दुनिया की 5 बड़ी खबरें: अफगानिस्तान में विमान हादसे ने ली 83 जानें और चीन में कोरोना पीड़ितों से मिले पीएम

अफगानिस्तान के स्वामित्व वाली एरियाना अफगान एयरलाइंस से संबंधित एक बोइंग जेट में सोमवार को यहां के मध्य गजनी प्रांत से गुजरते वक्त आग लग गई, जिसके चलते विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया। इसमें 83 लोग सवार थे। इसके साथ ही पढ़िए दुनिया की 5 खबरें।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

अफगानिस्तान में 83 लोगों को ले जा रहा विमान दुर्घटनाग्रस्त

अफगानिस्तान के स्वामित्व वाली एरियाना अफगान एयरलाइंस से संबंधित एक बोइंग जेट में सोमवार को यहां के मध्य गजनी प्रांत से गुजरते वक्त आग लग गई, जिसके चलते विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया। मीडिया रपटों में अधिकारियों के हवाले से कहा गया है, “कुछ तकनीकी कारणों के चलते विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया है। इसमें 83 लोग सवार थे।”

मेल ऑनलाइन ने अधिकारियों के हवाले से यह भी कहा कि दुर्घटना में कितने लोगों की मौत हुई है, इस बात की जानकारी फिलहाल नहीं मिल पाई है। गजनी शहर में प्रांतीय गवर्नर के कार्यालय के प्रवक्ता आरिफ नूरी ने कहा, "एरियाना अफगान एयरलाइंस से संबंधित एक बोइंग जेट गजनी प्रांत के देह याक जिले के सादो खेल क्षेत्र में स्थानीय समयनुसार अपराह्न् करीब 1.10 बजे दुर्घटना का शिकार हो गया।" खबरों के अनुसार, दुर्घटना स्थल काबुल से 130 किलोमीटर दूर दक्षिण पश्चिम स्थित है, जहां तालिबान का कब्जा है।

बेरोजगारी और अनिश्चितता से पाकिस्तानी युवा मानसिक रोगों के शिकार

आर्थिक व सामाजिक तनावों से जूझते पाकिस्तान में अनिश्चितता, बेरोजगारी, गरीबी और अवसरों की बहुत कम उपलब्धता ने पाकिस्तानी विद्यार्थियों के एक हिस्से को मानसिक रोगों का शिकार बना दिया है। 'एक्सप्रेस ट्रिब्यून' ने मनोवैज्ञानिकों व अन्य लोगों से बातचीत और सूत्रों से मिली जानकारियों के आधार पर अपनी रिपोर्ट में कहा है कि पाकिस्तान के सबसे बड़े प्रांत पंजाब की राजधानी लाहौर के सरकारी और निजी क्षेत्र के विश्वविद्यालयों में विद्यार्थियों को बेचैनी, अवसाद और अन्य मनोवैज्ञानिक समस्याओं का शिकार पाया गया है।

अखबार ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि देश में विद्यार्थियों की मौत की वजहों में आत्महत्या शीर्ष पर है। एक आंकड़े के मुताबिक, बीते साल जितने विद्यार्थियों ने खुदकुशी की है, उनमें से पंजाब का हिस्सा आधे से अधिक, 52.9 फीसदी का रहा है।

अधिकांश छात्र शिक्षा के बाद अपने भविष्य को लेकर चिंतित हैं। यह चिंता खाते-पीते घरों के विद्यार्थियों और गरीब घरों के विद्यार्थियों में समान रूप से पाई जा रही है। लेकिन, गरीब विद्यार्थियों को पारिवारिक दबावों का अलग से सामना करना पड़ रहा है।

अखबार ने बताया कि हॉस्टल में रहने वाले छात्रों से उसने बात की और पाया कि उनमें से अधिकांश बेहद तनाव में हैं। कई विद्यार्थियों ने बताया कि वे अपनी मानसिक उलझनों से निजात हासिल करने के लिए चिकित्सकों से दवाएं लेने लगे हैं। ऐसे विद्यार्थियों की संख्या भी काफी मिली जिन्होंने धूम्रपान शुरू कर दिया है। कुछ ड्रग्स भी लेने लगे हैं।

उमर नाम के एक छात्र ने कहा, "मेरी नींद पूरी नहीं हो पा रही है। मैं सिगरेट पीने लगा हूं। रोजगार की अनिश्चितता का असर अभी की पढ़ाई पर पड़ रहा है।"

लाहौर में न केवल पाकिस्तान, बल्कि विश्व के भी कुछ जाने-माने शिक्षण संस्थान हैं। इसके बावजूद शहर के विद्यार्थियों में बेचैनी और हताशा का यह आलम है। देश में अन्य जगहों की हालत का इसी से अंदाज लगाया जा सकता है।

पंजाब यूनिवर्सिटी के सूचना प्रौद्योगिकी विभाग की छात्रा निमरा ने कहा, "सरकारी विश्वविद्यालयों के मुकाबले, शीर्ष के निजी विश्वविद्यालयों के विद्यार्थियों को नौकरी मिल जाती है। मैंने कई जगहों पर नौकरी के लिए अर्जी दी, लेकिन कहीं से जवाब नहीं आया। मैं गहरे डिप्रेशन का शिकार हो चुकी हूं। अपनी सारी उम्मीदें अब मैं खो चुकी हूं। मैं गांव से यहां पढ़ने के लिए आई थी। सोचा था कि पढ़कर परिवार का सहारा बनूंगी लेकिन अब पढ़ाई पूरी होने ही वाली है लेकिन काम कहीं से नहीं मिला।"

पंजाब यूनिवर्सिटी की मनोविज्ञानी व एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. रफिया रफीक ने कहा कि करीब साठ फीसदी विद्यार्थी मानसिक स्वास्थ्य संबंधी समस्या से गुजर रहे हैं।


पाकिस्तान : दुकानदार से माफी मांगकर आटा, दाल, मसाला लूटा

पाकिस्तान में आर्थिक बदहाली और महंगाई की मार का यह आलम है कि वहां अब आटा, दाल और मसालों को हासिल करने के लिए लूटपाट शुरू हो गई है। देश के सबसे बड़े शहर कराची में अपनी तरह की एक अनोखी वारदात में कुछ लोगों ने एक किराने की दुकान से आटा, दाल जैसे चीजें लूट लीं और दुकानदार से यह कहते हुए माफी मांगी कि उन्होंने इससे पहले कभी यह काम नहीं किया, मजबूरी में ऐसा करना पड़ रहा है। पाकिस्तानी मीडिया में प्रकाशित रिपोर्ट में कहा गया है कि कराची का कोई इलाका ऐसा नहीं है जहां इस वक्त लूटपाट की घटनाएं न हो रही हों। राह चलते लोगों से लेकर डिपार्टमेंटल स्टोर तक लूटे जा रहे हैं। ऐसी ही एक घटना शहर के शरीफाबाद इलाके में हुई।

दुकानदार अतीक ने बताया कि वह सालों से शरीफाबाद इलाके में रह रहे हैं और यहीं पर उनकी किराने की दुकान है। रविवार सुबह उन्होंने अपनी दुकान खोली ही थी कि मोटरसाइकिल पर सवार दो लोग आए। इन लोगों ने दस-दस किलो आटे की दो थैलियां, अलग-अलग दालों के दस किलो से अधिक के पैकेट, तेल और घी की दस थैलियां और पांच किलो मसालों के पैकेट उठाए और चलते बने।

दुकानदार ने बताया कि इसी दौरान एक सेल्समैन दुकान पर आ गया। दोनों लुटेरों ने उस सेल्समैन से कुछ नकदी छीन ली और उसका मोबाइल फोन भी ले लिया और इस सबके लिए माफी मांगी। दोनों ने दुकानदार से कहा, "हम बेहद मजबूरी के हालत में यह चोरी कर रहे हैं। इससे पहले हमने कभी कोई वारदात नहीं की है। अगर मजबूर न होते तो हम कभी ऐसी घिनौनी हरकत नहीं करते। इसलिए हमें माफ कर दीजिएगा।" दुकानदार की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है।

ऑस्ट्रेलिया में 5वें कोरोनावायरस मामले की पुष्टि

ऑस्ट्रेलियाई अधिकारियों ने सोमवार को देश में नोवेल कोरोनावायरस के पांच नए मामलों की पुष्टि की। इसमें से हालिया मामला न्यू साउथ वेल्स (एनएसडब्ल्यू) राज्य में सामने आया है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, एनएसडब्ल्यू के स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा कि व्यक्ति का सिडनी के वेस्टमेड अस्पताल में इलाज चल रहा है।

अधिकारियों ने मरीज की पहचान या दूसरी जानकारी का खुलासा नहीं किया, जबकि अन्य छह लोगों की जांच की जा रही है।

स्थानीय मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, हालिया मामला एनएसडब्ल्यू विश्वविद्यालय की एक 21 साल की छात्रा का है, जो चीन के वुहान शहर से बीते सप्ताह सिडनी लौटी है और उसमें इसके लक्षण 24 घंटे की भीतर विकसित हुए।

विश्वविद्यालय ने एक बयान में कहा कि छात्रा का स्कूल के केंसिग्टन छात्र आवास के अन्य लोगों के साथ कोई संपर्क नहीं था।

