ा हुआ विवाद

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शुक्रवार को कुछ ऐसा बयान दिया जिससे हिंसा और विरोध की आग में जल रहे अमेरिका में एक और विवाद खड़ा हो गया। ट्रंप ने कहा, 'यह जॉर्ज फ्लॉयड के लिए एक महान दिन ह।' बता दें कि पिछले सप्ताह जॉर्ज फ्लॉयड की पुलिस कस्टडी में मृत्यु हो गई थी और जिसके बाद से अमेरिका में पुलिस की बर्बरता और नस्लवाद के खिलाफ हिंसक प्रदर्शन हो रहे हैं। प्रदर्शनकारियों का आरोप है अमेरिकी पुलिस अफ्रीकी मूल के अमेरिकी नागरिकों के साथ भेदभाव करती है। शुक्रवार को राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा, 'जो कुछ भी पिछले सप्ताह हुआ, हम ऐसा नहीं होने दे सकते। मुझे ऐसा लगता है कि जॉर्ज ऊपर से नीचे देख रहे होंगे और कह रहे होंगे कि ये जो कुछ भी देश में हो रहा है यह काफी अच्छा हो रहा है।' व्हाइट हाउस ब्रीफिंग के दौरान की गई टिप्पणी फ्लॉयड की मौत के 11 दिन बाद आई और इस बात पर भ्रम की स्थिति पैदा हो गई कि ट्रम्प ने सोचा कि यह फ्लॉयड के लिए एक महान दिन है?

पृथ्वी जैसे युवा ग्रह के मिलने की संभावना पहले की उम्मीदों से कहीं ज्यादा : अध्ययन

ब्रिटेन में शोधकर्ताओं ने पाया है कि पृथ्वी जैसे ग्रह को उनकी उत्पत्ति के शुरुआती चरणों में ही खोजपाने की संभावना पहले की तुलना कहीं ज्यादा है। शेफील्ड विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं के एक दल ने आकाश गंगा के नये तारों के समूहों का अध्ययन कर यह पता लगाने की कोशिश की कि अंतरिक्ष में अन्य तारा निर्माण करने वाले क्षेत्रों को लेकर किये गए प्रेक्षणों और सैद्धांतिक स्थापनाओं में कितना फिट बैठते हैं। यह अध्ययन भी किया गया कि क्या इन समूहों में तारों की संख्या पृथ्वी जैसे ग्रह के बनने की संभावना को प्रभावित करती है। यह शोध एस्ट्रोफिजिकल जर्नल में प्रकाशित हुआ है। इसमें पाया गया कि इन समूहों में उम्मीद से कहीं ज्यादा सूर्य जैसे सितारे हैं जो धरती जैसे ग्रह की उनकी उत्पत्ति के शुरुआती चरण में खोज के मौकों को बढ़ाएंगे। अपनी निर्माण के शुरुआती चरण में धरती जैसे ग्रहों को मैग्मा महासागर ग्रह कहा जाता है। ये अब भी चट्टानों और छोटे ग्रहों की टक्कर से बन रहे हैं, जिसके कारण वे इतने ज्यादा गर्म हो जाते हैं कि उनकी सतह पिघली हुई चट्टान बन जाती है।

लोकप्रिय