यूक्रेन के कमांडर इन चीफ रूसी हमले में गंभीर रूप से घायल, फिर से कमान संभालने की उम्मीद नहीं

डॉक्टरों का कहना है कि 49 वर्षीय जालुज्नी जीवित रहेंगे, लेकिन अब कमांडर के रूप में अपने कर्तव्यों का पालन नहीं कर पाएंगे। 10 मई को नाटो की एक हाई-प्रोफाइल बैठक में भाग लेने से परहेज करने के बाद जालुज्नी की हालत के बारे में अटकलें सामने आने लगी थीं।

यूक्रेन के कमांडर इन चीफ रूसी हमले में गंभीर रूप से घायल
यूक्रेन के कमांडर इन चीफ रूसी हमले में गंभीर रूप से घायल
user

नवजीवन डेस्क

रूसी मीडिया ने दावा किया है कि यूक्रेन के सशस्त्र बलों के कमांडर इन चीफ जनरल वालेरी, जो पिछले कुछ समय से सार्वजनिक रूप से नहीं देखे गए हैं, वह कुछ हफ्ते पहले खेरसॉन के पास एक रूसी हमले में गंभीर रूप से घायल हो गए थे। अब उनकी सेवा में लौटने की कोई संभावना नहीं है। आरटी ने आरआईए नोवोस्ती के हवाले से कहा कि जालुज्नी को मई की शुरुआत में एक यूक्रेनी कमांड पोस्ट पर मिसाइल हमले में सिर में चोट लगी थी और कई छर्रे लगे थे।

रूसी एजेंसी ने एक सूत्र के हवाले से कहा है कि हड़ताल के बाद कीव के एक सैन्य अस्पताल में जनरल की खोपड़ी की हड्डी काट दी गई थी। डॉक्टरों का कहना है कि 49 वर्षीय जालुज्नी जीवित रहेंगे, लेकिन अब कमांडर के रूप में अपने कर्तव्यों का पालन नहीं कर पाएंगे। 10 मई को नाटो की एक हाई-प्रोफाइल बैठक में भाग लेने से परहेज करने के बाद जालुज्नी के ठिकाने के बारे में कई अटकलें सामने आईं।


ब्लॉक की सैन्य समिति के अध्यक्ष रॉब बाउर ने कहा कि कीव ने ब्रसेल्स को बताया कि यूक्रेन के कमांडर मास्को के साथ संघर्ष में जमीन पर 'जटिल परिचालन स्थिति' के कारण व्यक्तिगत रूप से और न ही वीडियो-लिंक के माध्यम से उपस्थित हो सकते हैं। जालुज्नी को तब से सार्वजनिक रूप से नहीं देखा गया है। भले ही हाल के दिनों में जो फुटेज ऑनलाइन सामने आया है, उससे पता चलता है कि वह ठीक हैं, लेकिन फुटेज उनके लापता होने से पहले के है।

हालांकि, शनिवार को यूक्रेन के उप रक्षामंत्री अन्ना मलयार ने दावा किया कि जालुज्नी का स्वास्थ्य अच्छा है और वह प्रभारी बने रहेंगे। उनके बारे में अफवाहें रूस द्वारा फैलाई जा रही थीं, ताकि अत्र्योमोवस्क के रणनीतिक शहर डोनबास की लड़ाई के दौरान यूक्रेनी सेना को मार गिराने की कोशिश की जा सके। मॉस्को ने शनिवार को अत्र्योमोवस्क पर 'पूर्ण कब्जा' करने की घोषणा की, लेकिन कीव अब तक अपने प्रमुख गढ़ के नुकसान को स्वीकार करने के प्रति अनिच्छुक रहा है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;