यूएन एक्सपर्ट की रिपोर्ट में दावा- पत्रकार खशोगी की हत्या में सऊदी के क्राउन प्रिंस के खिलाफ ठोस सबूत

संयुक्त राष्ट्र की एक विशेषज्ञ ने कहा है कि पत्रकार जमाल खशोगी की पिछले साल अक्टूबर में हुई हत्या में सऊदी अरब के प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान का हाथ होने के ‘‘ठोस सबूत’’ हैं। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र महासचिव से मामले में आपराधिक जांच शुरू करने का आग्रह किया है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया

आसिफ एस खान

संयुक्त राष्ट्र की एक विशेष दूत ने बुधवार को एक रिपोर्ट में कहा कि इस बात के विश्वसनीय प्रमाण हैं कि सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान और अन्य उच्चस्तरीय अधिकारी पत्रकार जमाल खाशोगी की हत्या के लिए व्यक्तिगत रूप से उत्तरदायी हैं। संयुक्य राष्ट्र की अतिरिक्त जांचकर्ता एग्नेस कैलमार्ड की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि उपलब्ध सबूत मामले में आगे एक स्वतंत्र और निष्पक्ष अंतर्राष्ट्रीय जांच के योग्य हैं।

वाशिंगटन पोस्ट के लिए काम करने वाले और सऊदी युवराज के आलोचक पत्रकार जमाल खाशोगी 2 अक्टूबर 2018 में इस्तांबुल में सऊदी के वाणिज्य दूतावास के अंदर मारे गए थे। इस हत्या ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर आक्रोश पैदा किया और सऊदी के 33 वर्षीय क्राउन प्रिंस पर इस हत्या में शामिल होने के आरोप भी लगते रहे। हालांकि, सऊदी अधिकारियों ने इससे इनकार करते हुए शुरू में कहा कि उन्हें खशोगी के बारे में कुछ पता नहीं है, लेकिन बाद में कहा कि वाणिज्य दूतावास में कुछ दुष्ट तत्वों द्वारा उनकी हत्या की गई।

सऊदी जांचकर्ताओं ने मामले में प्रिंस सलमान को किसी भी तरह के आरोपों से दोषमुक्त कर दिया है। कैलमार्ड ने कहा कि उनकी जांच में इस संबंध में ठोस सबूत मिले हैं जिससे प्रिंस सलमान सहित उनके कुछ बड़े अधिकारियों की जांच आवश्यक हो जाती है।

कैलमार्ड ने कहा कि इस हत्याकांड में सऊदी अरब और तुर्की द्वारा अब तक की गई जांच अंतरराष्ट्रीय मानकों को पूरा करने में विफल रही हैं। स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञ कैलमार्ड ने संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुतारेस से मामले में औपचारिक आपराधिक जांच शुरू करने का भी आग्रह किया।

लोकप्रिय