दुनिया की 5 बड़ी खबरें: पाक पीएम आवास के 4 कर्मचारी को कोरोना और ‘लॉकडाउन के बाद लॉकअप में होंगे विपक्षी दल के नेता’

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री आवास के चार कर्मचारियों की कोरोना वायरस जांच की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। पाकिस्तान के रेलवे मंत्री शेख रशीद अहमद ने भ्रष्टाचार के आरोपी विपक्षी नेताओं पर निशाना साधते हुए कहा है कि उनके लिए लॉकडाउन के बाद अब लॉकअप की नौबत आने वाली है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

पाकिस्तान : प्रधानमंत्री आवास के 4 कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री आवास के चार कर्मचारियों की कोरोना वायरस जांच की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। पाकिस्तानी मीडिया में सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि इन सभी को क्वारंटीन कर दिया गया है और कोरोना का मामला पाए जाने के बाद जिन विशेष एहतियाती कदमों को उठाया जाना होता है, वे सभी प्रधानमंत्री आवास में उठाए जा रहे हैं।

गौरतलब है कि यह दूसरी बार हुआ है जब प्रधानमंत्री आवास के संबंध में कोरोना वायरस की खबर सामने आई है। इससे पहले समाजसेवी संगठन ईधी फाउंडेशन के प्रमुख ने यहां प्रधानमंत्री इमरान खान से मुलाकात की थी और मुलाकात के बाद उनमें कोरोना के होने की पुष्टि हुई थी। इसके बाद इमरान खान का कोरोना टेस्ट कराया गया था जिसकी रिपोर्ट निगेटिव आई थी।

सूत्रों ने बताया कि प्रधानमंत्री आवास में इमरान खान का लोगों से मिलना-जुलना लगा रहता है। इसलिए प्रधानमंत्री आवास को नियमित रूप से डिसइंफेक्ट किया जाता है।

विपक्षी नेताओं के लिए लॉकडाउन के बाद लॉकअप : पाकिस्तानी मंत्री

अपने बयानों के लिए सुर्खियों में रहने वाले पाकिस्तान के रेलवे मंत्री शेख रशीद अहमद ने भ्रष्टाचार के आरोपी विपक्षी नेताओं पर निशाना साधते हुए कहा है कि उनके लिए लॉकडाउन के बाद अब लॉकअप की नौबत आने वाली है। उन्होंने कहा कि उन्हें ऐसा लग रहा है कि ईद के बाद राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (नैब) की तरफ से कड़ी कार्रवाई होने वाली है। इसके जवाब में विपक्ष ने सरकार से कहा है कि वह भी तैयार है, चाहे तो सरकार 'ईद के बाद दमादम मस्त कलंदर का शौक पूरा कर ले।'

'डॉन' की रिपोर्ट के अनुसार, शेख रशीद अहमद ने संवाददाताओं से कहा, "आप देख रहे हैं कि विपक्षी दलों के नेता नैब के अधिकारो में कटौती की लगातार मांग कर रहे हैं। लेकिन, मैं आपको साफ तौर पर बता रहा हूं कि नैब 31 जुलाई तक बहुत कुछ करने जा रहा है जिसके बाद जमानत या किसी अन्य बहाने की आड़ में जिंदगी के मजे लूट रहे लोग, और मजे लूटने की हालत में नहीं रहेंगे।"

शारजाह में रहने वाली भारतीय किशोरी को भारत में फंसी मां का इंतजार

युक्त अरब अमीरात के शारजाह शहर में रहने वाली एक भारतीय नाबालिग लड़की, जो दो महीने से अपनी मां से अलग रह रही है, भारत में लॉकडाउन के कारण फंसी अपनी मां से मिलाने की गुहार लगाई है। गल्फ न्यूज की शनिवार की खबर में कहा गया है, "नौ वर्षीय राशि ने एक पेंसिल स्केच दिखाया, जिसमें वह मां पूनम के साथ है। उसने अपने परिवार के पुनर्मिलन का चित्र बनाया है और अपनी इच्छा व्यक्त करने के लिए उसने एक भावुकतापूर्ण पत्र भी लिखा है।"

पूनम अपनी बीमार मां को देखने के लिए भारत आई थी, लेकिन कोरोनावायरस के प्रकोप के चलते सभी उड़ानें रद्द होने के कारण वहां फंस गई। बच्ची की लिखी चिट्ठी को पिता हरेश करमचंदानी ने अपने ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट किया है।

पिछले 3 सप्ताह में तालिबान के हमलों में 120 अफगान नागरिक मारे गए

अफगानिस्तान में पिछले तीन सप्ताह में तालिबान के हमलों में 120 नागरिक मारे गए हैं और 350 अन्य घायल हुए हैं। राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद कार्यालय (ओएनएससी) के एक प्रवक्ता ने यह जानकारी दी। टोलो न्यूज के मुताबिक, ओएनएससी के प्रवक्ता जावेद फैसल ने शनिवार को कहा, " तालिबान और उनके समर्थकों द्वारा शुरू किए गए हमलों में रमजान के पवित्र महीने के दूसरे सप्ताह की तुलना में 33 फीसदी की वृद्धि दिखाई दी है।"

इस बीच, रक्षा मंत्रालय ने कहा कि अफगानिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा और रक्षा बलों (एएनडीएसएफ) ने राष्ट्रपति अशरफ गनी के एक आदेश के बाद जवाबी कार्रवाई करना शुरू कर दिया है।

पाकिस्तान में तबलीगी जमात की ओर से जबरन धर्म परिवर्तन के खिलाफ हिंदुओं का प्रदर्शन

पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों के धार्मिक उत्पीड़न का एक और मामला सामने आया है। सिंध प्रांत में हिंदुओं ने आरोप लगाया है कि इस्लामिक समूह तबलीगी जमात ने उन्हें प्रताड़ित किया और उनके घरों को ध्वस्त कर दिया। इसके साथ ही इस्लाम अपनाने से इनकार करने पर एक हिंदू लड़के का अपहरण भी कर लिया गया। सिंध का एक वीडियो सोशल मीडिया पर व्यापक रूप से साझा किया गया, जिसमें भेल हिंदू जबरन धर्म परिवर्तन का विरोध करते हुए देखे जा सकते हैं।

तबलीगी जमात के खिलाफ हाथ से लिखे पोस्टर पकड़े महिलाओं, बच्चों को नासूरपुर, मटियार में विरोध प्रदर्शन करते देखा गया। इस दौरान हिंदुओं का कहना था, "हम मरना पसंद करेंगे, लेकिन कभी इस्लाम नहीं अपनाएंगे।"

आईएएनएस के इनपुट के साथ

लोकप्रिय