दुनिया की 5 बड़ी खबरें: भारतीय सैनिक बर्फ पर फिसलकर पहुंचा पाकिस्तान और अब ईरान और ब्रिटेन में शुरू हुआ झगड़ा

ईरान के विदेश मंत्रालय ने ब्रिटेन के राजदूत रॉब मैकायर को तलब कर उनसे ‘गैर-कानूनी’ सरकार विरोधी प्रदर्शन में शामिल होने के लिए स्पष्टकरण मांगा है। सीमा पर तैनात एक भारतीय फौजी बर्फ में फिसलकर पाकिस्तान के कब्जे वाले क्षेत्र में जा पहुंचा।

फोटो: आईएएनएस
फोटो: आईएएनएस
user

नवजीवन डेस्क

मुशर्रफ को मौत की सजा देने वाली विशेष अदालत असंवैधानिक करार

लाहौर हाईकोर्ट ने सोमवार को उस विशेष अदालत को 'असंवैधानिक' करार दिया जिसने पाकिस्तान के पूर्व सैन्य तानाशाह जनरल (सेवानिवृत्त) परवेज मुशर्रफ को संगीन देशद्रोह का दोषी करार देते हुए मौत की सजा सुनाई थी। लाहौर हाईकोर्ट ने यह फैसला मुशर्रफ द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई के बाद दिया। इसमें मुशर्रफ ने उन्हें दी गई मौत की सजा को चुनौती देते हुए विशेष अदालत के गठन पर सवाल खड़ा किया था। अदालत ने कहा कि पूर्व राष्ट्रपति मुशर्रफ के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा कानून के मुताबिक नहीं चलाया गया। मुशर्रफ को इस मामले में विशेष अदालत ने 17 दिसंबर 2019 को मौत की सजा सुनाई थी। यह मामला 2013 में तत्कालीन पाकिस्तान मुस्लिम लीग (नवाज) सरकार द्वारा दायर कराया गया था।

पाकिस्तान : 28 साल बाद श्मशान स्थल से अवैध कब्जा हटा

पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के डेरा इस्माइल खान में हिंदू समुदाय के एक श्मशान स्थल से स्थानीय प्रशासन ने अवैध कब्जा हटा दिया है। समुदाय को इसके लिए 28 साल तक इंतजार करना पड़ा। पाकिस्तानी मीडिया में प्रकाशित रिपोर्ट में यह जानकारी देते हुए बताया गया है कि यह संपत्ति 1992 में अवैध रूप से एक स्थानीय व्यक्ति को दे दी गई थी।

हिंदू समुदाय के सदस्यों ने 'एक्सप्रेस ट्रिब्यून' को बताया कि हंगू के रहने वाले व खैबर पख्तूनख्वा विधानसभा के पूर्व सदस्य दिवगंत डॉ. सिंघार सिंह ने डेरा इस्माइल खान के कोटला सैदान इलाके में श्मशान स्थल के लिए आठ कनाल भूमि खरीदी थी। भूमि का रजिस्ट्रेशन लकी राम और दास राम के नाम पर हुआ था। इनके निधन के बाद, भूमि चुन्नी लाल नाम के व्यक्ति को स्थानांतरित कर दी गई और उनकी मौत के बाद स्थानीय लोगों ने कथित रूप से इस पर कब्जा कर लिया। बीते 28 सालों में यह भूमि चार लोगों के मालिकाने में गई।

'गैर-कानूनी' प्रदर्शन : ईरान ने ब्रिटेन के राजदूत को तलब किया

ईरान के विदेश मंत्रालय ने ब्रिटेन के राजदूत रॉब मैकायर को तलब कर उनसे 'गैर-कानूनी' सरकार विरोधी प्रदर्शन में शामिल होने के लिए स्पष्टकरण मांगा है। एफे न्यूज के अनुसार, मैकायर को प्रदर्शन के बाद हिरासत में लिया गया। जिसके बाद से ब्रिटेन और ईरान में एक झगड़े की शुरुआत हो गई है। राजदूत ने कहा कि वह 8 जनवरी को यूक्रेन एयरलाइन में मारे गए लोगों के लिए निकाले गए जुलूस में शामिल होने के लिए गए थे, लेकिन जब प्रदर्शन सरकार के खिलाफ होने लगा तो वह वहां से निकल गए।

विदेश मंत्रालय ने रविवार को जारी किए गए एक बयान में कहा, “रॉब मैकायर को शनिवार को हुई गैरकानूनी रैली में शिरकत कर उनके गैर परंपरागत व्यवहार के चलते तलब किया गया।”

पाकिस्तान : उत्पीड़न के खिलाफ पश्तून समुदाय से एकजुट होने का आह्वान

पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के शहर बनूं में पश्तून राष्ट्रवादी संगठन पश्तून तहफ्फुज मूवमेंट (पीटीएम) द्वारा आयोजित विशाल सभा में पश्तून समुदाय से उत्पीड़न के खिलाफ एकजुट होने का आह्वान किया गया। पाकिस्तानी मीडिया में प्रकाशित रिपोर्ट में कहा गया है कि इस सभा में दूर दराज के इलाकों से भी पश्तून समुदाय के लोग पहुंचे और इसे पश्तून जनप्रतिनिधियों और कबीलों के मुखियाओं ने संबोधित किया।

पीटीएम पाकिस्तान के पश्तूनों का ऐसा संगठन है जिसने कबाइली इलाकों में बिछाई गईं बारूदी सुरंगों को हटाने की मांग उठाई थी। संगठन अपने समुदाय के लोगों की न्यायेत्तर हत्याओं, उनके 'अचानक' लापता हो जाने और गैरकानूनी गिरफ्तारियों के खिलाफ लगातार आवाज उठाता रहा है।

भारतीय सैनिक कश्मीर में बर्फ पर फिसलकर सीमा पार चला गया : रिपोर्ट

सीमा पर तैनात एक भारतीय फौजी बर्फ में फिसलकर पाकिस्तान के कब्जे वाले क्षेत्र में जा पहुंचा। यह जानकारी दुबई से प्रकाशित समाचार पत्र 'खलीज टाइम्स' की एक रिपोर्ट में दी गई है। रिपोर्ट में कहा गया है कि कश्मीर में तैनात हवलदार राजेंद्र सिंह नेगी बर्फ में फिसलकर सीमापार पाकिस्तान के कब्जे वाले इलाके में चले गए। वह कश्मीर के गुलमर्ग इलाके में नियमित गश्त पर थे, जब यह हादसा हुआ।

खलीज टाइम्स की रिपोर्ट में कहा गया है कि नेगी की यूनिट ने उनकी पत्नी राजेश्वरी को फोन कर घटना की जानकारी दी है। उन्हें बताया गया कि नेगी लापता हैं और हो सकता है कि वह पाकिस्तानी कब्जे वाले इलाके में हों। नेगी के परिवार ने भारत सरकार से उनकी सुरक्षित वापसी की गुहार लगाई है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

लोकप्रिय