सोमवार को चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने घातक वायर से देश में मरने वालों की संख्या 80 बताई, जबकि 2,744 मामलों की पुष्टि की गई है, जिसमें से 461 मरीजों की गंभीर स्थिति बनी हुई है।

आस्ट्रेलिया के अलावा, थाईलैंड में आठ मामलों की पुष्टि की गई है, जिसमें पांच को अस्पताल से छुट्टी दी गई है। अमेरिका व मकाओं में पांच, सिंगापुर, मलेशिया, ताइवान प्रत्येक में चार-चार, फ्रांस व जापान में (एक का इलाज किया गया) दक्षिण कोरिया में तीन, वियतनाम में दो और कनाडा व नेपाल प्रत्येक में एक-एक मामले की पुष्टि हुई है। पाकिस्तान में पांच संदिग्ध मामले सामने आए हैं, जिन्हें निगरानी में रखा गया है।


चीनी प्रधानमंत्री कोरोना पीड़ितों का हालचाल लेने वुहान पहुंचे

चीनी प्रधानमंत्री ली केकियांग सोमवार को नोवेल कोरोना वायरस की चपेट में आए वुहान शहर में जायजा लेने के लिए पहुंचे। स्वास्थ्य अधिकारियों ने चेतावनी दी है कि घातक बीमारी तेजी से फैल रही है और नए संक्रमण व मौतों में लगातार वृद्धि जारी है। साउथ चाइना मॉर्निग पोस्ट समाचार पत्र की रिपोर्ट के अनुसार, चीनी सरकार द्वारा सोमवार को जारी एक रिपोर्ट में कहा गया है कि ली, जो प्रकोप से लड़ने के लिए उच्च-स्तरीय समूह का नेतृत्व कर रहे हैं, रोगियों और चिकित्सा कर्मियों से मिले। उन्होंने हुबेई प्रांत के शहर वुहान में वायरस की रोकथाम के लिए पर्याप्त कदन उठाने के संबंध में निर्देश दिए हैं।

उन्होंने संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए वुहान के जीनिन्टन अस्पताल में चिकित्सा कर्मचारियों से कहा, "आप जीवन बचाने के लिए हर तरह की कोशिश कर रहे हैं।"

उन्होंने कहा, "जब आप लोगों के जीवन को बचाने के लिए प्रयास कर रहे हैं तो आपको अपनी रक्षा भी करनी होगी।"

चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने सोमवार को कहा कि देश में अब तक वायरस के कारण 80 लोगों की मौत हो गई है, जिसमें 2,744 मामलों की पुष्टि हो चुकी है और इनमें से 461 की स्थिति गंभीर बनी हुई है।

बीजिंग में मीडिया को संबोधित करते हुए आयोग के रोग निवारण एवं नियंत्रण ब्यूरो के प्रथम-डिग्री निरीक्षक ही किन्हुआ ने कहा कि चंद्र नववर्ष समारोह के लिए बड़ी संख्या में प्रवासी श्रमिक देश के लिए लौट रहे हैं। इसलिए इस बीमारी के प्रसार को रोकना एक बड़ी चुनौती है।

चीन सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के शोधकर्ता फेंग लुजाहो के अनुसार, इस वायरस को रोकने का सबसे प्रभावी तरीका लोगों की यात्राओं को कम करके के साथ ही सार्वजनिक तौर पर बैठकों से बचना होगा।

न्यूज एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, चीन ने स्प्रिंग फेस्टिवल अवकाश को दो फरवरी तक आगे बढ़ाए जाने की घोषणा की है।

इसके साथ ही स्टेट काउंसिल जनरल ऑफिस द्वारा जारी सर्कुलर में कहा गया कि देश भर के विश्वविद्यालय, प्राथमिक और माध्यमिक स्कूल के सेमेस्टर की शुरुआत को स्थगित किया जाता है।

चीन के अलावा अन्य कई देशों में भी कोरोना वायरस की पुष्टि हुई है। थाईलैंड में आठ मामलों की पुष्टि हुई है, जिनमें से पांच को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। इसके साथ ही हांगकांग, अमेरिका और मकाओ में पांच, ऑस्ट्रेलिया, सिंगापुर, मलेशिया, ताइवान, फ्रांस और जापान में चार-चार मामले सामने आए हैं। वहीं दक्षिण कोरिया में तीन, वियतनाम में दो और नेपाल व कनाडा में एक-एक मामला देखने को मिला है।

पाकिस्तान में भी कोरोना वायरस के पांच संदिग्ध मामले सामने हैं, जिन पर फिलहाल निगरानी रखी जा रही है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia