यूक्रेन में फंसे भारतीयों से नस्लीय दुर्व्यवहार कर रही है यूक्रेनी सेना, रिपोर्ट में समाने आई दोहरी पीड़ा

इंडो-पोलिश चैंबर ऑफ कॉमर्स के उपाध्यक्ष अमित लाठ ने दावा किया कि नस्लीय दुर्व्यवहार ही नहीं, बल्कि महिलाओं को पीटा भी गया है। साथ ही भारतीयों को कई दिनों तक रोके रखा जा रहा है या सीमा चौकियों (बॉर्डर-पोस्ट) पर यूक्रेन छोड़ने की अनुमति नहीं दी जा रही है।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

यूक्रेन से पोलैंड में घुसने की कोशिश कर रहे भारतीयों को यूक्रेनी सुरक्षा बलों द्वारा नस्लीय दुर्व्यवहार का सामना करना पड़ रहा है। पिछले एक हफ्ते से लगातार इस तरह की खबरें आ रही हैं और बीबीसी तथा सीएनएन दोनों ने शनिवार को इसकी पुष्टि भी की है।

इंडो-पोलिश चैंबर ऑफ कॉमर्स के उपाध्यक्ष अमित लाठ ने दावा किया कि नस्लीय दुर्व्यवहार ही नहीं, बल्कि महिलाओं को पीटा भी गया है। इसके साथ ही भारतीयों को कई दिनों तक रोके रखा जा रहा है या सीमा चौकियों (बॉर्डर-पोस्ट) पर यूक्रेन छोड़ने की अनुमति नहीं दी जा रही है।

इस बीच अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकेन ने शनिवार को पूर्वी यूरोप में उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) देशों का दौरा किया, जबकि रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के प्रवक्ता ने खुलासा किया कि दोनों देश कुछ चैनलों के माध्यम से बातचीत कर रहे हैं। क्रेमलिन के प्रवक्ता दिमित्री पेसकोव ने एक समाचार ब्रीफिंग में खुलासा किया, "हम संयुक्त राज्य अमेरिका के साथ बातचीत के कुछ चैनलों को बनाए हुए हैं।"

पेसकोव वाशिंगटन द्वारा लगाए गए प्रतिबंधों के बाद रूस और अमेरिका के बीच संबंधों की वर्तमान स्थिति और यूक्रेन पर रूसी आक्रमण के परिणामस्वरूप उनके बीच सामान्य रूप से तनावपूर्ण संबंधों पर एक प्रश्न का उत्तर दे रहे थे। वाशिंगटन की ओर से इसका कोई संपुष्टि या अनुसमर्थन नहीं किया गया था।


रूस-यूक्रेन दोनों युद्धरत देशों में हताहतों के दावे व्यापक रूप से भिन्न हैं, जो वास्तव में सुरक्षा के मोर्चे पर रणनीतिक लाभ के लिए रूस और पश्चिम के बीच लड़ाई है। रूसी समाचार एजेंसी टास के अनुसार, मॉस्को में रूसी रक्षा मंत्रालय के मेजर जनरल ओइगोर कोनाशेनकोव ने कहा कि रूसी सशस्त्र बलों ने शनिवार सुबह तक 2,000 से अधिक यूक्रेनी सैन्य बुनियादी सुविधाओं पर हमला किया है।

कोनाशेनकोव ने कहा कि कुल मिलाकर, ऑपरेशन के दौरान लगभग 2,037 यूक्रेनी सैन्य बुनियादी ढांचे की सुविधाएं प्रभावित हुईं। उनमें कीव बलों के 71 कमांड पोस्ट और संचार केंद्र शामिल हैं। इसमें एस-300, बुक और 9के33 ओसा मिसाइल सिस्टम और साथ ही 61 रडार स्टेशन भी शामिल हैं। उन्होंने आगे कहा कि कुछ 66 विमान जमीन पर और 16 विमान हवा में मारे गए, जबकि 708 टैंक और अन्य बख्तरबंद लड़ाकू वाहन, 74 मल्टीपल रॉकेट लॉन्चर, 261 फील्ड आर्टिलरी और मोर्टार, 505 यूनिट विशेष सैन्य वाहन और 56 मानव रहित हवाई वाहनों को भी नष्ट कर दिया गया।


रूसी रक्षा मंत्रालय ने जोर देकर कहा कि रूसी सैनिक यूक्रेनी शहरों को निशाना नहीं बना रहे हैं। इस बीच, रूस टुडे के यूरोपीय संघ, ब्रिटेन और संयुक्त राज्य अमेरिका में प्रतिबंधित होने के बाद, क्रेमलिन ने रूस में बीबीसी और सीएनएन जैसे पश्चिमी समकक्षों पर जवाबी कार्रवाई की है। यूएस सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक भी अब रूस में उपलब्ध नहीं है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia